6 महीने का बच्चा

Question: मेरा बच्चा 6महिने का है मे उसे डायपर पहनाती हु तो उसकी सुसु ओर पोटी वाली जगह लाल लाल छिली छिली हो जाती हैं मे क्या करू जिससे उसे डायपर पहनने मे परेशानी ना हो

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर ... अब डायपर को रात के समय पहनाये. दिन में बेबी को डायपर पहनाने की जरूरत नहीं होती है . जहां लाल लाल निशाँ हो रहे है वह आप नारियल का तेल लगाते रहे . बेबी का डायपर 4 से 5 घंटे बाद बदलते रहे . ज्यादा दिक्कत होने पर डॉक्टर की सलाह जरूर लें
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरे बच्चे को उसके डायपर वाली जगह पर रैशेज़ हो गए हैं, उसे क्या लगाऊं?
उत्तर: आप अपने बच्चे के रैश को ठीक करने के लिए नारियल तेल का इस्तमाल कर सकती हैं, यह किसी भी तरह के त्वचा से सम्बंधित समस्याओं के लिए लाभकारी होता है।AQUAPHOR क्रीम भी बेबी रैश के लिया सही है। आप डायपर का इस्तमाल कर सकती है लेकिन ध्यान रखे कि आप उस जगह को साफ़-सुथरा रखे ताकि उसे डायपर रैश न हों। आप अपने बच्चे के उस भाग को हमेशा ड्राई रखे। बच्चे की पॉटी को साफ़ करने के लिए कभी भी बेबी वेट वाइप्स(baby wet wipes) का उपयोग न करे। उसे पाउडर या क्रीम लगाने के बाद ही डायपर पहनाएं। डायपर हमेशा निश्चित अवधि पर बदलते रहें। धीरे-धीरे आप उसे बिना डायपर की भी आदत लगाएं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बच्चा मंथ का ह उसकी पोटी वाली जगह लाल और सुज जाती ह क्या करें
उत्तर: बच्चों को डायपर रैशेज से बचाने में नारियल का तेल काफी असरदार है।बच्चे के शरीर पर डायपर रैशेस वाली जगह पर नारियल तेल लगाएं। ऐसा करने से इंफेक्शन ख़तम होंगे । नारियल का तेल बच्चे की त्वचा पे नमी बनाये रखने में भी मदद करता है।  ।नारियल के तेल की तरह पेट्रोलियम जेली भी बच्चे की त्वचा पे नमी बनाये रखने में मदद करता है और साथ ही डायपर रैशेस से आराम भी पहुंचता है। डायपर रैशेस  से होने वाली जलन को भी पेट्रोलियम जेली ख़तम करता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी बार बार पोटी कर रहा है उसकी पोटी वाली जगह रेड हो गयी है क्या करू
उत्तर: हाय डिअर यदि आप बेबी को फार्मूला मिल्क देती हैं तो यह बच्चे कम pचा पाते हैं इसको बचाने में समय लगता है और बच्चे चार से पांच बार पॉटी कर सकते हैंयदि आप उसको breast फीडिंग करा रही हैं फिर भी बेबी 10 से 15 बार पॉटी कर रही है तो यह ज्यादा हैऔर आप बेबी को डॉक्टर से दिखाए| कभी कभी सर्दी हो जाने पर भी बच्चे ज्यादा पॉटी करते हैं इसलिए सर्दी का समय है बच्ची को गर्म कपड़े पहना है हल्के गुनगुने पानी से nahlaye
»सभी उत्तरों को पढ़ें