14 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: माला एसिडिटी का खोपरा आहे क्या मोरे माझा छातीत आने पर पेट दुखतेमला एसिडिटी से खुप त्रास आहे इला सांगा

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो प्रेगनेंसी के दौरान पेट में जलन और दर्द होना नॉर्मल है ज्यादा तेल वाले खाने मिर्च मसाले और मैदा वाले खाने से पेट में गैस बनता है और जिसके कारण पेट में जलन होती है। इससे बचने के लिए खूब पानी पिए नारियल पानी पिए सलाद खाएं। चाय कॉफी ना पिए ज्यादा देर तक भूखी ना रहे। थोड़ा थोड़ा करके कई बार खाए एक ही बार में ज्यादा ना खाएं।। सोते समय लेफ्ट करवट सोए राइट नहीं राइट करवट सोने से भी गैस बनता है और जलन होती है खाना खाने के बाद सौंफ के साथ मिश्री खाएं। दिन में कम से कम एक नारियल पानी जरूर पीएं। इससे पेट शांत होगा और जलन में राहत मिलेगी
Answer: Dear kahi kaji naka karu hey normal aahe, tumhala hee nahi pregnancy madhe acidity khoop normal aahe, hormones var aani khali hota techa saathi asa hota.. techa saathi tumhala khoop paani ghyave, walking karave, citrus fruits kami gheyave.. vel var jevan karayacha..
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: स्क्रैच आने का मन है गर्भवती महिला के पेट में स्क्रैच आने का मन है पेट में स्क्रैच आने का माला हम
उत्तर: प्रेग्नेंसीय में जैसे जैसे बेबी का आकार बढ़ता है बॉडी और पेट का साइज भी बढ़ने लगता है जिसके कारण स्किन खिंचने की वजह से स्ट्रेच मार्क भी होने लगता हैं ऐसे में आप बायो आयल का प्रयोग कर सकती है , और नारियल के तेल में थोड़ा सा कपूर मिलाकर लगाने से इचिंग नही होगी और जब इचिंग नही होगी ब स्ट्रेच मार्क्स नही होगा , आप अपने बॉडी पर एलोवेरा जेल भी लगा सकती है कोकोआ बटर एक दूसरा उपाय है जिसे आप आसानी से इस्तेमाल कर सकती हैं. दिन में करीब दो बार कोकोआ बटर से प्रभावित जगह पर मसाज करें. रात को सोने से पहले और सुबह नहाने के बाद जरूर से बटर लगाएं. ताकि मॉइश्चर बना रहे.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या डकार आने का मत्लव बच्चे का पेट बी.एच.आर. गया
उत्तर: यदि बच्चा को डकार आता है तो इसका मतलब है कि बच्चे का पेट भर गया ,डकार आना बच्चे के लिए बहुत जरूरी होता है क्योंकि इसके वजह से गैस बनने की समस्या खत्म हो जाती है|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो डॉक्टर , मेरे पेट पर अभी से स्ट्रेच marks आने लगें है . इस से बचने का क्या उपाय है ?
उत्तर: हेलो डियर खिंचाव के निशान (स्ट्रेच मार्क्स) पूरी तरह से रोकने का कोई प्रमाणित तरीका नहीं है। मगर हां, कुछ ऐसे उपाय अवश्य हैं, जिन्हें आजमाकर आप इनके प्रभाव को कम कर सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ने और पेट बड़ा होने की वजह से त्वचा में खिंचाव होता है, जिस वजह से स्ट्रेच मार्क्स (स्ट्राई ग्रेविडेरम) होते हैं। चाहे आप गर्भवती न भी हों, मगर यदि आपका वजन तेजी से बढ़ रहा है, तो आपको स्ट्रेच मार्क्स हो सकते हैं।स्ट्रेच मार्क्स कुछ हद तक वंशाणुओं पर भी निर्भर करते हैं। अगर, आपकी माँ को स्ट्रेच मार्क्स हैं, तो इस बात की संभावना रहती है कि आपको भी ये निशान होंगे। आपकी त्वचा के रंग के आधार पर शुरुआत में खिंचाव के ये निशान लाल या हल्के भूरे रंग के दिखाई देते हैं। मगर, शिशु के जन्म के बाद ये हल्के पड़ जाते हैं और सफेद या हल्के भूरे रंग की लाइन जैसे दिखते हैं। निम्नलिखित सुझाव शायद स्ट्रेच माक्र्स पूरी तरह रोक न पाएं, मगर ये उन्हें कम करने में मदद जरुर कर सकते हैं। एंटी ऑक्सीडेंट, विटामिन ई, विटामिन ए और ओमेगा3 फैट्टी एसिड से भरपूर भोजन त्वचा के लिए काफी पौष्टिक माने जाते हैं। इसलिए, पर्याप्त मात्रा में ताजे फलों व सब्जियों, अनाज, बीज और मेवों से परिपूर्ण सेहतमंद आहार लें।खूब सारा पानी पीएं। अच्छी तरह जलनियोजित त्वचा अधिक लचीली होती है। आप पानी की अधिकता वाले फल और सब्जियों जैसे कि तरबूज, खीरा, लौकी/दूधी आदि का भी सेवन कर सकती हैं।इस बात कि कोशिश करें कि आपका वजन एकदम तेजी से बढ़ने की बजाय धीरे-धीरे और नियमित रूप से बढ़े।वजन बढ़ना नियंत्रित करने के लिए नियमित हल्के व्यायाम करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें