12 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेबी 1 साल का है वह रोज पॉटी नहीं करता है 3 दिन में करता है वह भी बहुत टाइट!और बहुत रोता है जोर लगाने में

1 Answers
सवाल
Answer: अगर आपका बच्चा फार्मूला दूध पीता है तो उसे एक से दूसरे के बीच थोड़ा पानी पिलाते रहें ..दूध में बहुत ज्यादा पाउडर ना मिला है इससे बच्चे के शरीर में पानी की कमी हो जाती है जिससे कॉन्स्टिपेशन हो सकता है ..आपका बच्चा सॉलिड खाना khata है तो उसे बॉयल ठंडा किया गया पानी दे ..आप उसे 2 छोटे चम्मच आलूबुखारे का रस भी दे सकते हैं ..बच्चे को प्यूरी बनाकर या छोटे छोटे हिस्से में काटकर एप्पल , ग्रेप्स स्ट्रॉबेरी किशमिश दे सकते हैं इस meinकाफी फाइबर होता है मुनक्का की प्यूरी को ज्यादा फायदेमंद माना जाता है आप उसे यह पूरी एक या दो चम्मच पिला सकती हैं ..बच्चे के खाने में दालें भी शामिल करें ..अगर घरेलू उपचार से काम ना चले तो डॉक्टर से जरूर सलाह लें
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेबी 2-3 दिन में पॉटी करता है और बहुत टाइट पॉटी करता है पॉटी करने के बाद रोता बहुत है कुछ उपाय बताए
उत्तर: अक्षर छोटे बच्चे जो मां के दूध पर डिपेंड रहते हैं उन्हें कभी-कभी कब्ज की परेशानी हो जाती है जिस वजह से उन्हें पार्टी बहुत टाइट होती है और उसे निकालने में परेशानी होती है इसलिए बच्चा अक्सर पार्टी करके रोने लगता है इस स्थिति में आप बच्चे को पेट में हल्के हाथों से मालिश करें बच्चे को गुनगुने पानी से नहलाएं बच्चे की मालिश करते समय आप बच्चे के पैरों को साइकिल की तरह चलाएं इससे बच्चे को कब्ज की परेशानी नहीं होगी और आसानी से पार्टी हो जाएगा अब चाहे तो बच्चे की पॉटी करने के बाद पार्टी वाले स्थान में कोई एंटीसेप्टिक क्रीम लगा दे उससे भी बच्चे को अगर उस जगह दर्द हो या छिल गया हो तो राहत होगी
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 1 साल का बेटा जब भी पॉटी करता है , उसे बहुत दिक्कत आती है। वह कभी कभी रोने लगता है। उसकी पॉटी बहुत ही टाइट होती है।
उत्तर: आप अपने बच्चे के पेट पर अच्छी तरह मालिश करें, उसे थोड़ा एक्टिव रहने दें जैसे खेलने कूदने दें। ध्यान रखे की वह अधिक से अधिक पानी पिए और उसे सेब के जूस जरूर दें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी रोज पॉटी नहीं करता है 3 दिन 4 दिन के बाद करता है
उत्तर: जी हां मेरा बेटा भी जब छोटा था तो उसे अक्सर चार-पांच दिन के अंतराल में पार्टी होती थी तो मेरी सांस कहती थी कि ऐसा होना नॉर्मल है और अच्छी बात है लेकिन कभी-कभी मेरे बच्चे की पेट खुली हुई लगती थी और कभी-कभी पेड़ छूने से बाहर होता था तो मेरे साथ बच्चे के पेट की हल्के हाथों से मालिश करती थी और बच्चे के पैरों को साइकिल की तरह चलाती थी कुछ देर उसे गुनगुने पानी में नहीं लाते समय बैठा कर खिलाती थी जिससे उसे आसानी से पार्टी हो जाता था आप भी परेशान ना हो छोटे बच्चों को ऐसी परेशानियां हो ना नॉर्मल है
»सभी उत्तरों को पढ़ें