19 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेम मुजे 5 महीना लगा हे पर मुजे कोई movement नी पत्ता लगता हें मुजे डर भी ल्गा रहता की कुछ गलत तों नी हो रहा मुज से .

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर आप परेशान ना हो प्रेगनेंसी में 5 से 6 महीने के बाद ही बेबी का मूवमेंट पता चलता है जब बेबी का मूवमेंट होगा तो आपको पता चल जाएगा कि बेबी का मूवमेंट हो रहा है क्योंकि बेबी को मूमेंट होने में बबल जैसे बुलबुले पेट के अंदर लगते हैं या फिर जिस तरह पेट में गैस बनने पर होता है उसी तरह से महसूस होता है इसलिए आप टेंशन ना ले क्योंकि 4 महीने में बेबी का मूवमेंट फील नहीं होता पेट में बेबी का साइज बहुत छोटा होने की वजह से इतने कम महीनों में बेबी का मूवमेंट फील नहीं हो पाता मगर 5 से 6 महीने में बेबी का मूवमेंट फील होने लगता है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: हेलो मेम में 8 वीक से प्रेगनेट हु मज़े हलका हलका पेट में दर्द हे तों मजे डर लगता हें कोई प्रॉब्लम तों नही या कोई प्रॉब्लम हें
उत्तर: हेलो डियर ,,आपको8th,week ki प्रेगनेंसी चल रही है अपने पेट दर्द कहां पर हो रहा है यह स्पष्ट रूप से नहीं पता है लेकिन प्रेगनेंसी में पेट दर्द कभी-कभी गैस ,अपच , एसिडिटी ,कब्ज आदि के कारण भी प्रेगनेंसी में पेट दर्द होता है सामान्य पेट दर्द के लिए अदरक का रस ,पुदीने का रस ले |हींग को पानी में घोलकर पेट के आसपास लगाएं |10 से 12 गिलास पानी पिए | छाछ , दही खाएं |हल्का गुनगुने पानी में नमक व नीबू का रस डालकर पीए ,खाना खाने के बाद सौंफ या जीरा खाए पेट दर्द में राहत मिलेगी |
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mara 6 महीना चल रहा हे मुज बहुत खासी आती हें दवा लेने पर भी कोई फर्क नही पड़ता plz मुजे कोई उपऐ बताए मे थक गाई हू
उत्तर: आप मुंह में मुलेठी दबाकर रखें इससे आपको बहुत जल्दी आराम होगा खांसी में गर्म पानी पिए आप नमक डालकर पानी गरम करें और गरारे करें इस पानी से आपका कफ बाहर आएगा आप स्टीम भी ले सकती हैं इससे कफ तुरंत ढीला होता है और काफी आराम मिलता है गर्म सूप इसमें आपको खांसी से राहत मिलेगी इसमें मौजूद प्याज लहसुन अदरक और काली Mirch जैसे मसालेदार पदार्थ आपके गले को काफी आराम पहुंचाएंगे आप हर्बल चाय ले या फिर पानी गरम करें उसमें नींबू और दो चम्मच शहद मिलाकर पिए यह भी आपको बहुत फायदा करेगा
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा दूसरा महीना खतम हो गया हें पर तीन दीन से मुजे कोनस्टिपसिओन हो गया हे जिस से अच्छा नही लगता .. क्रुपया कुछ हल बताये
उत्तर: Dear mam हर रोज उच्च फाइबर युक्त भोजन खाएं जैसे कि सीरियल्स और दलहन (राजमा, छोले, रागी), साबुत अनाज की ब्रेड जैसे कि पूर्ण अनाज की चपाती और ताजा फल व सब्जियां। फल जैसे कि अमरूद, सब्जियां जैसे कि गाजर और फूलगोभी में उच्च मात्रा में फाइबर होता है। अगर आप पहले से कम फाइबर वाले आहार का सेवन करती रही हैं, तो धीरे-धीरे अपने आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाएं, ताकि आपका शरीर इस बदलाव के लिए तैयार हो सके। अचानक से उच्च फाइबर युक्त आहार लेने से आपको शायद पेट में मरोड़ हो सकते हैं और आपको फुलावट महसूस हो सकती है। जब आप अधिक फाइबर वाले भोजन खाती हैं, तो यह भी महत्वपूर्ण है कि आप पर्याप्त मात्रा में तरल पदाथ लें, वरना इससे कब्ज और बढ़ सकती है। रिफाइंड भोजन जैसे कि इंस्टेंट नूडल्स आदि का सेवन कम कर दें। मैदा का इस्तेमाल आमतौर पर सफेद ब्रैड, पूरी, कुलचा, नान, केक और बिस्किट बनाने में किया जाता है। अगर, ये खाद्य पदार्थ आपके रोजमर्रा के आहार के हिस्सा हैं, तो बेहतर रहेगा कि आप मैदा की बजाय इनके पूर्ण अनाज या आटे वाले विकल्प का चयन करें।  खूब सारा पानी पीएं, कम से कम एक दिन में आठ से 12 गिलास। आप ताजा फलों का रस, नारियल पानी, छाछ, नींबू पानी और लस्सी जैसे पेय लेकर भी अपने तरल पदार्थ के सेवन की मात्रा बढ़ा सकती है। माना जाता है कि सुबह-सुबह गुनगुने पानी में नींबू का रस डालकर लेने से मलत्याग में आसानी रहती है। व्यायाम करें! चहलकदमी, तैराकी, स्थिर साइकिल को चलाना और योग आदि सभी कब्ज से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। साथ ही आप अधिक तंदुरुस्त और स्वस्थ महसूस करेंगी। यह जरुरी है कि आप ऐसे व्यायाम करें जो आपके तंदुरुस्ती के स्तर के अनुकूल हों। खुद को बहुत ज्यादा न थकाएं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो मेरा 7 महीना चल रहा हे ऑर मुजे डर लगा रहटा हे की मुजे कुछ ऑर मेरे बच्चे को कुछ हो ना जायें ऑर मुजे चक्कर ऑर थकान बहुत हॉटी हे plz जवाब दीजिए
उत्तर: मैं आपकी फीलिंग को अच्छी तरह से समझ सकती हूं जितना हो सके आप पॉजिटिव सोचिए अच्छी किताबें पढ़ें अच्छा संगीत सुनें.माँ बनना इस दुनिया का सबसे खास और प्यारा अनुभव होता है, जैसे ही आपको पता चलता है की आप माँ बनने वाली है आपके मन में ख़ुशी के साथ एक डर भी आता है, की क्या आप उस बच्चे की अच्छे से केयर कर पाएंगी, क्या आप उसे अच्छे से परवरिश दें पाएंगी, इसके अलावा इस दौरान शरीर में होने वाले बदलाव के कारण भी महिलाएं घबरा जाती है, खास कर वो जो की पहली बार माँ बनने जा रही होती है, महिलाओ को ऐसे में डरना नहीं चाहियें, बल्कि प्रेगनेंसी के दौरान हर एक अनुभव का आनंद उठाना चाहिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें