16 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेबी 1 ईअर 3 month का हो gya है वो srif मेरा hi dud ptita ऑर कुछ khane नही मान रहा bs bar बार मेरे दूद की ही dimand कर्ता hai

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो बच्चे जब शुरुआत में दूध के बाद कुछ सॉलिड चीजें लेना शुरू करते हैं तो एकदम से उन्हें एक्सेप्ट नहीं कर पाते और खाना नहीं चाहते या तो उन्हें उनका स्वाद अच्छा नहीं लगता या उनकी थिकनेस के कारण वह नहीं खाना चाहते क्योंकि उन्हें खाना गटकने की आदत नहीं होती इसलिए बच्चों को लिक्विड के बाद डायरेक्ट सॉलि़ड ना देकर सेमी सॉलि़ड फूड देना चाहिए। सेमी सॉलि़ड फूड में सेरेलक दाल और चावल की मिक्स पतली खिचड़ी दलिया की खिचड़ी या दलिया का खीर चावल का खीर फलों की स्मूदीज या फ्रूट शेक देना शुरू करें बच्चा जब यह सब चीजें खाने लगे तो एक या दो माह बाद उसे यही सब चीजें थोड़ा गाढ़ा करके दे। और साथ में दाल चावल मसलकर और दूध रोटी मसल का या दाल रोटी मसलकर खिलाएं और जब बच्चा ऐसे भी खाने लगे तो उसके 2 महीने बाद फिर नॉर्मल खाना बच्चे को खिलाना शुरू करें स्टेप बाई स्टेप बच्चों के आहार को गाढ़ा करने से बच्चे आसानी से डाइजेस्ट कर लेते हैं और खाना भी सीख जाते हैं। इससे बेबी का वजन जरूर बढेगा।
Answer: आप उसे सबसे पहले दाल या चावल का पाणी दे और धीरे धीरे solid food देना start करे . अगर नही खा रहा तो तो उसे खेला खेल मे खिलाये , TV पर cartoons show दिखाये उसके साथ dance करे , गाना गाये ., खिलोने मे उसका मन लगाये
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera बेबी 1 ईअर 3 मंथ का हुआ है कुछ दिनों से वो srif मेरे दूद कि ही डिमाण्ड कर रहा ऑर कुछ बी नही खा रहा क्या करुण
उत्तर: ज्यादातर छोटे बच्चे खाना तभी नहीं खाते हैं क्योंकि उनको भूख नहीं लगती| और भूख नहीं लगने का कारण बहुत सारा karan सकता है| सबसे पहला कारण उनका पाचन क्रिया का अच्छे से नहीं होना दूसरा कारण पेट में कीड़े होने की वजह से भी बच्चे खाना नहीं खाते इन दोनों वजह से बच्चे को भूख नहीं लगती जिसे कि वह खाना नहीं खाता इसके लिए बहुत सारे उपचार है जिसे आप अपना कर बच्चे की भूख को बढ़ा सकती हैं और उनके पाचन क्रिया को भी ठीक कर सकती है| सबसे पहले तो आप बच्चे की खाने में मैदा वाली चीजें बिल्कुल ना दें क्योंकि मैदा बहुत जल्दी digest नहीं हो पाता aap बच्चे को जितना चाहे फिजिकल एक्टिविटी कराएं क्योंकि उनके खेलने से ही उनका खाना jaldi digest होता है aap उनके खाने में हींग का प्रयोग करें| उनको ज्यादा मसालेदार भोजन बिल्कुल नदी से गैस बनने की समस्या होती है| बच्चा जब भी खाना खाता है उसकी आधा घंटा बाद और आधा घंटा पहले ही पानी दे खाने के दौरान बिलकुल पानी ना लक पेट में कीड़ा होने से आप कुछ घरेलू उपचार करके बच्चे के पेट के कीड़े को खत्म कर सकते हैं आप बच्चे को अनार का रस पिला सकते हैं इससे बच्चे के पेट के कीड़े खत्म होते हैं। सुबह शाम अगर आपसे mishree में दही मिलाकर खाते हैं तो इससे भी पेट के कीड़े खत्म होते हैं। आप बच्चे को तुलसी का रस पिला सकते हैं इस से भी फायदेमंद होता है पिसी हुई काली मिर्च के साथ हल्का सा काला नमक मिलाकर बच्चे को खिलाएं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी 1 ईअर 3 मंथ का हो गया है वो khuch thik se nhi kha rha बस मेरे दूद hi pita rhta kya muje dud chudvana chaiye
