15 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेबी अब 14 का हो chuka ह और mere बैक में hamesa पेन rahta ह

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर आपको दिन में दो से तीन बार गरम पानी से अच्छे से सिकाई करनी चाहिए और नहाने के लिए भी गुनगुने पानी का इस्तेमाल करना चाहिए, इससे आपकी मांसपेशियों को आराम मिलता है, जिससे आपको कमर दर्द से राहत पाने में मदद मिलती है। डिलीवरी के बाद महिला को अपने आहार का खास ध्यान रखना चाहिए महिला को हरी सब्जियां, फल आदि भरपूर मात्रा में खाने चाहिए और थोड़े थोड़े समय बाद कुछ न कुछ खाना चाहिए ऐसा करने से उनके शरीर में पोषक तत्वों की मात्रा भरपूर रहती है, जिससे उन्हें कमर दर्द की समस्या से बचाव करने में मदद मिलती है।अपनी नींद को भरपूर लेना चाहिए ताकि उसके शरीर को आराम मिल सकें और उसे कमर दर्द की समस्या से राहत मिल सकें।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मरी वाइफ को ट्विन्स बेबी ह और उनको बैक पेन जयद होता ह?
उत्तर: हेलो डियर प्रेग्नेन्सी में पीठ में दर्द होना तो समान्य है मै आपको कुछ उपाय बता रही जीस्से आप पीठ दर्द में आराम ल सकती है भरपूर नीन्द लें इसके लिए आप एक ही करवट में ना सोएं करवट बदल बदल कर सोएं ऑर एक पैर के घुटनों को उपर मोड कर सोएं एक तकिया अपने घुटनों के बीच में ऑर दूसरा तकिया पेट के नीचे लगकर सोएं एस में आपको अराम मिलेगा अदिक वज़न ना उठा ए ऑर जादा हिल वाली सेन्देल का यूज़ ना करें व्यायाम करें पिट का सही तरीके से हलके हाथों से मसाज करवाऐ
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा पिरियड 6 डिसेम्बर को हुआ है और अब मुजे बैक पेन हो रहा है क्या माई प्रेग्नेन्ट हु
उत्तर: अगर आपकी पीरियड 6 जनवरी को मिस हो jaye तो आप नेक्स्ट मॉर्निंग प्रेगनेंसी किट से यूरिन प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकती हैं। यूरिन प्रेगनेंसी टेस्ट करने के लिए आप मॉर्निंग का पहला यूरिन यूज कीजिए, इससे आपको कंफर्म रिजल्ट मिलेगा। अगर आपकी प्रेगनेंसी पॉजिटिव है तो यह बहुत खुशी की बात है और आगे के लिए डॉक्टर से सलाह ले सकती हैं जिससे आपको वह कुछ जरूरी मेडिकेशन और टेस्ट लिख कर देंगे। अगर आपकी प्रेगनेंसी नेगेटिव है तो भी आप एक बार डॉक्टर से मिल सकती है जिससे डॉक्टर आपके पीरियड ना आने का पता लगाएंगे और आपको उचित सलाह देंगे
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बैक पेन ह ऑर पेट मे वी दर्द हो रहा ह रुक रुक ke
उत्तर: आप तुरंत अपने डॉक्टर से कंसल्ट करें क्योंकि आपका डिलीवरी टाइम बिल्कुल नजदीक है और डिलीवरी कासिम है कि बैंक में पेन होता है कमर में दर्द होता है रुक रुक के पेट में भी दर्द होता है बार-बार वॉशिंग जाने का मन होता है इसलिए अपने डॉक्टर एडवाइस जरूरी ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी 11 month से jayda का हो गया h bt थोड़ा वीक h plz अडवीसे me
उत्तर: Hii Early HoursStart the day of your child with a cup of full cream milk. Breakfast For breakfast the parents can give any of the following things to their child.½ cup cooked Dalia.½ or 1 stuffed parantha with a stuffing of vegetables or paneer.½ cup suji upma.½ or 1 small cheela stuffed with vegetables to give it a colorful look.1 small idli.Poha .Brunch For brunch parents can give their children a cup of juice or a bowl of fruit chat. Lunch Lunch should include all the important nutrient rich dishes. For lunch the parents can give any of the following things.1/2 cup daal with a chapatti or ½ cup rice.½ cup vegetable biryani.¼ cup of daal, a small chapatti and some seasonal vegetables.Any paneer based veggie with a chapatti or ½ bowl of rice .Snacks You can give your child a small bowl of fruit salad or a cup of vegetable soup or a glass of milkshake of your child’s favorite fruit or you can make fruit smoothies .Dinner For dinner you should give your child something light and easy to digest food. Following is the list of dishes that you can give your child.½ cup vegetable khichri with curd.½ cup of soya granules along with a chapatti and some veggie.Dosa with chutney and sambhar.Vegetable cutlets.A small vegetable pizza.Aloo parantha with butter or curd. Here are some pointers that you can keep in mind regarding your baby's diet. Remember it is an important stage of development, so take extra care of your baby's diet.  Start giving him new food but only one at a time and see if your child likes it and is not allergic to it.Do not give your child things like popcorns or nuts which have chances of choking the food pipe.Instead of breast feeding start giving your child whole milk so that it fulfils the need of fats in his body.Feed your child 5-6 times a day in small proportions.Give him different things to it so that he develops taste for all the things and enjoy eating them.Do not give your child soft drinks, chocolates or any such thing that would make him addictive and harm him as these things contain harmful chemicals.Encourage your child to eat fruits. Seasonal fruits are very healthy and nutritious.
»सभी उत्तरों को पढ़ें