6 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेटा 5 मंथ 22 दिन का हुआ ह उसके स्टूमक पे और बैक पे वाइट स्पॉट्स हो गये ह क्या करण हो सकता हे

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर .. सफेद दाग की समस्या शरीर में पोषक तत्वों की कमी के होने से होती है .अगर प्रेग्नेंट लेडी को यह समस्या है तो उसके होने वाले बच्चे पर इसका कोई प्रभाव नहीं आप परेशान मत होइये . खाने पीने मे आपना ध्यान रखिए . डॉक्टर के दिए सुप्पलिमेन्तस समय पr लें . प्रेगनेंसी के समय मिल्क प्रोडक्ट calcium और प्रोटीन बहुत जरुरी होता है। डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन की मात्रा काम होने से बच्चे की ग्रोथ में बहुत अंतर आता है। प्रोटीन जरूरी पौशाक तत्वों में से है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की kaam मात्रा बच्चे के sahi विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।  बस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है।  इनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना. ओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है .
Answer: यह एक ऑटो immune डिसऑर्डर होता है जो शरीर की इम्युनिटी का उल्टा असर होने लगता हैl जिसके कारण यह शरीर को नुकसान पहुंचाने लगती है शरीर में खराब इम्यूनिटी के वजह से ही सफेद दाग जैसे समस्या आने लगती हैl खराब इम्यूनिटी के वजह से शरीर में स्क्रीन का रंग बनाने वाली कोशिकाएं मरने लगती है जिसके कारण शरीर पर जगह-जगह पर सफेद धब्बे पड़ने लगते हैंl यह बच्चों में ज्यादातर क्रॉनिक इंफेक्शन की वजह से होता है यदि बच्चे का लगातार पेट खराब हो या फिर गले की खराबी की वजह से यह सफेद दाग बच्चों में ज्यादातर दिखते हैंl इसके लिए आपको मेरी सलाह यही रहेगी कि आप एक बार फिर यात्री डॉक्टर से सलाह लें क्योंकि यह कभी-कभी समस्या का कारण बन सकता है और हो सके तो बच्चे को सूर्य की रोशनी में ज्यादा रखें यह फायदेमंद ट्रीटमेंट होता हैl
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेटा 2 मंथ 22 दिन का ह मेरा दूध उसके लिएparrpt
उत्तर: पम्पिंग सेशन से स्तन में दूध की मात्रा बढ़ती है। दूध की आखिरी बूंद के बाद करीब 5 बार स्तन को पंप करें। स्तन से ज्यादा दूध की मांग करने पर शरीर को ज्यादा दूध उत्पादन का संदेश जाता है। स्तनपान कराते समय स्तन को बदलें: जब भी आप स्तनपान कराएं तो स्तन को बराबर बदलें। इससे शरीर में दूध उत्पादन की मांग बढ़ेगी। साथ ही इससे आपका बच्चा भी आराम से स्तनपान कर सकेगा। दरअसल इससे स्तन खाली होता है और ज्यादा दूध का उत्पादन होता है। एक बार स्तनपान कराते समय कम से कम दो से तीन बार स्तन बदलें। मेथी ,लहसुन खाएं ऐसी चर्बी जो कि घी, बटर या तेल से मिलती हो, वह ब्रेस्‍ट मिल्‍क बढाने में बहुत कारगर होती है। यह शरीर को बहुत शक्‍ति प्रदान करते हैं। आप इन्‍हें चावल या रोटी के साथ प्रयोग कर सकती हैं जई का दलिया,इससे दूध का उत्पादन बढ़ता है तुलसी: इसमें विटामिन के पाया जाता है, जिसे खाने से ब्रेस्‍ट मिल्‍क बढता है करेला,करेला बनाते वक्‍त हल्‍के मसालों का प्रयोग करें जिससे यह आसानी से हजम हो सके
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी 4 मंथ का है गले मे वाइट स्पॉट्स हो गये है
उत्तर: hello...आप क बेबी क बॉडी पे जो सफ़ेद दाग है..वो किसी क्रीम क reaction , या तेल se या बैक्टीरियल इन्फेक्शन ,या जेनेटिक भी हो सकता है...अभी आप की बेबी बहुत छोटी है और उसकी स्किन भी बहुत सॉफ्ट or sensitive hai..आप कुछ घरेलु चीज़े उसे कर क भी इन्हे बढ़ने से रोक सकती है..जैसे आप हल्दी और सर्सो क तेल को मिला कर इफेक्टेड एरिया मई लगा सकती है।इसके अलावा आप हनी ,ह्लदि,चनदन powder ..rice पाउडर को मिलकर भी लगा सकती है..आद्रक क रस में लाल मिटटी मिला कर लगा ने से भी rahat मिलेगी...ओर ये daag बाड़ने लगे तो आप डॉक्टर क पास जाए...Ok.take care dear
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 8 मंथ की ह उसके फेस पे वाइट स्पॉट हो गये है इसक क्या करण है
उत्तर: hello...आप क बेबी क बॉडी पे जो सफ़ेद दाग है..वो किसी क्रीम क reaction , या तेल se या बैक्टीरियल इन्फेक्शन ,या जेनेटिक भी हो सकता है...अभी आप की बेबी बहुत छोटी है और उसकी स्किन भी बहुत सॉफ्ट or sensitive hai..आप कुछ घरेलु चीज़े उसे कर क भी इन्हे बढ़ने से रोक सकती है..जैसे आप हल्दी और सर्सो क तेल को मिला कर इफेक्टेड एरिया मई लगा सकती है।इसके अलावा आप हनी ,ह्लदि,चनदन powder ..rice पाउडर को मिलकर भी लगा सकती है..आद्रक क रस में लाल मिटटी मिला कर लगा ने से भी rahat मिलेगी...ओर ये daag बाड़ने लगे तो आप डॉक्टर क पास जाए...Ok.take care dear
»सभी उत्तरों को पढ़ें