9 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मुझे बार बार उल्टियां क्यों होती है

2 Answers
सवाल
Answer: 🙏 गर्भावस्था में उल्टी मीतली और जी घबराना बहुत आम समस्या है। उल्टी होने से शरीर में पानी की कमी होने की संभावना हो सकती है।ईसलिये अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए । एक दिन में कम से कम 8 से 10 गीलास पानी पीना चाहिए । सुबह सुबह जुस भी पीने से उल्टी से राहत मीलती है। ैजसे पूरे दिन कुछ न कुछ खाते रहना जो आपको पसंद हो वही खाऐं जो आपको पसंद न हो वह न खायें अक्सर जो चीजें पसंद न हो उन चीजों को खाने से भी मीतली और उल्टी की परेशानी होती है।अदरक वाली चाय नारीयल पानी जुस का सेवन करने से अक्सर उल्टी मितली से राहत मिलती है। Take care💐
Answer: धन्यवाद
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: खो खोप्रेगनेंसी में उल्टियां क्यों होती है
उत्तर: hello dear प्रेग्नंसी मे उल्टी होना नॉर्मल है येह बॉडी मे होने वाले हर्मोनल परिवर्तन्ंं की वजह से होती है।यह लगभग 65% महिलाओं को प्रभावित करती है। कुछ महिलाओं को किसी भी लक्षण का सामना नहीं करना पड़ता है। अदरक का रस चाटने से उल्टी मे आराम मिलता है इसके अलावा आपको जब भी उल्टी मह्सूस हो तो curry पत्ता सूंघ सकती है।आप हरा धनिया पीस्कर उसका सेवन करिए इससे भी उल्टी आनी बन्द हो जाती है।आप निम्बू मे काली मिर्च काला नमक मिकस करके उसे चातिये इससे भी आपकौ आरांम मिलेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे नौवां महीना चल रहा है और मुझे उल्टियां क्यों होती है अभी तक
उत्तर: हेल्लो डीयर जैसा कि आप ने बताया कि आपका नाइन मंथ चल रहा है और आपको अभी तक उल्टियां हो रही है तो मैं आपको बता दूं कि किसी किसी को प्रेगनेंसी के 9 मंथ तक उल्टी होती हैं जिसका कारण बॉडी में होने वाले हार्मोन में परिवर्तन होना होता है और कभी-कभी यह एसिडिटी की वजह से भी होती हैं जो नॉर्मल है ।उल्टी दूर करने के उपाय- अदरक का रस चाटने से उल्टी मे आराम मिलता है इसके अलावा आपको जब भी उल्टी मह्सूस हो तो curry पत्ता सूंघ सकती है।आप हरा धनिया पीस्कर उसका सेवन करिए इससे भी उल्टी आनी बन्द हो जाती है।आप निम्बू मे काली मिर्च काला नमक मिकस करके उसे चातिये इससे भी आपकौ आरांम मिलेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे बार बार गैस बनने की शिकायत क्यों होती है
उत्तर: हेलो डियर गैस प्रेग्नेंसी मे बहुत आम समस्या है। इससे सीने मे जलन भी होने लगती है। भूंख भी नही लगती है। पेट दर्द भी होता है। 1. बहुत सारे तरल पदार्थ पीएं। 2. सक्रिय रहें और वॉक करें और योग करें। 3. आलू, गेहूं, ब्रोकोली, अंडा आदि जैसे गैसी खाद्य पदार्थों को कम खाएं। 4. फाइबर युक्त भोजन का सेवन करें, अंजीर, और केले, और सब्जियां, साथ ही पूरे अनाज जैसे जई और फ्लेक्स सभी अच्छे फाइबर बूस्टर हैं। 5. हल्के भोजन और कम मात्रा मे लें। 6. आसान पाचन के लिए सौंफ़ के बीज और छाछ पिये रोज।
»सभी उत्तरों को पढ़ें