19 महीने का बच्चा

Question: मेरा बेटा घर पर बना हुआ कुछ भी नही खाता ..

1 Answers
सवाल
Answer: hello dear अक्सर हम छोटे बच्चों को बाहर का खाने को देते हैं जिसमें जंग फुड और डिब्बाबंद होते हैं जीन से बच्चों की आदत बिगड़ जाती है आपको धीरे-धीरे बच्चे की यह सब आदतें छूडा़नी चाहिए और घर पर बना भोजन आपको थोड़ा बच्चे के टेस्ट के बनाने की कोशिश करना चाहिए ताकि बच्चा धीरे-धीरे घर का खाना सीखे
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेटा कुछ भी खाता नही है
उत्तर: हेलो डिअर, आपका बेबी खाना तो आप कुछ इस तरह से उन्हें खाने के लिए प्रेरित कर सकती है आप अपने बेबी को जब पूरे परिवार के लोग खाना खाने के लिए बैठे तब आप अपने बेबी का भी खाना एक अलग बर्तन में खाना निकाल दे , छोटे बेबी दुसरो की नकल करने में माहिर होते है आपका बेबी जब पूरे परिवार को खाना खाते देखेगा तब वो भी खाना खाने की कोशिश करेगा और खाना खायेगा आप अपने बेबी को रंग बिरंगी सब्जियां दिखाए इससे आपके बेबी को पता चलवाये की ये सारी सब्जियां khila sakti h आप अपने बेबी को खाना रंग बिरंगा घर पर ही बना कर खिलाये जिसको देखकर आपके बेबी को अच्छा लगे और वो खाना खाने लगे आप अपने बेबी को रंग बिरंगे और जिसमे कार्टून बना हो ऐसे बर्तनों में खाने को दे बर्तनों को देख कर आपका बेबी अच्छे से खाना एच
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा कुछ भी नही खाता
उत्तर: आप अपने बच्चे को सेहतमंद खाना दें और उसे ऐसे दें कि देखने में अच्छा लगे और उसका खाने का मन करे। खिलाते समय बच्चे को कभी मत दात्तीये इससे बेबी के मन में डर बैठ जाता है। आप एक ही समय में बेबी को ज्यादा खिलाने की कोशिश ना करें उसे थोड़ी थोड़ी देर में खिलाते रहे। बच्चे को खाने के साथ दही जरूर खिलाएं। सौंफ का पानी रोजाना बच्चों को पिलाने से उनकी भूख बढ़ती है। बच्चे को भूख न लगना या बच्चा कुछ नहीं खाता एक सामान्य सी बात है और यदि आपका बेबी स्वस्थ है खुश है और अच्छे से होता है तब आपको चिंता करने की जरूरत नहीं लेकिन यदि आपका बच्चा लंबे समय से ना खा रहा हो तो इसके बारे में अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा 10 महीने का है पर कुछ खाता नही है ढूद भी नही पिता
उत्तर: हेलो बच्चे जब शुरुआत में दूध के बाद कुछ सॉलिड चीजें लेना शुरू करते हैं तो एकदम से उन्हें एक्सेप्ट नहीं कर पाते और खाना नहीं चाहते या तो उन्हें उनका स्वाद अच्छा नहीं लगता या उनकी थिकनेस के कारण वह नहीं खाना चाहते क्योंकि उन्हें खाना गटकने की आदत नहीं होती और बच्चे उसे ठीक से पचा नहीँ पाते। और उन्हें दस्त की प्रॉब्लम होती है इसलिए बच्चों को लिक्विड के बाद डायरेक्ट सॉलि़ड ना देकर सेमी सॉलि़ड फूड देना चाहिए। सेमी सॉलि़ड फूड में सेरेलक दाल और चावल की मिक्स पतली खिचड़ी दलिया की खिचड़ी या दलिया का खीर चावल का खीर फलों की स्मूदीज या फ्रूट शेक देना शुरू करें बच्चा जब यह सब चीजें खाने लगे तो एक या दो माह बाद उसे यही सब चीजें थोड़ा गाढ़ा करके दे। और साथ में दाल चावल मसलकर और दूध रोटी मसल का या दाल रोटी मसलकर खिलाएं और जब बच्चा ऐसे भी खाने लगे तो उसके 2 महीने बाद फिर नॉर्मल खाना बच्चे को खिलाना शुरू करें स्टेप बाई स्टेप बच्चों के आहार को गाढ़ा करने से बच्चे आसानी से डाइजेस्ट कर लेते हैं और खाना भी सीख जाते हैं। इससे बेबी का वजन जरूर बढेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा बीत महीने का हो गया पर कुछ भी नही खाता पिता
उत्तर: अब जब आपका बच्चा 9 महीने का हो चुका है तो अब आप उसको कई प्रकार के आहार दे सकती हैं। ऐसे बहुत से आहार जो आप पुरे घर के लिए बनाती हैं और जिसमे नमक और मसाला कम हो  बच्चों को रोटी या पराठा देते वक्त उसको छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ दें। हालाँकि बच्चे हर तरह के आहार ग्रहण कर सकते हैं, फिर भी आप उन्हें आहार देते वक्त ख्याल रखें की आहार अच्छी तरह पका हुआ हो और नरम हो।  नौ महीने पुरे होने पे आप अपने बच्चे को non-vegetarian आहार भी दे सकते हैं जैसे की अंडा पिली जर्दी के साथ, chicken, और मछली।  ९ महीने की आयु में, ज्यादातर बच्चे दिन में ३ आहार और एक बार थोड़ा स्नैक लेते हैं सूप  अपने बच्चे को चिकन या हैल्दी सब्जियों का सूप बनाकर दिन में तीन टाइम पिलाएं क्योंकि इनसे बच्चे तो भरपूर प्रोटीन और जरूरी पोषक तत्व मिलेंगे।  2ओट्स  ओट्स बच्चे के बेहतर पेट के लिए बैस्ट है। इससे बच्चों को कब्ज की समस्या भी नहीं होगी।  कुकीज कुकीज को 10 महीने का बच्चा आसानी से खा सकता है। बच्चे को दूध से बनी कुकीज खिलाएं, इससे बच्चे को ताकत मिलेगी।  सब्‍जियां  बच्चे को ऐसी सब्जियां खिलाएं जो आसानी से बच भी जाए और प्रोटीन बी भरपूर मिले। शकरकंद और उबली गाजर ऐसी ही सब्जियां है जो 10 महीने के बच्चे के लिए बैस्ट डाइट है।  मुलायम चावल  सादी या मीठी दही बेहतर होगा कि बच्चे को सादी दही खिलाए,अगर वह नहीं खा रहा तो उसका टेस्ट चेंज करने के लिए मीठा मिला लें। याद रखें कि दही बच्चे को हमेशा सुबह के समय ही खिलाएं। 
»सभी उत्तरों को पढ़ें