21 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मुझे 5 वा महीना चल रहा और​ मेरी कमर me bahut jada dard h kya kru...t

1 Answers
सवाल
Answer: अभी आपको पांचवा महीना चल रहा है. प्रेगनेंसी में हो रहे बॉडी changes और hormonal changes की वजह से हमें वीकनेस महसूस होती है और कभी इसके कारन कमर में भी दर्द होता है. आप पौष्टिक आहार लेते रहे. पानी और प्रवाही ज्यादा ले. एक साथ बहोत सारा खाना न खाये पर थोड़ा थोड़ा करके हर दो घंटे में कुछ खाये. लम्बे समय तक खड़े होक काम ना करे बिच बिच में थोड़ा आराम ले. और सोते वक़्त अपनी जांघ के निचे तकिया रखकर सोये तो कमर दर्द में रहत होगी.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा 5 वा महीना चल रहा है मुझे पेट में और कमर मे दर्द हो रहा है
उत्तर: पेट दरद ------गर्भावस्था के दौरान पेट में दर्द, पीड़ा और मरोड़ होना सामान्य बात है। अगर आपकी गर्भावस्था एकदम स्वस्थ चल रही है, तो पेट दर्द आमतौर पर चिंता का कारण नहीं होते।  गर्भ में शिशु के होने की वजह से आपकी मांसपेशियों, जोड़ों और नसों पर काफी दबाव पड़ता है। इससे आपको पेट के आसपास के क्षेत्र में काफी असहजता महसूस हो सकती है।   मजबूत, मांसपेशियां जो आपकी हड्डियों को जोड़ते हैं, उनमें पूरी गर्भावस्था के दौरान बढ़ते गर्भ को सहारा देने के लिए खिंचाव होता है। इसलिए जब आप हिलती-डुलती हैं, तो आपको शरीर में एक या दोनों तरफ हल्का दर्द महसूस हो सकता है।थोड़ी देर के लिए बैठ जाएं।जिस तरफ दर्द हो रहा हो, उसके दूसरी तरफ होकर लेट जाएं और आराम करें।हल्के गर्म पानी से नहाएं।जहां दर्द हो रहा हो उस क्षेत्र में गर्म पानी की बोतल या गेहूं की छोटी पोटली से सिकाई करें। अगर आप गर्म पानी की बोतल का इस्तेमाल करें, तो इसमें गर्म पानी भरें (खौलता हुआ पानी नहीं) और ध्यानपूर्वक इसे तौलिये या किसी मुलायम कपड़े में लपेट लें। वहीं दूसरी तरह, गेहूं की पोटली एक कपड़े की पोटली होती है जिसमें गेहूं की भूसी भरी होती है। इस पोटली को माइक्रोवेव में कुछ मिनटों तक गर्म करना होता है। यह पोटली आपके शरीर के आकार के अनुसार ढल जाती है और एक घंटे या इससे ज्यादा के लिए गर्म रहती है।आराम करें। कई बार, sexकरने और पर भी मरोड़ या हल्का सा कमर दर्द हो सकता है। जिससे मरोड़ जैसा महसूस हो सकता है।आप कैसा महसूस कर रही हैं,डॉक्टर को बताएं। वह यह अंदाजा लगा पाएंगी कि आपकी असहजता की वजह गर्भावस्था के दर्द और पीड़ा ही हैं या फिर कुछ और। कमर दरद-----आपका वजन सामान्य से अधिक है या फिर आप पहले भी गर्भवती हो चुकी हैं, तो आपको पीठ दर्द होने की संभावना अधिक रहती है।आपकी मांसपेशियों में थकान और अस्थं पर आपके शरीर एवं शिशु का वजन पड़ने से होने वाले हल्के खिंचाव के कारण होता है।  आपको कम उचाई या फ्लैठ चप्पलें पहनें पैरो मे गुनगुने तेल हल्की मालीश लें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 5 वा महीना चल रहा है मुझे कल से पेरु और कमर मे दर्द है किया ये नॉर्मल है
उत्तर: गर्भवस्था के दौरान पेट का वज़न धीरें धीरें जब बढ़ता है toकमर or पेट के निचले भाग पर ज़ोर जयदा पड़ता है इसलिए तकलीफ़ होती है . आप अपने दर्द को कम करने के लिये अपने pet पर नारियल के तेल से हलकें हाथों से मालिश कर सकती है .. और सोते समय कमर के पीछे ऑर aapne पैरों के नीचे पिलो लगायें .. आराम मिलेगा . मालिश को आप दिन मे 4 से 5 बार दोहरा सकती है .. ऑर tavel को ठण्डे pani mei गीला कर के पेट के ऊपर रख सकती है . आप को ज़रूर दर्द कम लगेगा . और तकलीफ़ जायदा लगें to अपने डॉक्टर को भि bata सकती है ..आप अपने कमर की सिखाई गर्म पानी के बोतल से या बर्फ की पोटली से भी करें इससे भी आपको बहुत आराम मिलेगा या आप घर पर अगर कोई हो तो मदद ले और कमर की मालिश करवाएं इससे बहुत जल्दी आपको रिलीf होगा..ok
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 8 वा महीना चल रहा हैं और mujhe साँस lane me paresani ho rhi h bahut kya karu
उत्तर: हेलो डियरप्रेग्नन्सी में सांस लेटे हुए दिक्कत(शोर्टनेस ऑफ़ ब्रेथ)बहुत कॉमन है। प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में बहुत से चंगेस होते हैं उनमे से एक है हारमोनल चंगेस। प्रेगनेंसी टाइम प्रोजेस्टोजेन एक हर्मोने है इस्सके लेवल जब हाई होने लगता है तोह रेस्पिरेटरी सिस्टम मे बहत प्रेशर आता है जिस्सकी वजह से प्रेगनेंसी में सांस लेने मे प्रॉब्लम होती ह। प्रेग्नन्सी की शुरुवात मे आपका ब्लड ५०,% बढ़ जाता है जिस्सकी वजह से हार्ट को पंप करने म बहुत लोड पड़ता है जिस्सकी वजह से सांस लेने मे दिक्कत होती है। babyके वेट की वजह से आपके लंग्स पर प्रेशर पड़ता है जिस्सकी वजह से आपको सांस लेने मे प्रॉब्लम होती है। बाबी की वजह से ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ जाती है जिस्सकी वजह से साँस लेने मे प्रॉब्लम होती है। सांस न फूले कैसे कण्ट्रोल करें उसस्के लिए ये टिप्स फॉलो करे १)जब भी सांस लेने मे प्रॉब्लम हो तब २०मिन्स तक डीप ब्रीथिंग करे। २)ज़्यादा भरी या हैवी लोड वाला कोई काम न करे। ३)अगर आप कहीं बैठे या लेटे हैं तोह आपकी सांस फूल रही है तोह आप पोजीशन चेंज करे। ४)डेली थोड़ी एक्सरसाइज करें जैसे की वॉकिंग,दीप ब्रीथिंग ेट्स।
»सभी उत्तरों को पढ़ें