1 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेटा वन मंथ का हो gya ऑर मेरे सर म जुये हो गयी भोत जयाद मैडम प्लेज़ बताये क्या kru

1 Answers
सवाल
Answer: मेडिकर शैंपू से बाल धो लियो मेडिकल तेल लगाएं
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेटा वन मंथ 9 डेज का हैं ..खाँसी हो गयी हैं उसको ...और mughe भी हैं खाँसी ...
उत्तर: बच्चे के लिए - २ से ३ लहसुन की कली को आधा चम्मच अजवाइन क साथ पीस कर उसकी पोटली बना दे. और उसको बच्चे के सोने की जगा के बाजु में रखे , ऐसे रखे की उसकी स्मेल उसे आये पर वो उसको डायरेक्ट टच न हो. आप उसके सोने की जगा क आजु बाजु २- ४ ड्रॉप्स नीलगिरि आयल बी लगा सकते हो. उसकी स्मेल से भी उसे रlहत होगी. बच्चे को ज्यादा ब्रैस्ट फीडिंग करवाते रहे. अगर आपके बच्चे का नाक जम गया है तो आप डॉ के पास से नेसल ड्राप ले सकते हो. इससे भी बच्चे को काफी आराम होगा. आप २ कप पानी में एक चम्मच अजवाइन , आधा चम्मच हल्दी पावडर , एक चुटकी मरी पावडर , तुलसी के पत्ते , अदरख ये सब डाल के पानी को उबाले. उसे छान कर उसमे से दिन में २ से ३ बार एक दो घुट पिए. इससे काफी राहत होगी. गर्म दूध में हल्दी भी मिला कर पि सकते हो. गर्म दूध में तुलसी के पत्ते और अदरख उबालकर भी पि सकते हो. आप चाहे तो गर्म पानी की भाप से नास भी ले सकते हो. इससे आपको काफी राहत होगी.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा वन मंथ का हैं .उसको हलकी सर्दी की शिकायत हो गयी हैं ..
उत्तर: हेलो डियर जैसे ही मौसम चेंज होता है बच्चों को सर्दी जुकाम होना नॉर्मल है डियर आप चिंता नहीं करें आप नीचे दी गई रेमेडी को फॉलो करें : अपने बच्चे को अपना दूध पिला आएंगे बच्चा उतनी जल्दी अच्छे से रिकवर होगा -कप सरसों के तेल में अचवाइन और लहसुन की 10 कलियां लेकर उसे पकाएं, थोड़ा ठंडा होने पर उससे बच्चे की मालिश करें। इससे बच्चे को काफी राहत मिलेगी। दरअसल सरसों के तेल, लहसुन और अजवाइन में कीटाणु रोधक और विषाणु रोधक गुण होते हैं। इसके अलावा आप सरसों के तेल में जायफल भी डाल सकती हैं। जायफल गर्म होता है, ऐसे में इसके मिश्रण वाले तेल से हुई मालिश से जुकाम खत्म होगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेम मेरा 5 मंथ ह मेरे कलेजे और पेट में भोत जलन ह पी.एल.जेड. बताये म क्या करु
उत्तर: हेलो डियर आपके पेट और सीने में जलन ऍसिडिटी की वजह से हो सकती है । एसिडिटी एक आम समस्या है जो प्रेगनेंसी के दौरान अधिकतर महिलाओं को हो जाती है।इससे बचने के लिये आप सन्तुलीत और पौस्तिक भोजन कीजिये।तैलीय और वसा युक्त भोजंन का सेवन मत किजिये।ज्यदा से ज्यादा मात्रा मे पानी पीजिये।चिन्ता मुक्त रहिए । एसी कोई भी चीज़ मत पिजिये या खाइये जिससे आपको ऍसिडिटी की समस्या हो ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें