4 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरा अभी दुसरे सप्ताह चल रहा है तो मुझे क्या क्या खाना चाहिए

2 Answers
सवाल
Answer: जब आप प्रेगनेंट होती हैं तब यह बहुत जरूरी है कि आप अपना आहार पौष्टिक है. इससे आपको और आपके होने वाले बच्चे को पौष्टिक तत्व मिलेंगे. प्रेग्नेंसी में कुछ अधिक कैलोरी की जरूरत होती है. प्रेगनेंसी में सही आहार का मतलब है -आप क्या खा रही हैं ?ना कि कितना खा रही हैं? जंक फूड का सेवन ज्यादा ना करें. isme कैलोरी ज्यादा है पोष्टिक तत्व कम या ना के बराबर होते हैं. फोलिक एसिड आपको 1 ट्रिमस्टर में ही चालू करदेना चहिये। फ़ोलिक एसिड का होने वाले बच्चे की ग्रोथ में बहुत बड़ा योगदान रहता है। फ़ोलिक एसिड विटामिन है ।विटमिन B 9। ये आपको खाने पिने में फॉलेट नाम से मिलेगा । बाबी के इस्पीनलकार्ड के चारो और पॉलिब पेरत को सही तरीके से बंद करता है।वाहा गप नहीं आने देता। मा के लिए भी बहुत जरुरी है ।विटमिन B 12 के साथ मिलकर हेअल्थी रेड सेल्स बाँटा है। folic acit ke liye ye khaye. ब्रोकली ऐस्पैरागस खट्टे फल हरी पत्तों वाली सब्जियां ओकरा फूलगोभी भुट्टा गाजर 1) दूध और डेयरी के ले सकती हैं. मलाई वाला दूध दही छाछ घर का पनीर इन सब में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन बी12 बहुत होता है. 2) सभी अनाज ,दालें . इन सब में प्रोटीन बहुत अच्छा होता है. 3) पेय पदार्थों में आप पानी bahut piyen.खास करके आप साफ पानी joki फ़िल्टर किया हुआ. ताजे फलों का रस ले. डिब्बाबंद juis nahi le. इसमें शक्कर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. 4) वसा और तेल . वेजिटेबल ऑयल का वसा एक अच्छा स्रोत है क्योंकि इसमें संतृप्त वसा अधिक होता है. इन सभी चीजों के साथ आप डॉक्टर की सलाह मानें .जो भी टेस्ट किए हैं दिए गए हैं उन्हें करवाएं समय पर. दवाइयां समय पर ले और नींद पूरी. खाना जो भी खाएं अच्छे से चबाकर खाएं. प्रेगनेंसी के समय मिल्क प्रोडक्ट calcium और प्रोटीन बहुत जरुरी होता है। डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन की मात्रा काम होने से बच्चे की ग्रोथ में बहुत अंतर आता है। प्रोटीन जरूरी पौशाक तत्वों में से है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की kaam मात्रा बच्चे के sahi विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।  बस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है।  इनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना. ओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है .
Answer: महिला को गर्भावस्‍था के शुरुआती हफ्तों में अतिरिक्‍त फॉलिक एसिड की जरूरत होती है। जो न्‍यूरल ट्यूब बनाने के काम आती है,जो बाद में चलकर दिमाग और रीढ़ की हड्डी बनती है ऐसे समय में उबला हुआ दूध का ही सेवन करना चाहिए गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को सब्जी और फल खाने की सलाह दी जाती है, लेकिन ऐसे मौके पर गर्भवती महिलाएं पपीता और अनानास खाने से बचें। गर्भवती महिला को इन सभी विटामिन और खनिजों का सेवन करना बहुत आवश्यक है| विटामिन C कैल्शियम फाइबर विटामिन D जिंक आयोडीन फोलेट विटामिन आयरन प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट फोलिक एसिड etc… दूध, अंडा, गाजर, पालक, हरी सब्जियां, ब्रोकोली, आलू, कद्दू, पीले फल, खरबूजा संतरे, संतरे का रस, स्ट्रॉबेरी, हरी पत्तेदार सब्जियां, पालक, बीट्स, ब्रोकोली, फूलगोभी, अनाज, मटर,सेम, नट्स दही, दूध, पनीर, सोया दूध, रोटी, अनाज, गहरे हरे पत्तेदार सब्जियां. सब आप खायें , आपके और बेबी के लीई बहुत अच्छा है .
