12 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: बॉय के लिye क्या simtams होते h

2 Answers
सवाल
Answer: बच्चे के लिंग का पता तो बच्चे के जन्म के बाद ही लगा सकते हैं और भारत में बच्चे का लिंग जानने की अनुमति नहीं है अतः आप किसी और विधि से से भी इसका पता नहीं लगा सकती हैं। कुछ किवदंतियां हैं की यदि गर्भवती स्त्री को मीठा अच्छा लगता है तो बेटा जन्म लेता है और यदि नमकीन अच्छा लगता है तो बेटी जन्म लेती है
Answer: hello dear जब कोई बेबी कंसीव करता है तो 50% प्रोबेबिलिटी बेटे की होती है और 50% प्रोबेबिलिटी बेटी होने की होती है। sorry dear ye to baby hone ke baad hi pata chal payegaa ki beta hai yaa beti.ladki aur ladka hone ke liye koi khas symptoms nahi hote hai .
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: डिलिवरी होने के क्या simtams ह
उत्तर: हेलो डिअर, आप की डिलीवरी के समय आने पर आप कुछ इस तरह से पहचान सकती है पीरियडआने से पहले वाली ऐंठन के साथ लगातार पीठ के निचले हिस्से में या पेट में दर्द होता है कभी कभी दर्द धीरे फिर तेज भी हो सकता है और फिर अधिक तेज होने लगता है पानी की थैली फटना। एमनियोटिक द्रव के तेजी से बहने या रिसाव से आपकी झिल्ली फट सकती है। ऐसा कुछ भी हो, तो अपनी डॉक्टर से संपर्क करें भूरे या खून सी रंग वाले तरल चीजो का निकलना। अगर आपकी गर्भाशय की ग्रीवा पर लगा श्लेम का डाट बाहर आ जाता है, तो हो सकता है आपका प्रसव बहुत करीब हो या फिर इसमें कई दिन भी लग सकते हैं। पेट में गड़बड़ या दस्त। बात बात पर मूड बदलने लगता है बार बार नींद टूटती है !
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: बॉय होने के क्या लक्षण होते है
उत्तर: हेलो डियर आप के गर्भ में लड़का है लड़की के है कहना बहुत ही मुश्किल है और मेरा आपको यह एक सुझाव रहेगा कि आप बिल्कुल भी यह जानने की कोशिश नहीं करें एक्साइटमेंट बनी रहने दे आपको डिलीवरी के समय जब पता चलेगा तब आपको ज्यादा अच्छा लगेगा इसके अलावा दोनों बच्चे आजकल एक समान है फर्क नहीं रखी और ना ही जाने की कोशिश करें बस बच्चा बहुत ही हेल्दी हो यही प्रार्थना करें इसके लिए आप हेल्दी डाइट में खूब अच्छे से पानी पर टाइम से डॉक्टर से चेकअप करवाते रहें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: बेबी बॉय होने के लक्षण किया होते hai
उत्तर: गर्भ में बॉय है या गर्ल,, इस बात की चिंता ना करें तो ही बेहतर है क्योंकि आपके लिए बेबी का पूरी तरह से स्वस्थ होना बहुत ज्यादा जरूरी है अपने डेली रूटीन में सभी प्रकार के पोषक तत्व से भरपूर संतुलित आहार लें |डॉक्टर द्वारा दी गई सभी दवाएं को समय-समय पर ले हल्का व्यायाम आदि करें, जिससे आपका बेबी शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ हो|
»सभी उत्तरों को पढ़ें