उत्तर: ज्यादातर छोटे बच्चे खाना तभी नहीं खाते हैं क्योंकि उनको भूख नहीं लगती| और भूख नहीं लगने का कारण बहुत सारा karan सकता है| सबसे पहला कारण उनका पाचन क्रिया का अच्छे से नहीं होना दूसरा कारण पेट में कीड़े होने की वजह से भी बच्चे खाना नहीं खाते इन दोनों वजह से बच्चे को भूख नहीं लगती जिसे कि वह खाना नहीं खाता इसके लिए बहुत सारे उपचार है जिसे आप अपना कर बच्चे की भूख को बढ़ा सकती हैं और उनके पाचन क्रिया को भी ठीक कर सकती है| सबसे पहले तो आप बच्चे की खाने में मैदा वाली चीजें बिल्कुल ना दें क्योंकि मैदा बहुत जल्दी digest नहीं हो पाता aap बच्चे को जितना चाहे फिजिकल एक्टिविटी कराएं क्योंकि उनके खेलने से ही उनका खाना jaldi digest होता है aap उनके खाने में हींग का प्रयोग करें| उनको ज्यादा मसालेदार भोजन बिल्कुल नदी से गैस बनने की समस्या होती है| बच्चा जब भी खाना खाता है उसकी आधा घंटा बाद और आधा घंटा पहले ही पानी दे खाने के दौरान बिलकुल पानी ना लक पेट में कीड़ा होने से आप कुछ घरेलू उपचार करके बच्चे के पेट के कीड़े को खत्म कर सकते हैं आप बच्चे को अनार का रस पिला सकते हैं इससे बच्चे के पेट के कीड़े खत्म होते हैं। सुबह शाम अगर आपसे mishree में दही मिलाकर खाते हैं तो इससे भी पेट के कीड़े खत्म होते हैं। आप बच्चे को तुलसी का रस पिला सकते हैं इस से भी फायदेमंद होता है पिसी हुई काली मिर्च के साथ हल्का सा काला नमक मिलाकर बच्चे को खिलाएं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा दूद पीने का मान नहीं करता और कुछ भी मिटा खाने ने पे घबराहट होती है
उत्तर: हेलो ज्या दा परेशान ना हो प्रेग्नेंसी में दूध पी ना बहुत ही आवश्यक होता है क्योंकि दूध के माध्यम से ही आप के होने वाले बेबी को भरपूर मात्रा में कैल्शियम मिलेगी जिससे कि बेबी के हड्डियों का विकास बहुत अच्छे से हो पाता है यदि आप खा ली दूध नहीं पीना पसंद कर ती हैं आप को दूध का टेस्ट अच्छा नहीं लग रहा है तो आप दूध को कई फ्लेवर में बना कर पी सकते हैं जैसे कि अब बनाना शेक बनाकर पी सकती हैं या फिर आप कोई भी फ्रूट को दूध में ऐड करके पी सकते हैं आप दूध में केसर डालकर भी पी सकती हैं आप 2 दिन में सूखे मेवे को पीसकर उन्हें मिलाकर पी सकते हैं इससे आपको दूध भी पी पाएंगे और आप भरपूर मात्रा में विटामिंस भी मिलेंगेआप चाहें तो दूध की बनी हुई चीजें खा सकती हैं जैसे कि पनीर घी मक्खन दूध की बनी हुई खीर इन सब चीजों का उपयोग करके आप खुद दूध का सेवन कर सकते हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी वन ईअर का एच ऑर वो कुछ भि नही खाना चाहत एच क्या करु
उत्तर: आप परेशान ना हो , बच्चे इज उमर मे ऐसा करते है , आप कोशिश करते रहें बच्चे को खिलाने की , बच्चा खाने लगेगा .. खाना खिलाते समय बच्चे का आप धयान खाने से हटा दे , जब भि खाना खिलऐ बच्चे को एक जगह बिठा दे , बेबी के साथ कोई गेम खेले या कोई गाना गाये , बीच बीच मे बच्चे को खिलऐ , बच्चा पुरा नही खाता है तो फोर्स ना करे , कुछ देर बाद फिर खिलायें .. 1 साल के बेबी को हर 2-3घंटे मे कुछ ना कुछ खिलाना चाहिए .अगर बेबी सुबह 7-8बजे के आसपास उठता है तो सबसे पहले उसे स्तनपानं या बाहर का दूध पिलाये .फिर 10-11 बजे के आसपास कुछ सॉलिड अनाज जैसे oats,ragi,,dalia ,cerelac आदि milk के साथ बना कर दे सकते hai,बेबी को 6महिने milk ki आदत होती है इसलिए वो मीठा और दूध मिला हुआ खाना ज्यादा पसंद करते है . फिर बेबी अगर जगा हुआ है तो दिन मे 12बजे कोई भी फ्रूट juice जैसे एप्पल जूस ,ऑरेंज जूस ,अनार का जूस ,या banana ,chikoo आदि भी दे सकते है .कोशिश करें के उसे हर दिन अलग अलग फ्रूट का स्वाद मिले ,इससे बेबी खाने से बोर भी नहीं होगा और उसका taste bhi develop होगा . फिर दिन मे 2बजे तक उसे मिक्स वेज खिचड़ी ,या दाल चावल मैश कर के खिलाये .और खिचड़ी मे एक spoon घी या बटर भी डाल दे ,इससे खाने का स्वाद भी बढ़ जायेगा और बेबी सवस्थ भी रहेगा .कोशिश करें ki खाने के बाद बेबी 1-2घंटे की नींद ले ,इससे उसका खाना भी aache से digest होगा aur,शरीर का विकास भी होगा . फिर शाम मे बेबी के उठने के बाद दूध जरूर पिलाये और साथ मे एक बिस्कुट भी dip करके खिला सकते है . और फिर रात मे सोने से पहले कुछ सॉलिड खिला दे ,और बेबी अगर देर रात तक सोता है तो उसे एक बार और दूध पिला सकते है . कुल मिला कर दिन भर मे बेबी को 6-7बार खाना khilana चाहिए ,इससे बेबी का शारीरिक और मानसिक विकास दोनों होता है .
»सभी उत्तरों को पढ़ें