24 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मुझे चक्कर आ रहें हे

1 Answers
सवाल
Answer: डिअर डिअर प्रेगनेंसी में चक्केर आना सामान्य है,है देर ऐसे में थकान बहुत होती है ओर ये चक्कर द्वार हमारे हार्मोन में परिवर्तन के कारण आते है और ब्लड प्रेशर के कारण आते है प्रेगनेंसी में ब्लड प्रेशर लो हाई होता रहता है डिअर bp लौ की वजह से नींद भी बहुत आती है सिर मव दर्द भी होता है और bp हाई कज वजह से घबराहट होती हैज्यादा तर ये पहेली तिमाही में आते है पर किसी किसी महिला को ये प्रॉब्लम पूरी प्रेगनेंसी टाइम में रहती है इसी कारण हम जल्दी थक भी जाते है इसलिए देर जड़ देर तक खड़े न हो इर जड़ देर तक काम भी न करे थोड़ी थोड़ी देर में रेस्ट जरूर ले डर ऐसे में अप्प ज्यादा पानी पीए ओर रेस्ट कीजिये तोड़ि थोड़ी देर में कुछ न कुछ खाते रहिये यरों कैल्शियम की गोली बह ही टाइम पर ले पालक चुकंदर जैसी सब्जियों का सेवन करे जादा देर तक खड़े न होये जादा टाइट कपडे न पहने और कुर्सी पर पैर लटका क्र मत बैठे कपणा ख्याल रखे टेक केयर सेक्स
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मुझे चक्कर आ रहें हे क्या करु ?
उत्तर: 🙏 गर्भावस्था में हारमोंस के बदलाव के कारण भूख ना लगने की परेशानी होती है इसके साथ-साथ चक्कर आना और मुंह का स्वाद भी बिगड़ जाता है 1) तरल लें जैसे दूध जुस सुप छाछ और अधिक से अधिक मात्रा में पानी पिए 2) 1 दिन में तीन बार भोजन करने के बजाय 6 बार थोड़ी थोड़ी मात्रा में कुछ ना कुछ खाते रहें 3) अपने डाइट में दही और केले को स्थान दें यह कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर होता है 4) तेज गंध वाले और हैवी डायट न लें हल्का-फुल्का और जल्दी पचने वाला आहार लें Take care💐
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे bhut चक्कर आ रहें हे इसके उपाय बताये
उत्तर: Hello dear अगर आपको बैठते हुए या लेटते हुए चक्कर महसूस हों, तो ऐसा शिशु द्वारा आपके दाएं तरफ की बड़ी नस (इनफीरियर वीना कावा) पर दबाव डालने की वजह से हो सकता है। यह नस आपके निचले अंगों से खून प्राप्त करती है। अपने बाएं तरफ करवट लेकर लेट जाएं, इससे हृदय को पूरे शरीर में आसानी से रक्त पहुंचाने में मदद मिलेगी। चक्कर आने की एक वजह यह भी होसकती है की बॉडी को और जायदा एनर्जी की जरुरत है। आप थोड़ी थोड़ी टाइम में कुछ कुछ कहती रह। साथ ही, खूब सारा पानी, बिना कैफीन वाले पेय या फलों का रस लें, ताकि आपके शरीर में पानी की कमी न हो। जब आप प्रेगनेंट होती हैं तब यह बहुत जरूरी है कि आप अपना आहार पौष्टिक है. इससे आपको और आपके होने वाले बच्चे को पौष्टिक तत्व मिलेंगे. प्रेग्नेंसी में कुछ अधिक कैलोरी की जरूरत होती है. प्रेगनेंसी में सही आहार का मतलब है -आप क्या खा रही हैं ?ना कि कितना खा रही हैं? जंक फूड का सेवन ज्यादा ना करें. isme कैलोरी ज्यादा है पोष्टिक तत्व कम या ना के बराबर होते हैं. फोलिक एसिड आपको 1 ट्रिमस्टर में ही चालू करदेना चहिये। फ़ोलिक एसिड का होने वाले बच्चे की ग्रोथ में बहुत बड़ा योगदान रहता है। फ़ोलिक एसिड विटामिन है ।विटमिन B 9। ये आपको खाने पिने में फॉलेट नाम से मिलेगा । बाबी के इस्पीनलकार्ड के चारो और पॉलिब पेरत को सही तरीके से बंद करता है।वाहा गप नहीं आने देता। मा के लिए भी बहुत जरुरी है ।विटमिन B 12 के साथ मिलकर हेअल्थी रेड सेल्स बाँटा है। 1) दूध और डेयरी के ले सकती हैं. मलाई वाला दूध दही छाछ घर का पनीर इन सब में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन बी12 बहुत होता है. 2) सभी अनाज ,दालें . इन सब में प्रोटीन बहुत अच्छा होता है. 3) पेय पदार्थों में आप पानी bahut piyen.खास करके आप साफ पानी joki फ़िल्टर किया हुआ. ताजे फलों का रस ले. डिब्बाबंद juis nahi le. इसमें शक्कर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. 4) वसा और तेल . वेजिटेबल ऑयल का वसा एक अच्छा स्रोत है क्योंकि इसमें संतृप्त वसा अधिक होता है. इन सभी चीजों के साथ आप डॉक्टर की सलाह मानें .जो भी टेस्ट किए हैं दिए गए हैं उन्हें करवाएं समय पर. दवाइयां समय पर ले और नींद पूरी. खाना जो भी खाएं अच्छे से चबाकर खाएं. प्रेगनेंसी के समय मिल्क प्रोडक्ट calcium और प्रोटीन बहुत जरुरी होता है। डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन की मात्रा काम होने से बच्चे की ग्रोथ में बहुत अंतर आता है। प्रोटीन जरूरी पौशाक तत्वों में से है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की kaam मात्रा बच्चे के sahi विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।  बस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है।  इनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना. ओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है . take care.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे बहुत चक्कर आ रहे हैं
उत्तर: हेलो डियर प्रेग्नेंसी में चक्कर आ ना बहुत ही नॉर्मल बात है इस में घबराने की को ई बात नहीं है डियर . इस दौरान आप को अपने खाने -पीने में ज्यादा से ज्यादा ख्याल रखना चाहिए . ज्यादातर महिलाओं को पहले तिमाही में ज्यादा चक्कर आने लगते हैं लेकिन किस से किस से महिला को दूसरी तिमाही में भी चक्कर आने लगते हैं और यह बहुत आम बात है डियर क्योंकि ज्यादा काम करने की वजह से ज्यादा टाइट कपड़े पहनने की वजह से खानपान टाइम पर ना करने की वजह से भी चक्कर आते हैं .प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले एनीमिया के कारण भी महिलाओं को चक्कर आने लगते हैं। इसलिए सही समय पर आयरन कैप्सूल लेते रहे और डाइट में पालक,चुंकदर जैसी सब्जियों की मात्रा बढ़ा दें। आप ज्यादा से ज्यादा पानी पीजिए डियर लेकिन डियर आपको 1 दिन में चक्कर बहुत पर आ रहे हैं तो आपको डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए . खयाल रखें डियर .
»सभी उत्तरों को पढ़ें