15 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेटा 16 महीने का है उसे पिछेके दाँत आ रहें है to बोहोत रो रहा है प्लीज़ मुझे कुछ उपाय बताएये

1 Answers
सवाल
Answer: बचो को potty aur pet dardइसलिए होटी है क्युकी दाँत निकलते समय वो बार बार अपन हाथ मुह me leजाते हैं जिससे उन्हें इन्फेक्शन होता है और फ़िर potty .. इस्लीई समय समय पर उनके हाथ धुलाता रहिए आप बच्चे के मसूड़ो को मलमल के कपडे से मसाज कर सकती हैं।।। उन्हें गाजर के लम्बे टुकड़े काटकर पकड़ा सकती हैं जिन्हे चबाकर व अपने मसूड़ो को आराम डग।।।लकिन बच्चे को चोकिंग होने का खास ध्यान राखियेगा।।। आप बाजार से तीथर ले कर भी बच्चे को दे सकती हैं।।ये नरम प्लास्टिक के की जेसे होते हैं जिसमे गरूवे बने होते है जो मसूड़ो को मसाज करने में सहायता करते हैं।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेटा 16 महीने का है उस को लूज़ मोशन हो गयें हैं दाँत निकल रहें हैं दवाई से भी आराम नही आ रहा क्या करु
उत्तर: जब कभी बच्चों में दस्त की समस्या हो एक चौथाई जायफल के पाउडर को आप गुनगुने पानी के साथ दिन में 2-3 बार बच्चे को चटाएं, जल्द ही आराम मिलेगा.  अगर गर्मी के मौरम में दस्त हो जाएं तो 2-3 ग्राम बेल के गूदे को दिन में 2-3 बार बच्चे को खिलाएं, दस्त से छुटकारा मिल जाएगा. बच्चों में दस्त होने पर अनार बहुत ही फायदेमंद होता है। जब भी ऐसी कोई समस्या आए तो 5-10 ग्राम अनार के छिलके को सुखाकर उसका पाउडर बना लें। अब उस पाउडर को शहद के साथ मिलाकर बच्चे को दिन में थोड़ी-थोड़ी देर में चटाते रहें.  सौंफ के पाउडर को पानी में अच्छी तरह से भिगों लें। अब इसमें बेलगिरी मिलाकर बच्चे को थोड़ी-थोड़ी देर में पिलाते रहें, जल्द आराम मिलेगा राइस पाउडर भी दस्त को दूर करने में बहुत ही मददगार साबित होता है। अगर आपके बच्चे को दस्त की समस्या हो रही है तो एक मुट्ठी राइस पाउडर को पानी में मिलाकर कम से कम 10 मिनट पका लें। अब इसमें थोड़ा सा नमक और बाद में उसमें कम से कम एक लीटर पानी मिलाकर पतला कर लें। अब इस पतले मिश्रण को बच्चे को पिलाएं, जल्द ही आराम मिलेगा बच्चे में दस्त के दौरान इन बातों का रखें ख्याल। शरीर में पानी की कमी को पूरा करें बच्चे को ORS का घोल पैकेट पर दिए गए निर्देशों के अनुसार तुरंत देना प्रारम्भ करें। हर बीस से पचीस मिनिट पर देतें रहें। ORS ना मिलने की स्थिति में आप इसे घर पर ही तैयार कर सकते हैं। आठ छोटा चमच चीनी, एक छोटा चम्मच नमक को एक लीटर पानी में घोलें और बच्चे को थोड़े थोड़े समयांतराल पे पिलायें।  स्तनपान करते रहें अगर बच्चा स्तनपान पे है तो थोड़ी थोड़ी देर पे लगातार स्तनपान करते रहें। ऐसे कर के आप बच्चे के शरीर में पानी की कमी को रूक सकते हैं।  अगर बच्चा ठोस आहार खाने लायक हो गया है तो उसे खाने को केला दें। बच्चे को सूप भी दे सकते हैं। बच्चे को हरी भोजन से दूर रखें। थोड़ा थोड़ा खाने को दें और थोड़ी थोड़ी देर पे लगातार देते रहें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा 15 महिने का है उसे picheke दाँत आ रहें है
उत्तर: अगर आपकी बेटी का दाता रहा हो तो यह समय उसके लिए बहुत दर्द भरी होती है बच्चों का दांत निकलता है तो बहुत सारी हरकतें करते हैं जैसे उंगलियों का मुंह में डालना बार-बार उन्हें उल्टी दस्त का परेशानी होना और कभी-कभी तो फीवर भी आ जाते हैं ऐसे में बच्चों को बहुत प्यार से संभालना होता है दांत आने के समय मसूड़ों में बहुत खुजली और दर्द होता है अगर आपको पता चले कि दांत आ रहा है तो आप उससे पहले मसूड़ों को किसी सॉफ्ट कपड़े से मसाज करें और हो सके तो बच्चे को कोई फल या गाजर को उंगली के आकार का काट कर दे दे दे जिससे कि अगर वह गाजर या फल खाएगी तो उसे उसके मसूड़े में ब्लड का सरकुलेशन अच्छे से होगा जिससे दांत आने में थोड़ा कम परेशानी होगा इस टाइम बच्चों को बहुत ज्यादा पोषक तत्वों की जरूरत होती है इस टाइम उसे ऑफ़ कैल्शियम वाली चीजें खिलाएं से दूध पनीर अंडा यह सब दे सकती हैं और ज्यादा से ज्यादा पानी दे और सबसे अच्छा ग्राइप वाटर होता है जब बच्चों का दांत आता है उस टाइम पर उसे ग्राइप वाटर देना चाहिए यह बहुत मददगार रहता है के मसूड़ों में होने वाली दर्द से राहत दिलाता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: माम मेरा बेटा 10 महीने का है उसका दाँत नही आ रहा है क्या करे
उत्तर: हेलो डियर ,सभी बच्चों की ग्रोथ लगभग एक समान नहीं होती है बच्चों के दांत 6 महीने से लेकर 15 महीने तक निकलते हैं कुछ बच्चों में सही पोषण तत्व ना मिलने के कारण जैसे कि विटामिन डी और कैल्शियम की कमी के कारण दांत निकलने में देरी हो सकती है| बेबी को विटामिन D के लिए धूप में कम से कम 10 से 15 मिनट तक रखें | baby ko केला, दूध, पनीर, छाछ, दही ,हरी पत्तेदार सब्जियां गाजर ,चुकंदर ,पालक ,ब्रोकली, शकरकंद ,पनीर ,अंडे ,मछलियां अंकुरित अनाज, दलिया ,रागी, ड्राई फूड्स बेबी के भोजन में शामिल करें , 16 महीने के बाद भी बेबी के दांत ना आए तब आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं |
»सभी उत्तरों को पढ़ें