9 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: ट्विन्स बेबी का कब पता चलता हे ?

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो जब आप डॉक्टर को दिखाने जेएंगी तब आपको पता चलेगा . दो स्पर्म दो एग के साथ मिलता है तो डिज़िगोटिक ट्विन्स होता है और ये हमेसा डिओमनीओटिक दिछोरिओनिक होता है बूत अगर एक स्पर्म और एक एग के साथ मिलता है और अगर ७२ घंटो के अन्दर में डिवाइड होता है तो दिछोरिओनिक डिओमनीओटिक होता है , ये कवरिंग होता है जिसके अंडर बेबी कवर रहता है उस लेयर को चोरिओं एंड ामणिओं बोलते है । सभी प्रेग्नेंट लेडीज का काम से काम २ बार अल्ट्रासाउंड होता है। १स्ट ट्राइमेस्टर में और २ण्ड ट्राइमेस्टर में होता है।आप आपने डॉक्टर से पूछे । जो ध्वनि तरंगे अल्ट्रासाउंड से निकलती है वह प्रजेंटर के जरिए बेबी के शरीर में हो रहे ब्लड फ्लो और साथ ही उसकी रक्त संचरण प्रणाली को छू कर वापस आ जाती है .isse स्क्रीन पर तस्वीर बन कर देखती है जिससे डॉक्टर को पता चलता है कि खून किस तरह flow हो रहा है .इससे आपके baby की सेहत का बेहतर अंदाज लगाया जा सकता है.
  • avatar
    Madhuri Deshmane 1070 days ago

    thank u so much

Answer: जब आप पहली स्कैनिंग कराओगे थर्ड मंथ में तब पता चल जाएगा कि आपके अंदर सिंगल जनरेशन है या डबल जनरेशन है स्कैनिंग में सब आ जाता है
  • avatar
    Madhuri Deshmane 1070 days ago

    thank u

समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: बच्चो की हलचल कब पता चलता हे
उत्तर: हेलो डियर आप परेशान ना हो बेबी का मूवमेंट प्रेगनेंसी के 22 से 23 सप्ताह तक में ही पता चलता है कम सप्ताह में बेबी का ग्रोथ कम होने की वजह से बेबी का मूवमेंट महसूस नहीं हो पाता है जब बेबी मूवमेंट करेगा तो पेट में बुलबुले की तरह महसूस होता है और जिस तरह से पेट में गैस बनता है उसी तरह से बेबी का मूवमेंट भी फील होता है आप आसानी से समझ सकते हैं कि आपके बेबी के मूवमेंट में किस तरह का फील होगा
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: ट्विन्स बेबी का कैसे पता चलता है
उत्तर: हेलों आपको सिंगल बेबी है या ट्विन्स ये डॉक्टर अल्ट्रासाउन्ड कर के क्लियर करते है ..कभी कभी शुरुआत प्रेग्नसी में ये पता लगा पाना मुश्किल होता है तो ये प्रेग्नसी की दूसरे तिमाही में डॉक्टर क्लियर करते है कि आप के गर्भ में एक बेबी है या ट्विन्स .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: ट्विन्स का कैसे पता चलता हे की ट्विन्स है या नही दुसरे म्हीनें मे बिना अल्तरसोउ के
उत्तर: हेलो डियर ज्यादातर गर्भ में जुड़वा बच्चे होने मॉर्निंग सिकनेस की परेशानी सामान्य महिलाओं की तुलना में अधिक होती हैं इस अवस्था में अधिक भूख प्यास और थकावट लग सकती है ।जुड़वा गर्भावस्था में वजन सामान्य गर्भावस्था की तुलना में अधिक होता है गर्भावस्था के 9 वें सप्ताह में जुड़वा बच्चों की धड़कन अलग अलग सुनी जा सकती है और कभी-कभी सुन पाना मुश्किल भी होता है जुड़वा गर्भावस्था में नॉर्मल डिलीवरी की संभावना कम और समय से पहले होती है अक्सर जुड़वा गर्भावस्था में डिलीवरी 36 या 37 सप्ताह के बीच हो सकती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें