8 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेटा रात को ठीक से सोता नही है नीन्द मे हि रोता रहता हे

1 Answers
सवाल
Answer: Hello dear ho sakta hai usse bhook lgti ho.isliye rota hai .aap raat ko beech beech me uth kar baby ko feed de diya kro
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेटा रात मे जल्दी नही सोता रोता है
उत्तर: हेलो डियर ,,,,आप परेशान न हो बच्चे जैसे जैसे ग्रोथ करने लगते हैं मतलब कि जैसे जैसे बच्चों की आयु बढ़ती जाती है नींद की मात्रा में कमी होती जाती है इसलिए बच्चे धीरे-धीरे कम सोने लगते हैं अगर बच्चे सो रहे हो तो आप इस बात का ध्यान रखें कि वातावरण पूरी तरह से शांत हो जिस कमरे मे बच्चा सो रहा वहां की लाइट बहुत ही उजाला युक्त ना हो ना ही एकदम अंधेरे में बेबी को सूलाएं कोशिश करेगी बेबी सो रहा हो उस समय किसी भी प्रकार का शोर इत्यादि ना हो|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा रात को सोता नही है .. बार बार नीन्द से j
उत्तर: hello बच्चे अक्सर भूखे होने पर गहरी नींद नहीं ले पाते। आप ध्यान दें कहीं बेबी भूखा तो नहीं है या बच्चे के पेट में गैस बनता है जिसके कारण बच्चे के पेट में दर्द बना रहता होगा और बच्चा रोता होगा। क्या बच्चे को डायपर की वजह से रेसेस हो गए हैं।कभी-कभी बच्चे पॉटी की जगह पर कीड़ा काटने से भी पूरी नींद नहीं ले पाते यह सब कारण बच्चे के नहीं सोने के हो सकते हैं लेकिन अगर आपका बच्चा कम सोता है और और स्वस्थ है तो घबराने वाली कोई बात नहीं है। आप बच्चे को शाम के समय सोने ना दे जो बच्चे शाम के समय सो जाते हैं वह रात में सोते नहीं हैं। परेशान ना हो ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 3 महिने का बेटा है बो रात को ठीक से नही सोता है उसको भी नही होती है बितर भी नही रहता है फिर भी ठीक से नीन्द नही लेता है
उत्तर: जब आपका शिशु शारीरिक और मानसिक विकास की नई सिद्धियां हासिल करने लगता है, तो वह अपने नए सीखे कौशल का अभ्यास करने के लिए रातों को उठ सकता है। मगर, इसके बाद उसे दोबारा सोने में मुश्किल हो सकती है। अगर, शिशु की तबियत ठीक न हो, तो भी उसके नींद की दिनचर्या अस्त-व्यस्त हो सकती है। आपका शिशु दिन में अलग-अलग समय पर झपकी ले सकता है, जिससे उसको रात में देर से नींद आएगी। हो सकता है वह रात में सोने के लिए तैयार न हो या फिर रात में ऐसे समय उठने लग सकता है जब वह सामान्यत: सोता है।  शिशु को सुलाने के लिए बहुत सी अलग-अलग रणनीतियां हैं। शिशु को रोते रहने देने से लेकर उसे अपने साथ सुलाने तक बहुत सी नीतियां आपके सामने होती हैं। निर्णय आपको करना होता है कि आपके और आपके परिवार के लिए कौन सी रणनीति सही रहेगी।  आप शिशु के नींद के पैटर्न को नियमित करने से आरंभ करें। शिशु को शुरुआत से ही सोने की अच्छी आदतें सिखाएं। नीचे दिए गए सुझाव व तकनीक शिशु को करीब छह सप्ताह से ही अच्छी तरह सो पाने में मदद करेंगे। मगर, यह भी ध्यान में रखें कि आप चाहे कोई भी रणनीति अपनाएं, यह तभी काम करेगी जब आप लगातार इसका पालन करें।  निश्चित दिनचर्या का पालन करें। अगर आप सारे दिन शिशु की दिनचर्या एक समान रखें तो रात को शिशु के सोने का समय तय करने और उसे सुलाने में ज्यादा मुश्किल नहीं होगी। वह आराम से सो जाएगा। अगर शिशु हर दिन समान समय पर सोए, खाए-पीए, खेले और रात में भी उसे समान समय पर सुलाया जाए, तो पूरी संभावना रहती है कि शिशु बिना किसी परेशानी के आसानी से सो जाएगा। दिन के समय दूध पिलाते समय शिशु से बातें करें और माहौल को उत्साहपूर्ण बनाए रखें। वहीं, रात में दूध पिलाने के समय एकदम शांति होनी चाहिए। इससे आपके शिशु को अपने शरीर को उसी तरह ढालने में मदद मिलेगी और वह दिन व रात का अंतर समझ सकेगा।  शिशु जब छह से आठ महीने का हो जाए, तो उसे अपने आप सोने का मौका दें। जब शिशु को नींद आने लगे, मगर वह सोया न हो, तब उसे बिस्तर पर पीठ के बल लिटाएं। अगर आप गोद में शिशु को हिलोरे देते हुए या फिर दूध पिलाते हुए सुलाएंगी, तो शिशु को इसकी आदत पड़ जाएगी। वह खुद सोने का प्रयास नहीं करेगा। मगर, यह आपको देखना है कि आपके लिए बेहतर हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी सोता नहि ऑर वो लगातर रोता हि रहता हे ऑर उसे गोद में लेट चुप हो जता हे रात को वो सोता हाइ नही
उत्तर: हेलो . माम आप का बेबी बहुत छोटा है .. बेबी के अचानक रोने के बहुत से karan हो सकते है .. जैसे बेबी को भूख लगना ... खुजली होना , पेट दरद होना ऑर भि बहुत कुछ . आप जितना हो सकें बेबी के आस पास हाइ रहने की कोशिश करे . क्यूकी वो आप को हाइ देख कर सबसे जयाद खुशी का अनुभव करेगा .. ऑर बेबी का पेट अगर आप के दूध से नही भाr रहा है टु आप बेबी को फॉरम्यूला मिल्क भि दि सकती है .. आप बेबी को घुमाने बहार भि ले के जाया करे . इसे बेबी को भि अच्छा लगेगा ... बेबी को कइ बार गैस के कारण भि पेट मे मरोड़ होता है . ऑर बेबी रोने लागत है . To aap baby k pet par nariyal tel or thanda pani milakar halke hatho se massage kare...esse baby ko aaram milega..aap baby ko thoda swing bhi kara sakti hai...esse baby ko accha lagega...or baby ho sakta hai...soo bhi jaye...आप को बेबी के आस पास के चीज़ का भि धयन रख ना होगा . जीस्से बेबी को taklif हो ..
»सभी उत्तरों को पढ़ें