17 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: एक्चुअली मुझे सुबह सुबह बहुत ज़्यादा thakavat रहती है पत्ता नि एसा क्यों होता है

4 Answers
सवाल
Answer: हेलो प्रेगनेंसी के दौरान मॉर्निंग में लो फिल करना आम बात है क्योंकि हम जब आराम कर रहे होते हैं तो बच्चे के सारे सिस्टम अच्छे से काम कर रहे होते हैं जिससे हमारी सारी एनर्जी उसमें इन्वेस्ट होती है सुबह उठने के बाद फ्रेश होकर आप ग्रीन टी या लेमन टी ले सकती हैं। इससे आपको इंस्टेंट एनर्जी मिलेगी। नाश्ते में स्प्राउट जरूर शामिल करें आप दिनभर कुछ कुछ खाती रहें लंबे समय तक भूखे ना रहें बैलेंस डाइट लें। दूध में छुहारा किशमिश और केसर डालकर उबालें सोने से पहले इस दूध को गुनगुना पिए सोने से एक घंटा पहले आप चॉकलेट भी खा सकती हैं रात में ली हुई कैलरी आपको सुबह काम आएंगे और आप लो फील नहीं करेंगे
Answer: हेलो डियर प्रेग्नेन्सी में थकान होना आम बात है ऐसि अवस्था में हार्मोन का तेजि से बढ़ने के वजह से यह परेसानि होती है क्युकी वज़न में भि वृद्घि होती है ऑर अकसर प्रेग्नेन्सी में नीन्द पुरी ना होने के वजह से अदिक थकान महसूस होती है इसलिए ज़रूरी है की आप अच्छे से अच्छा नीन्द लें ऑर जादा जल्दबाजी में काम ना करें ऑर दीन भर कुछ ना कुछ खाते रहें ताकि आपकी enrzy बनी रहें अपने आहार का खास दयान दें
Answer: इस situation मे ऐसा नॉर्मल है मेरे साथ भी होता था ऐसा कोई परेशानी की बात नही है
Answer: pregnancy me aisa hona normal h ap nariyal pani piya karo..
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: आई एम 2 वीक प्रेगनेट मुझे घबराहट होती रहती हें एसा क्यों होता ह
उत्तर: अगर आपको गर्भावस्था के दौरान कर और घबराहट ya bechaini होती है तो इसकी वजह से आप ज्यादा परेशान ना हो क्योंकि गर्भावस्था के दौरान हार्मोन में बदलाव की वजह से बहुत सारे परिवर्तन दिखाई देते हैं और यह परिवर्तन गर्भावस्था के शुरुआती या लास्ट में भी हो सकता है। घबराहट होने का और भी कारण हो सकता है जैसे अगर आपका BP low होते हैं तो भी उस कंडीशन में आपको घबराहट होती है यदि आपके शरीर में खून की कमी हो तो भी से आपको घबराहट जैसी समस्या होने लगती है। यदि घबराहट की वजह से आपके स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर पड़ता जा रहा है तो ऐसी कंडीशन में आप एक बार डॉक्टर की सलाह लें और अगर कुछ टाइम के लिए रहता है तो इसके लिए आप कुछ उपाय कर सकते हैं जिसे कि आप को थोड़ा बहुत राहत मिल सकता है। अगर आपको घबराहट जैसी समस्या होती है तो सबसे पहले आपको अपना ब्लड प्रेशर चेक करवानी चाहिए आप को नियमित एक्सरसाइज करना चाहिए अपने आहार पर पौष्टिक आहार लें और ज्यादा अच्छा होगा कि थोड़ी-थोड़ी मात्रा में दिन भर आप भोजन करते रहे। आप नींद पूरी तरह से लें अगर नींद पूरा नहीं होता है उसके वजह से भी यह समस्या आने लगती है। अगर आपको यह घबराहट सुबह के समय में होता है तो ज्यादा अच्छा होगा कि आप आरामदायक सुविधापूर्ण और शीतल वातावरण में थोड़ी देर रहे। यदि मन में नकारात्मक बहाना है आती है तो ज्यादा अच्छा होगा कि आप सकारात्मक किताबें पढ़ें और अपनी मन की बातें लोगों के साथ शेयर करें|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mai सुबह उठती हूँ तो मेरे सर्वीक्स में बहुत दर्द रहता है एसा क्यों होता है
