5 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेबी 5 महीने का है माई उसको खीर और फल पेस्ट कर के दे सकती हूँ

4 Answers
सवाल
Answer: उसे आप बाहर से ओरल कुछ भी मत दीजिए जब तक वह 6 महीने का ना हो जाए ,तब तक सिर्फ और सिर्फ उसको ब्रेस्टफीडिंग कराएं ,कहने का मतलब है 6 महीने के बाद ही उसको कुछ बाहर से दे वह भी सिर्फ एक चाइल्ड स्पेशलिस्ट से कंसल्ट करने के बाद ,जब आप उसे ब्रेस्ट फीडिंग कराती हैं उसे वह सारी पौष्टिक आहार मिलते हैं जो आप खाते हैं ,आप बिल्कुल चिंता मत करिए आपका बच्चा हेल्दी है उसे आपके मिल्क से सब कुछ मिल रहा उसके बॉडी की सारी रिक्वायरमेंट्स पूरी हो रही है
Answer: agar wo sirf 5 m9nths ki h to abhi na de baby atleast 5.5 month ki ho jaye uske bad aa0 de sakte h par thos aahar na de or khir ko bhi ache se mash karke de
Answer: dear baby ko 6 month bad he ye sb khaane ko den
Answer: nhi 6 month tk baby ko sirf apna dudh hi de
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेटा 5 mnths का है क्या में उसको कुछ khane के लिए दे सकती हूँ
उत्तर: जब तक आपका बच्चा 6 माह का ना हो जाए उसे स्तनपान के अलावा कुछ भी ना दे मां का दूध बच्चे के लिए अमृत समान है और अगर आप को दूध नहीं आ पा रहा है तो आप बच्चे को फार्मूला मिल्क भी दे सकती हैं बच्चे के लिए स्तनपान एक संपूर्ण आहार है, बढ़ते बच्चे के लिए जन्म से लेकर छह माह तक सभी जरूरी पोषण मां के दूध में उपलब्ध होते हंै, इसमें 85-90 प्रतिशत तक पानी ही होता है.इसलिए उसे अलग से पानी देने की आवश्यकता नहीं . छह माह तक ऊपरी दूध, ग्रिप वाटर, शहद, घुट्टी, पानी या खाना नहीं देना चाहिए
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी 5 मंथ 12 डे का है माई उसको क्या खिला सकती हूँ
उत्तर: उसे आप बाहर से ओरल कुछ भी मत दीजिए जब तक वह 6 महीने का ना हो जाए तब तक सिर्फ और सिर्फ उसको ब्रेस्टफीडिंग कराएं कहने का मतलब है 6 महीने के बाद ही उसको कुछ बाहर से दे वह भी सिर्फ एक चाइल्ड स्पेशलिस्ट से कंसल्ट करने के बाद जब आप उसे ब्रेस्ट फीडिंग कराती हैं उसे वह सारी पौष्टिक आहार मिलते हैं जो आप खाते हैं आप बिल्कुल चिंता मत करिए आपका बच्चा हेल्दी है उसे आपके मिल्क से सब कुछ मिल रहा उसके बॉडी की सारी रिक्वायरमेंट्स पूरी हो रही है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी 2 महीने का है क्या mai उसको लेट कर फीड करा सकती हूँ ?
उत्तर: बच्चे को कभी भी लेट कर दूध नहीं पिलाना चाहिए इससे दूध कान में भी जा सकता है जिससे बच्चे में कान बहने की दिक्कत हो सकती है आगे चलकर यह बहरेपन का रूप ले लेता देखिए लेट के दूध पीने से कभी भी गलती से बच्चे को दूध निगलने में दिक्कत हो सकती है जिससे उसे खांसी बगैरा आ सकती है इससे हो सकता है दूध नोज में भी चला जाए इसलिए लेटकर दूध पीना या पिलाना बिल्कुल सही नहीं है
»सभी उत्तरों को पढ़ें