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मुझे जोन्डीस हो गया है मेरा 15वा सप्ताह चल रहा है कोई प्रॉब्लम तो नही है और खाना चाहिए
उत्तर: यदि आपके liver मैं थोड़ी भी समस्या है तो इसके वजह से ज्वाइंडिस हो सकती है यदि आप पेरासिटामोल का ज्यादा dose upyog करती है तो इसके वजह से भी जॉन्डिस होता है। यदि आपको त्वचा में बहुत ज्यादा खुजली हो रही होगी या फिर बहुत ज्यादा कमजोरी महसूस हो रही होगी तो ऐसे मैं आपको बहुत ही ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत होती है। यदि यूरिन डार्क कलर की हो रही है तो इसके साथ-साथ आपका सर दर्द भी लगातार बना रहे तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जानी चाहिए क्योंकि ऐसे में जॉन्डिस बहुत बढ़ा हुआ होने की वजह से लक्षण दिखाई देते हैं। लीवर के आसपास यदि सूजन दिखाई दे तो कमर के नीचे आपको सूजन महसूस हो और यदि आंखों में पीलापन हो तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए। डॉक्टर आपका यूरिन टेस्ट करने के लिए बोलते हैं और साथ में यदि आपको कुछ और भी समस्या होती है तो अल्ट्रासाउंड कराने की सलाह दी जाती लक यदि जॉन्डिस है तो आप कुछ उपचार कर सकती हैं आपको ऐसे में गन्ने का rus दिन में कई बार पीना चाहिए क्योंकि पीलिया के रोग को ठीक करने में मदद करता है। pyaj भी बहुत ज्यादा लाभदायक होती है प्याज को काट लीजिए और नींबू के रस में कुछ घंटों के लिए भिगो दीजिए प्याज को निकाल लीजिए और नमक और काली मिर्च मिलाकर मरीज को खिलाने से भी पीलिया में बहुत ज्यादा लाभदायक होता है। इसी प्रकार आप को फलों में तरबूज और खरबूजे दोनों का ही उपयोग करना चाहिए यह भी बहुत ज्यादा लाभदायक होता है। नींबू का रस, टमाटर का रस यह सब faydemand होता है और pilita के दौरान आपको घी तेल मक्खन मलाई जैसी चीजों का उपयोग बिल्कुल नहीं करना है और यदि पिया है तो दाल खाने से बचें क्योंकि दालों से instetine me sweling और परेशानियां पैदा हो सकती है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा पहला सप्ताह चल रहा है मुझे क्या खाना चाहिए और क्या करना चाहिए
उत्तर: हेलो डियर गर्भावस्था के दौरान आपको संतुलित और स्वस्थ आहार लेने पर खास ध्यान देना चाहिए | इस समय आप सिर्फ अपने लिए नहीं बल्कि अपनी कोख में पल रहे बच्चे के लिए भी आहार ले रही है | दूध और डेयरी उत्पादों का सेवन प्रतिदिन जरूर करें, जैसे दूध, दही, आइसक्रीम, छाछ व पनीर | अगर आप को दूध पसंद ना हो या पचता ना हो तो आप ज्यादा कैल्सियम वाली चीज़ों का सेवन करे जैसे कि छोले, सोया दूध और बादाम आदि | अनाज जैसे रोटी, ब्रेड, चावल आदि का सेवन करे | रोजाना हरी सब्जियों और फलों का सेवन जरूर कर | इस दौरान आपकौ बहुत सावधानी रखनी चाहिए।आपकौ सन्तुलीत और पौस्तिक भोजन खाना चाहिए।भारी वजन नही उठाना चाहिए ।सीढ़ी नही चढनी चाहिए ।ज्यादा भाग दौड नही करना चाहिए ।ट्रैवल नही करना चाहिए ।ज्यादा देर तक कही पर खडे या बैठे नही रहना चाहिए।ज्यादा से ज्यादा मात्रा मे पानी पिना चाहिए।तनाव मुक्त रहना चाहिए।एक ही करवत नही सौना चाहिए और जहाँ तक हो सके खुद को खुश रखें और नियमित रूप से डॉक्टर से आपना चेक अप करवाये।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा पहला हफता चल रहा है . तो मुझे क्या खाना है और क्या करना चाहिए ..??
उत्तर: 🙏 अपने आहार में खट्टे फल, अंडे, हरी पत्तेदार सब्जियां और आलू शामिल करें।दिन में कम से कम दो फल ज़रूर खाएं।ब्रेड, चांवल और आलू लें भ्रूण की वृद्धि तथा विकास के लिए आवश्यक चुकंदर, ओटमील, ब्रोकोली, अंडे तथा हरी सब्जियां आयरन और फोलेट का अच्छा स्त्रोत माने जाते हैं।दूध तथा दूध से बने उत्पाद मां तथा बच्चे दोनों के लिए सबसे उपयोगी हैं।भरपुर पानी पियें या जुस नारियल पानी भी ले सकते हैं।अधिक पानी पियें खम से खम एक दीन मे 8 से 10 गीलास पानी पीना चाहीये गर्भावस्था में क्या खायें क्या नही ---(1)गर्भावस्था मे कच्चा जीच न खायें कच्चे खाने में बैक्टीरीया और वायरस होते हैं जो मां और बच्चे दोनों को नुकसान पहूंचा सखता है।ईसलिये अच्छे से पका भोजन लें।(2)फल और सब्जियों को अच्छे से धोकर खायें।(3)पपीता न खायें इसका तासीर गरम होता है।आप अन्य फल खा सकती हैं।(4)काफी चाय कम कर दे उसके जगह आप जुस सुप या दही ले सकती हैं।(5)कोई भी दवा बिना डाक्टरी सलाह के न लें। Take care💐  
»सभी उत्तरों को पढ़ें