उत्तर: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय में बेबी का आकार बढ़ने की वजह से बेबी का सारा वजन पेट के नीचे या वगीना पर भी पड़ता इससे योनि में दर्द होने लगता है ऐसा होना नार्मल है आप ऐसे में योनि को कोई भी कॉटन के कपड़े को फ्रिज में ठंडा होने के लिए रखे फिर आप इससे सिकाई कर ले या गुनगुने हल्के गर्म कपड़े से सिकाई कर सकती है आपको आराम हो जाएगा, आप टॉयलेट करके उठे या बैठे तो आराम से , ज्यादा देर तक ना बैठे नही तो दर्द और चुभन बढ़ जाएगा , ऐसे में ज्यादा देर तक करवट होकर सोने से भी दर्द होता है क्योंकि बेबी एक साइड अधिक देर रहने पर प्राइवेट पार्ट में दर्द कर सकता है , इसलिए आप थोड़े देर में दुज़रे करवट होकर सोये और ज्यादा देर तक खड़े नही रहना चाहिए ऐसे में एक ही पोजीशन में ज्यादा देर तक नही रहना चाहिए कोई भारी भरकम सामान ना उठाये , आराम से रहे ऐसा होना नॉर्मल है आप परेशान ना हो इससे आपके बेबी को कोई प्रॉब्लम नही होंगी।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेम मुझे बहुत ज़्यादा कब्ज रहती है
उत्तर: hello dear अगर आपको कब्ज की शिकायत होती है तो आप निम्न उपाय अपनाकर कब्ज को दूर कर सकती हैं हर रोज उच्च फाइबर युक्त भोजन खाएं जैसे कि सीरियल्स और दलहन (राजमा, छोले, रागी), साबुत अनाज की ब्रेड जैसे कि पूर्ण अनाज की चपाती और ताजा फल व सब्जियां। फल जैसे कि अमरूद, सब्जियां जैसे कि गाजर और फूलगोभी में उच्च मात्रा में फाइबर होता है। अगर आप पहले से कम फाइबर वाले आहार का सेवन करती रही हैं, तो धीरे-धीरे अपने आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाएं, ताकि आपका शरीर इस बदलाव के लिए तैयार हो सके। अचानक से उच्च फाइबर युक्त आहार लेने से आपको शायद पेट में मरोड़ हो सकते हैं और आपको फुलावट महसूस हो सकती है। जब आप अधिक फाइबर वाले भोजन खाती हैं, तो यह भी महत्वपूर्ण है कि आप पर्याप्त मात्रा में तरल पदाथ लें, वरना इससे कब्ज और बढ़ सकती है। रिफाइंड भोजन जैसे कि इंस्टेंट नूडल्स आदि का सेवन कम कर दें। मैदा का इस्तेमाल आमतौर पर सफेद ब्रैड, पूरी, कुलचा, नान, केक और बिस्किट बनाने में किया जाता है। अगर, ये खाद्य पदार्थ आपके रोजमर्रा के आहार के हिस्सा हैं, तो बेहतर रहेगा कि आप मैदा की बजाय इनके पूर्ण अनाज या आटे वाले विकल्प का चयन करें।  खूब सारा पानी पीएं, कम से कम एक दिन में आठ से 12 गिलास। आप ताजा फलों का रस, नारियल पानी, छाछ, नींबू पानी और लस्सी जैसे पेय लेकर भी अपने तरल पदार्थ के सेवन की मात्रा बढ़ा सकती है। माना जाता है कि सुबह-सुबह गुनगुने पानी में नींबू का रस डालकर लेने से मलत्याग में आसानी रहती है। व्यायाम करें! चहलकदमी, तैराकी, स्थिर साइकिल को चलाना और योग आदि सभी कब्ज से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। साथ ही आप अधिक तंदुरुस्त और स्वस्थ महसूस करेंगी। यह जरुरी है कि आप ऐसे व्यायाम करें जो आपके तंदुरुस्ती के स्तर के अनुकूल हों। खुद को बहुत ज्यादा न थकाएं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें