8 years old baby

Question: मेरा बेटा जिद्द करता है और बताई बाते छोड अपनी मर्जी कि करता है मै क्या करु plz tell

1 Answers
सवाल
Answer: हेल्लो डीयर जैसा कि आप ने बताया कि आपका बेटा बहुत जिद करता है और आपकी बताई बातें छोड़कर अपनी अपनी ही मर्जी करता है तो इसके लिए मैं आपको बता दूँ कीआप बच्चों की हर मांग को पूरा न करें। ये देखें की जो बच्चे मांग रहे हैं क्या वो वाकई उनके लिए सही है।अगर आपका बच्चा कुछ अनुचीत मान्ग करता है तो आप उसे सही धनग से समझने की कोशिश करे।बच्चों के साथ टाईम स्पेंद करे और उनसे ढेर सारी बातें करें। आगे चल के आप के बच्चे अपनी बात खुल के आप से कर पाएंगे। बच्चों से बातें करने से उन्हें अकेला नहीं लगेगा, उन्हें ये भी नहीं लगेगा की आप उन्हें ignore कर रहे हैं। इस तरह से आप आप अपने बच्चों को जिद्दी बनने से भी बचा सकती हैं। आप अपने बच्चे को प्यार से समझाएं।और उन्हे यह भी बताये कि क्या गलत है क्या सही है। बच्चे को हर वक्त daante नहीं। अगर आप अपने बच्चे को हर समय डांटते हैं और उसकी किसी और से कंपैरिजन करती हैं तो इससे भी बच्चों के अंदर हीन भावना आ जाती है और वह आपकी बात को अनसुना करना शुरू कर देते हैं ।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेटा जिद्द बोहोत करता है क्या करु
उत्तर: बच्चों को इस उम्र में इस तरह व्यवहार करने की चिंता न करें .. शांत rahe ... मैं आपको कुछ सुझाव de rahi हूं जो आप उन्हें आजमा सकते हैं: 1. जब तक आपके बच्चे का ध्यान न हो तब तक बात करना शुरू न करें। 2. खुद ki baat ko dohraye mat. 3. बच्चों के दृष्टिकोण से स्थिति देखने की कोशिश करें। 4. bacho ki baat ko sune 5. उन्हें samjhe.. मुझे आशा है कि उपर्युक्त सुझाव आपको मदद करेंगे .. ध्यान रखें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा बोहत टाइट potty करता है और potty करते टाइम उसे बोहत तकलीफ़ होती है मै क्या करु
उत्तर: hello dear, *बच्चों को फल सलाद व संतुलित आहार देने का प्रयास करें| बच्चों के आहार में फल जरूर शामिल करें जैसे एप्पल पपीता आलू आलू बुखारा ye सभी कॉन्स्टिपेशन को दूर करने में बहुत हेल्पफुल होते हैंl पपीता कोशिश करिए रात को खाने के बाद देने कीl *फाइबर युक्त आहार जैसे दलिया चना ओट्स आदि बच्चे को देंl *बेल का शरबत भी आप घर पर खुद से बना कर दे सकती हैंl *बच्चे को सुबह उठते ही सबसे पहले गर्म पानी का सेवन कराएं पानी पीने के थोड़ी देर बाद ही उसे एक गिलास गर्म दूध पिलाएं *अंजीर या मुनक्का को रात में गर्म पानी में भिगोकर रख दें सुबह इसे आप बेबी को खिलाएं या मुनक्का को दूध में बॉईल करके रात को सोते टाइम वह दूध दीजिएl आप कुछ दिन ऊपर दिए गए टिप्स फॉलो करें आपके बच्चे की पॉटी की प्रॉब्लम सही हो जाएगीl
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बचां बहुत जिद्द है क्या करु
उत्तर: हेलो डियर मैं आपके साथ कुछ टिप्स शेयर करती हूं जो आपकी जरूर मदद करेंगे :- अक्सर पेरेंट्स आपस में किसी बात को लेकर झगड़ने लगते है जिससे बच्चे के नाजुक मन पर बुरा असर पड़ता है और बच्चा चीखने चिल्लाने जैसी चीजो का आदि बन जाता है इसीलिए बच्चे की सामने लड़ाई-झगडा भूल कर भी ना करें। बच्चे की कोई ऐसी डिमांड जो उसके भविष्य के लिए ठीक ना हो नहीं पूरा करें, अगर बच्चा जिद पे अडा है तो उसे उससे अच्छी दूसरी चीज दिला दीजिये। जब पेरेंट्स अपने बच्चो का आंकलन अपनी उम्मीदों से कम या ज्यादा करते है जैसे बच्चा आपकी अपेक्षा से कम नंबर लाता है और आप बात बात में उसकी असफलता प्रचारित करते है जिससे बच्चा जिद्दी हो सकता है तो उससे सकारात्मक व्यहार करें। ध्यान रखें की कभी कभी एक्स्ट्रा केयर और ज्यादा रोक-टोक बच्चे को जिद्दी बना देता है बच्चे की अच्छाइयो को प्रचारित करें, ना की उसकी बुराइयो को। जैसे आप किसी से कहते है, की मेरा बेटा ये नहीं खाता, वो नहीं खाता, ऐसा कहने से अगर आपको भविष्य में बच्चे को वो चीजे खिलानी भी हो तो वो नहीं खायेगा। इसके विपरीत अगर आप बच्चे के बारे में वो चीजे बताती, जो वो खाता है। तो शायद बच्चा वो चीजे भी खा लेता जो वो अपनी जिद में खाने के लिए मना करता है। किसी बच्चे की जिद छुड़ाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण यह है की हम ये समझे की वो जिद्दी कैसे बना। यदि वो अपने आस-पास के नकारात्मक माहौल की वजह से जिद्दी बना है तो, अगर आप उस माहौल को धीरे-धीरे बदलने की कोशिश करें, तो बच्चे में बहुत तेजी से सुधार होगा। बच्चे की भावनाओ और उसकी पसंद नापसंद को समझने की कोशिश करें। आप बच्चे से ऐसी बातें करें जो उसे पसंद हो, ऐसी बातें ना करें जो उसे ना पसंद हो उसके दिमाग में ये बात नहीं आनी चाहिए की उसकी बात नहीं मानी जा रही अपनी बात मनवाईये लेकीन तरीके में उसकी ख़ुशी शामिल ह बच्चों के साथ समय बिताएं और उनसे ढेर सारी बातें करें। आगे चल के आप के बच्चे अपनी बात खुल के आप से कर पाएंगे। बच्चों से बातें करने से उन्हें अकेला नहीं लगेगा, उन्हें ये भी नहीं लगेगा की आप उन्हें इगनोर कर रहे हैं। इस तरह से आप आप अपने बच्चों को जिद्दी बनने से भी बचा सकती हैं। बच्चे को समझने की कोशिश करें जैसे कभी-कभी बच्चा स्कुल नहीं जाने की जिद करता है तो उसके कई कारण हो सकते है। जैसे उसका स्वस्थ ठीक ना हो या होम्वोर्क पूरा ना किया हो या स्कूल में किसी बच्चे या टीचर द्वारा अप्रिय व्यहार, कारण जो भी हो समझकर प्यार से उसका समाधान करें। जिससे आपपर बच्चे का विशवास बढेगा। ज्यादा मोबाइल देखने की वजह से भी बच्चे के दिमाग पर असर पड़ता है। और बच्चा जिद्दी बनता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें