5 महीने का बच्चा

Question: 6 महीने के बच्चे को क्या खिलाएं

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर 6 महीने के बाद आप को बेबी को क्या खिलाना चाहिए उसके लिए एक डायट चार्ट बनाकर दे रही हूं आप उसी के अनुसार अपने बच्चे को भोजन दे उससे उसका संपूर्ण विकास होगा बच्चे को 2 घंटे के बाद ब्रेस्ट फीड या फॉर्मुका मिल्क देना होता है, तो सेब की प्यूरी, मसले हुए केला, चीकू प्यूरी, मैंगो प्यूरी, एवोकैडो प्यूरी, पपीता प्यूरी, खजूर के प्यूरी के रूप में फल प्यूरी दें। प्राकृतिक विटामिन एन डी मिनरल्स से भरपूर फल। दोपहर के भोजन के बाद मूँग दाल का सूप ., मसला हुआ चावल, दही शकरकंद की प्यूरी या हलवा, nd उसके बाद शाम को bf .in 8 pm को सूजी की खीर दें। , मखाना खीर, चावल की खीर, सेवई की खीर, सेब की खीर। सेरेलैक आटे का हलवा सूजी का हलवा बेसन का हलवा चावल का पानी दाल का पानी आदि आप दें सकती है उस्से बेबी का संपूर्ण विकास होगा
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: 6 महीने के बच्चे को क्या खिलाएं
उत्तर: हेलो डियरसुबह के समय आप अपने शिशु को अपना दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु के लिए स्तनपान सबसे अच्छा माना जाता है। इसलिए शिशु के उठते के साथ ही आप उन्हें स्तनपान कराएं। जब आप शिशु को मालिश के लिए ले जा रही हों यानि कि नहाने से पहले तब आप उन्हें दाल का पानी पीने के लिए दे सकती हैं। क्योंकि यह उनके लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। लेकिन, इस बात का ध्यान रहे कि शिशु को इस समय सिर्फ उबला हु दाल का पानी दिया जाना चाहिए, बिना तड़का लगा हुआ। नहाने के बाद आप अपने शिशु को अपना ही दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु स्तनपान करते करते ही गहरी नींद में सो जाते हैं। क्योंकि, मालिश और नहाने के बाद बच्चे का बॉडी रिलैक्स हो जाता है। दोपहर के समय आप अपने शिशु को घर का बना हुआ ताज़ा जूस या सूप दे सकती हैं। क्योंकि, इस समय जूस देने से शिशु में जुकाम का खतरा नहीं रहता है। लेकिन, इस बात का जरूर ध्यान रखें कि आपअपने शिशु को घर का निकला हुआ ही जूस दें। क्योंकि, बाहरी या डिब्बाबंद जूस से संक्रमण होने का खतरा रहता है। शाम के समय आप अपने बच्चे को मूंग दाल की खिचड़ी दे सकती हैं, क्योंकि इससे शिशु का पेट भरा-भरा सा रहेगा, और साथ ही इसे पचने में भी आसानी होगी। रात में सोने से पहले कोशिश करें कि आप अपने बच्चे को सूजी की खीर या दलिया दे सकती हैं। क्योंकि, इससे शिशु का पेट तो भरा रहेगा ही साथ ही रात में वह बार-बार स्तनपान की डिमांड नहीं करेगा और वह आसानी से सोया रहेगा। क्योंकि, अक्सर बच्चे भूख के कारण ही रात में उठते हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 6 महीने के बच्चे को क्या खिलाएं
उत्तर: hello सुबह के समय आप अपने शिशु को अपना दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु के लिए स्तनपान सबसे अच्छा माना जाता है। इसलिए शिशु के उठते के साथ ही आप उन्हें स्तनपान कराएं। जब आप शिशु को मालिश के लिए ले जा रही हों यानि कि नहाने से पहले तब आप उन्हें दाल का पानी पीने के लिए दे सकती हैं। क्योंकि यह उनके लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। लेकिन, इस बात का ध्यान रहे कि शिशु को इस समय सिर्फ उबला हु दाल का पानी दिया जाना चाहिए, बिना तड़का लगा हुआ। नहाने के बाद आप अपने शिशु को अपना ही दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु स्तनपान करते करते ही गहरी नींद में सो जाते हैं। क्योंकि, मालिश और नहाने के बाद बच्चे का बॉडी रिलैक्स हो जाता है। दोपहर के समय आप अपने शिशु को घर का बना हुआ ताज़ा जूस या सूप दे सकती हैं। क्योंकि, इस समय जूस देने से शिशु में जुकाम का खतरा नहीं रहता है। लेकिन, इस बात का जरूर ध्यान रखें कि आपअपने शिशु को घर का निकला हुआ ही जूस दें। क्योंकि, बाहरी या डिब्बाबंद जूस से संक्रमण होने का खतरा रहता है। शाम के समय आप अपने बच्चे को मूंग दाल की खिचड़ी दे सकती हैं, क्योंकि इससे शिशु का पेट भरा-भरा सा रहेगा, और साथ ही इसे पचने में भी आसानी होगी। रात में सोने से पहले कोशिश करें कि आप अपने बच्चे को सूजी की खीर या दलिया दे सकती हैं। क्योंकि, इससे शिशु का पेट तो भरा रहेगा ही साथ ही रात में वह बार-बार स्तनपान की डिमांड नहीं करेगा और वह आसानी से सोया रहेगा। क्योंकि, अक्सर बच्चे भूख के कारण ही रात में उठते हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 6 महीने के बच्चे को क्या खिलाया और कैसे खिलाएं
उत्तर: हेलो बच्चे जब शुरुआत में दूध के बाद कुछ सॉलिड चीजें लेना शुरू करते हैं तो एकदम से उन्हें एक्सेप्ट नहीं कर पाते और खाना नहीं चाहते या तो उन्हें उनका स्वाद अच्छा नहीं लगता या उनकी थिकनेस के कारण वह नहीं खाना चाहते क्योंकि उन्हें खाना गटकने की आदत नहीं होती और बच्चे उसे ठीक से पचा नहीँ पाते। और उन्हें दस्त की प्रॉब्लम होती है इसलिए बच्चों को लिक्विड के बाद डायरेक्ट सॉलि़ड ना देकर सेमी सॉलि़ड फूड देना चाहिए। सेमी सॉलि़ड फूड में सेरेलक दाल और चावल की मिक्स पतली खिचड़ी दलिया की खिचड़ी या दलिया का खीर चावल का खीर फलों की स्मूदीज या फ्रूट शेक देना शुरू करें बच्चा जब यह सब चीजें खाने लगे तो एक या दो माह बाद उसे यही सब चीजें थोड़ा गाढ़ा करके दे। और साथ में दाल चावल मसलकर और दूध रोटी मसल का या दाल रोटी मसलकर खिलाएं और जब बच्चा ऐसे भी खाने लगे तो उसके 2 महीने बाद फिर नॉर्मल खाना बच्चे को खिलाना शुरू करें स्टेप बाई स्टेप बच्चों के आहार को गाढ़ा करने से बच्चे आसानी से डाइजेस्ट कर लेते हैं और खाना भी सीख जाते हैं। इससे बेबी का वजन जरूर बढेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें