2 साल का बच्चा

Question: मेरा बेटा बहुत शाय नेचर का है मैं क्या करूं

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो अभी आपका बेबी बहुत छोटा है और हर बच्चों की अपनी अलग नेचर होती है अगर आपका बेबी शर्मिला है तो आप परेशान ना हो जो बच्चे ज्वाइंट फैमिली में रहते हैं वह ज्यादा खुले हुए होते हैं और जो बच्चे सिर्फ मम्मी पापा के पास रहते हैं वह बच्चे शर्मीले रहते हैं आप अपने बेबी को उसके उम्र के दूसरे बच्चों के साथ रोज मिलवा ए और उनके साथ कुछ समय गुजारने दे बच्चा जब रोज-रोज अपने अमृत दोस्तों से मिलेगा तो पर उनसे फ्री हो जाएगा और धीरे-धीरे बच्चे की शर्माने की आदत छूट जाएगी
Answer: हेलो डियर 2 साल का बच्चा बहुत छोटा होता है और 2 साल के बच्चे ज्यादातर अपनी मां से ही चिपके रहते हैं और शायद ही होते हैं बच्चे जैसे जैसे बड़ा होगा ठीक हो जाएगा अभी से इतनी टेंशन मत लीजिए अभी बच्चे की ग्रोथ पर ध्यान दीजिए उसको खेलने दिया कीजिए और लोगों के साथ जैसे-जैसे उसके दोस्त बनते जाएंगे बड़ा होता जाएगा साइनस उसकी खत्म होती
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera 13 month ka beta hai use bahut khaasi aa rahi hai mai kya karu
उत्तर: हेलो डियर- आप छोटे बच्चों को सर्दी खांसी जुकाम और कफ से राहत के लिए कुछ घरेलू उपाय कर सकती हैं। 1)एक चुटकी अजवाइन दस चम्मच सरसो तेल और लहसुन की दस कलियां लेकर उसे पकाए, ठंडा होने पर बच्चे की मालिश करे। 2)बच्चे का सिर सोते समय ऊपर रखे, जिससे वह आसानी से साँस ले सके। 3)खांसी सर्दी के दौरान सूप और चिकन सूप दे सकती हैं। ये प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता हैं। 6)कुछ बुंद निंबु का रस, एक चुटकि दालचीनी पाउडर और एक चम्मच शहद का मिश्रण तैयार करें। यह सर्दी और खांसी के लिए बहुत अच्छा होता है। 7)शहद और लहसुन मिलाकर पेस्ट बनाएं। दिन में एक या दो बार इसे दें अगर बच्चे को आराम न हो और सर्दी जुकाम के साथ अगर बच्चे को बुखार हो तो अपने मन से कोई मेडिसीन न दें डाक्टर से कंसल्ट करें। टेक केयर।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera beta bahut chidcida ho gaya h mai kya karu
उत्तर: hello डियर अक्सर छोटी बच्ची इस उम्र में चिड़चिड़ी हो जाते हैं क्योंकि इस समय बच्चों की समझ बढ़ती है और वह हर बात जानने समझने के लिए शैतानी करते हैं जिससे हम हर समय रोते रोते रहते हैं जिस कारण बच्चे चिड़चिड़ा हो जाते हैं कई बार तो बच्चों के पेट में कृमि बनने के कारण भी बच्चे चिड़चिड़ी से हो जाते हैं बच्चों के पेट में किडे़ होने पर कितने ही घरेलु उपाय हैं।जिनके कोई भी साईडीफेक्ट नही है जैसे कि(1)कृमी होने पर बच्चे को लहसुन या तुलसी के पत्तो की माला पहनाने से ।(2)सुबह शाम दो दो चम्मच अनार का रस पिलाने से भी पेट के किडे़ मर जाते हैं(3)तुलसी की पत्तीयों का रस दोनो टाईम एक एक चम्मच लेने से भी अराम मीलता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 9साल का बेटा बहुत ज़िद्दी ः क्या करूं
उत्तर: हेलो कुछ बच्चे अपनी बात मनवाने के लिए गुस्से या जिद का सहारा बचपन से लेने लगते हैं बच्चों को जब यह पता हो जाता है कि उनके जिद्द का या रोने से उनकी मांग पूरी होगी तो वह अक्सर ऐसी हरकत करते हैं बच्चे के जिद करने और रोने-चिल्लाने पर अपना फैसला न बदलें। ऐसा करने पर वह इसे आपकी कमजोरी समझेगा और हर बार अपनी बात मनवाने के लिए यही तरीका अपनाएगा।  बच्चे के किसी बात पर जिद करने पर उसे इसके फायदे या नुकसान के बारे में बताएं जिससे वह खुद जिद छोड़ने के लिए प्रेरित हो सके। बच्चों को छोटी उम्र से अनुशासन में रहना और सब्र करना सिखाए जाने पर उनकी जिद करने की आदत को कम किया जा सकता है।जिद्दी बच्चे ज्यादा मेहनती और उनमें संघर्ष करने की क्षमता दूसरे बच्चों से ज्यादा होती है। ऐसे बच्चे अगर कुछ करने की ठान लें तो उसे पूरा किए बिना चैन से नहीं बैठते। सही मार्गदर्शन किए जाने पर ऐसे बच्चे अपने जीवन में बड़ी कामयाबी हासिल करते हैं  
»सभी उत्तरों को पढ़ें