16 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: फोलिक एसीह किन चीजो मे रहता हे

3 Answers
सवाल
Answer: फॉलिक एसिड एक बी विटामिन (विटामिन बी9) है। यह स्वाभाविक रूप से खाद्य पदार्थों में फोलेट के रूप में उपलब्ध होता है। फॉलिक एसिड आपके अजन्मे शिशु में स्पाइना बिफिडाजैसे तंत्रिका ट्यूब दोष को विकसित होने से बचाता है। स्पाइना बिफिडा तब होता है जब गर्भ में पल रहे शिशु की मेरुरज्जु (स्पाइनल कॉर्ड) के चारों तरफ विकसित होती सुरक्षात्मक परत सही तरीके से बंद नहीं हो पाती और इसमें गैप रह जाता है। इससे तंत्रिका को स्थाई क्षति हो सकती है और कई बार यह लकवे का कारण भी हो सकता है। फॉलिक एसिड आपके लिए भी अच्छा है, क्योंकि यह विटामिन बी12 के साथ मिलकर स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने का काम करता है। ऐसे बहुत से खाद्य पदार्थ हैं जिनमें फॉलिक एसिड होता है। आपको इन्हें अपने आहार में शामिल करने का प्रयास करना चाहिए। इन खाद्य पदार्थों में शामिल हैं हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे कि पालक, सरसों का साग, मूली के पत्ते, दाल, मेवे जैसे कि अखरोट और राजमा।  कोशिश करें कि आप फॉलिक एसिड से भरपूर भोजनों को अधिक न पकाएं, क्योंकि यह एक कोमल विटामिन होता है, जो ज्यादा देर तक पकाए जाने पर नष्ट हो जाता है। प्रयास करें कि आप इन्हें ढके हुए बर्तन में और कम पानी में पकाएं। सब्जियों को हल्की भाप में पकाकर, या बेक करके खाएं। आप इन्हें कच्ची भी खा सकती हैं...ok
Answer: हेलो डियर फॉलिक ऍसिड सबसे जादा हरे रंग के साग जैसे पलक ऑर मेथी धनिया सेम मटर मसूर एवोकाडो मुगफ़ल्लि बादाम कद्दू तिल सुरजमुखि के बीज चुकंदर भिण्डी फूल गोभी काले अंगूर सन्तर स्टरबीर्रय गाजर इन सब में प्राप्त मात्रा में फॉलिक ऍसिड पाया जता है
Answer: .
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: पहले माह में किन चीजो काध्यान रखना होगा
उत्तर: हेलों आप 1 महीने प्रेगनेट है एक लेडी को शुरुआति प्रेगनेंसी में अपनी एक्स्ट्रा केयर करना चाहिए आपके खान पान रहन सहन सबका असर आपके बच्चे पर पड़ता है इसी दौरान गर्भ में भ्रूण का विकास होना शुरू होता है।आप स्वस्थ गर्भावस्था के लिए, आहार को संतुलित और पौष्टिक होने की आवश्यकता होती है - इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा का सही संतुलन होता है . आपको इस समय आयरन, फ़ोलिक ऍसिड , वाइटमिन्स आदि की सही मात्रा की जरुरत होती है . कुछ फ़ूड आइटम जैसे - डेरी प्रॉडक्ट दूध , दही , पनीर , सभी दालें , आलु , एग , मीट,फल जैसे -केला ,अनार ,लिचि ,अमरूद ,जामुन ,मऔसमबि सन्तरा, आम, एवाकाडो ,अंगूर नींबू ,सेब ,चीकू सभी ड्राइ फ्रूट्स लें .इसके साथ ही हरी सब्ज़ी पालक , मुनगा , चुकन्दर , कद्दू , टमाटर आदि सभी को डायट में शामिल करें . आप करेला ,बैगन ,पपीता, पाइनएप्पल सुरन, चाय ,कोफ़ी मैगी, ज़्यादा स्वीट्स , अल्कोहल , कोल्ड ड्रिन्क्स ,का सेवन प्रेग्नेसी में ना करे डॉक्टर सुग्गेस्टेस फॉलिक ऍसिड आयरन कैल्सीअम की टैबलेट्स समय से लें साथ ही पानी एक दिन में 10 से 12 गलास पीये तरल पेय जैसे नारियल पानी लेमन वाटर छाछ फ्रूट्स ज्यूस भी लें स्ट्रेस बिल्कुल भी ना ले खुश रहें . इन बातों का रखें खास ख्याल rakhe भारी वजन न उठाएं  ज्यादा डांस न करें  सीढ़ियां नहीं chade हील न पहनें  ज्यादा ड्राइविंग न करें  लंबी यात्रा न करें  कमर से झुकने के बजाय घुटने मोड़कर बैठें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: कैल्शियम किन किन चीजो मे होता है
उत्तर: हेलो डियर ,,,,प्रेगनेंसी में अधिक मात्रा में शरीर को कैल्शियम की आवश्यकता होती है , जिसके कारण प्रेगनेंसी में कैल्शियम टेबलेट दिया जाता है ताकि बॉडी में कैल्शियम की पूर्ति हो सके| कैल्शियम टेबलेट के अलावा आप कुछ भोज्य पदार्थ को अपने डेली रूटीन में शामिल कर कैल्शियम की मात्रा बढ़ा सकते हैं पनीर ,हरी सब्जियां ,रागी ,दूध अंजीर ,बादाम, दही ,ब्रोकली, संतरा, मक्खन, क्रीम,आंवला ,अंडा ,मछली, हरी पत्तेदार सब्जियां, ड्राई फ्रूट्स , केला आदि ऐसे फूड है जो कि बहुत जल्दी ही आपके शरीर में कैल्शियम की मात्रा बढ़ाने में मदद करते हैं|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: जी प्रेग्नेन्सी के समय में एक पति को किन किन चीजो का धयान रखना पड़ता है
उत्तर: प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला का मूड स्विंग होता है और उसे छोटी-छोटी बातों में गुस्सा आता है तो ऐसे में पति को थोड़ा धैर्य से काम लेना चाहिए झगड़े को आगे बढ़ाना नहीं चाहिए और अपनी पत्नी को ज्यादा से ज्यादा खुश रखना चाहिए जिससे पत्नी और बच्चे दोनों का स्वस्थ्य अच्छा रहे।
»सभी उत्तरों को पढ़ें