17 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: सफरिंग फ्रॉम कॉन्स्टीपेशन

2 Answers
सवाल
Answer: प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या हो जाना बेहद सामान्य है. हर रोज कुछ देर टहलने से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है. फाइबर युक्त भोजन करें। फल लें ।गर्भावस्था में आम खाने से भी राहत मीलती है क्योकी ईसमे फाइबर अधिक मात्रा मे होती है।जो कब्ज की रोकथाम में मदद कर सकता है। रिफाइंड भोजन जैसे कि इंस्टेंट नूडल्स का सेवन कम कर दें। मैदा का इस्तेमाल आमतौर पर सफेद ब्रैड, पूरी, कुलचा, नान, केक और बिस्किट बनाने में होता है। आप मैदा की बजाय इनके अनाज या आटे का चयन करें। खूब सारा पानी पीएं, कम से कम आठ से 12 गिलास। ज्यादा से ज्यादा लिक्विड जैसे पानी नारियल पानी दूध छाछ लेना चाहिए। सुबह गुनगुने पानी में नींबू रस डालकर लेने से कब्ज से राहत होती है।
Answer: आप कुछ घरेलू उपचार है , कर के देखें राहत मिलेगी अगर फिर कुछ फर्क नही पडा तो आप डॉक्टर से एक बार दिखा दो . मुनक्‍का में कब्‍ज नष्‍ट करने के तत्‍व मौजूद होते हैं। 6-7 मुनक्‍का रोज रात को सोने से पहले खाने से कब्‍ज समाप्‍त होती है। इसके अलावा सुबह उठने के बाद बिना कुछ खाए हुए, 4-5 दाने काजू के और 4-5 दाने मुनक्‍का के साथ खाइए, इससे कब्‍ज की शिकायत समाप्‍त होगी। ईसबगोल पेट की लगभग हर समस्या का इलाज हो सकता है। ये गर्भावस्था के दौरान कब्ज दूर भागने के लिए यह बहुत लाभकारी होता है। ऐसी अवस्था में एक ग्लास गर्म दूध में एक चमच्च ईसबगोल मिलकर पी जायें। नियमित रूप से ऐसा करने से पेट की ये समस्या बिल्कुल ठीक हो जाती है।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: आई एम सफरिंग फ्रॉम कॉन्स्टीपेशन
उत्तर: अक्सर गर्भावस्था में कब्ज की समस्या हो जाती है। कब्ज की समस्या से बचने के लिए सुबह शाम टहलें। फाइबर युक्त भोजन और फल का सेवन करें इंस्टेंट नूडल्स मैदा के बने व्यंजन सफेद ब्रेड पूड़ी कुलचा नान के बिस्किट चॉकलेट आदी कब्ज कि समस्या पैदा करते हैं इनके जगह आप अनाज और आटे का उपयोग कर सकते है कब्ज की परेशानी होने पर ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए कम से कम 8 से 10 गिलास पानी 1 दिन में जरूर पिए ज्यादा से ज्यादा लिक्विड लें नारियल पानी दूध छाछ लस्सी आदी लें सुबह गुनगुने पानी में नींबू का रस डाल कर लेने पर कब्ज से राहत मिलती है फाइबर युक्त आहार लें जादा देर तक बैठ कर जोर न लागाये हल्का गुनगुना पानी पियें जब प्रेशर आऐ तब कोशिश करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: i एम सफरिंग फ्रॉम टू मच कॉन्स्टीपेशन
उत्तर: आप बिल्कुल चिंता ना करें बस कुछ बातों का ध्यान रखें आप अपने खाने में सलाद ले ,रफेज की मात्रा बढ़ा दें तरल पदार्थों का उपयोग ज्यादा करें ,आप रोज 8 से 10 गिलास पानी पिएं , आप रात में में मुनक्का दूध मैं बॉईल करें ठंडा होने पर वही दूध पी लें और सारे मुनक्के खा लें इससे आपको बहुत अधिक राहत मिलेगी और धीरे-धीरे ठीक भी होने लगेगा constipation आप यह भी कर सकते हैं कि रात में अंजीर भिगो दें और सुबह फ्रेश होने के बाद खाली पेट अंजीर खा ले धीरे-धीरे जड़ से आपका कॉन्स्टिपेशन चला जाएगा ज्यादा तेल का बना हुआ और मसालेदार खाना अवॉइड करें अपने आहार में फलों को शामिल करें पत्तेदार सब्जियां और छिलके वाली दालें खाएं आप जितना टहल सकती हैं उतना टहले दिन भर बैठे ना रहे फिर भी अगर आपको कॉन्स्टिपेशन में आराम नहीं है तो अपने डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो माय डॉटर इज सफरिंग फ्रॉम कॉन्स्टीपेशन व्हाट कैन आई डू फॉर हर शि इज फोर इयर्स ओल्ड
उत्तर: hello dear जब बच्चों को ठोस शुरू होता है, तो उसे रोज पूप करना चाहिये 1 दिन गैप हो जाए तो कोई बात नही लेकिन यह मुश्किल नहीं होना चाहिए क्योंकि यह कब्ज की शुरुआत हो सकती है। आहार में चावल, केले, गाजर आदि जैसे कम फाइबर भोजन की कमी के कारन ऐसा होता है। 1.कुछ दिनों के लिए kheer आदि जैसे अन्य दूध के बने सामान बेबी को ना दें। 2.छिलके के साथ ऐप्पल प्यूरी, और prunes रस के साथ नाशपाती प्यूरी दें। 3.. रात में किशमिश भिगो दें और अगली सुबह उसका पानी दें। 4.. अनार का छिलका पानी में उबालें और वह पानी दें। 5.. ओट्स और बहुत सारे पानी जैसे समृद्ध फाइबर आहार शामिल करें। 6. गर्म तेल के साथ बच्चे के पेट मालिश। 7. गर्म पानी स्नान। 8. बेबी के आहार में दही, सलाद, मक्खन शामिल करें। 9. अधिक तरल आहार।
»सभी उत्तरों को पढ़ें