24 weeks pregnant mother

Question: प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली शरीर पर खुजली

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर गर्भावस्था में खुजली होना एक आम बात है ।गर्भावस्था में जब आपके गर्भ में बच्चे का विकास होता है तो उस समय पेल्विक हिस्सा फैलाता है और खिंचाव होने के कारण शरीर में खुजली होने लगती है इस खुजली को कम करने के लिए आप निम्न उपाय अपना सकती हैं आप अपनी खुजली वाली जगह पर नारियल तेल लगाएं इससे आपको खुजली में बहुत आराम मिलेगा । आप ढीले कपड़े ही पहने। खुजली वाली जगह पर मॉश्चराइजर लगाएं। अपने शरीर की खुजली को कम करने के लिए ऐसे साबुन का प्रयोग करें जिसमें नमी हो।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: शरीर में होने वाली खुजली को बन्द करने के लिए क्या इस्तेमाल करे
उत्तर: हेलो ,,,प्रेगनेंसी में खुजली की समस्या एक आम समस्या है इसलिए इस संबंध में आप बिल्कुल चिंता ना करें बॉडी में खुजली Dur karne ke liye kuch upay Apna sakte hain 1)आप खीरे के रस को प्रभावित स्थान पर लगाएं धीरे-धीरे खुजली कम होने लगेगी | 2टमाटर का रस या आप सुबह उठकर टमाटर का रस ही पिएगी तो इसका प्रभाव आपकी बॉडी पर पड़ेगा ,खुजली भी कम हो जाएगी | 3)नारियल व कपूर तेल का मिश्रण खुजली वाले जगह पर लगाएं या एलोवेरा के जूस को भी धीरे-धीरे मसाज kre.खुजली में भी कमी आएगी| 4)विटामिन ई की टेबलेट को लगाएं इससे धीरे-धीरे खुजली से भी राहत मिलेगी| 5) हल्दी पाउडर ,चंदन पाउडर को दूध में मिलाकर लगाएं khujli में कमी आएगी| 6)जिन स्थानों पर khujli है फंगल इंफेक्शन हो सकते हैं इसलिए आप उसी स्थान पर तुलसी की पत्तियों का रस या लहसुन का रस मिलाकर लगाएं धीरे-धीरे वह इस फंगल इन्फेक्शन की कमी करेगा| 7) इसके अलावा आप अपने कपड़ों को स्वच्छ रखें अगर आप के अंदरूनी भागों में ऐसा इंफेक्शन है तो आप अपने पेन्टी को दिन में दो या तीन बार बदले ताकि इनफेकशन और ना हो अपनी स्वच्छता का विशेष ध्यान रखिए| टेक केयर
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: प्रेगनेंसी में खुजली होने पर कैसे राहत पायें ये खुजली
उत्तर: हेलो ,,,प्रेगनेंसी में खुजली की समस्या एक आम समस्या है इसलिए इस संबंध में आप बिल्कुल चिंता ना करें बॉडी में खुजली Dur karne ke liye kuch upay Apna sakte hain 1)आप खीरे के रस को प्रभावित स्थान पर लगाएं धीरे-धीरे खुजली कम होने लगेगी | 2टमाटर का रस या आप सुबह उठकर टमाटर का रस ही पिएगी तो इसका प्रभाव आपकी बॉडी पर पड़ेगा ,खुजली भी कम हो जाएगी | 3)नारियल व कपूर तेल का मिश्रण खुजली वाले जगह पर लगाएं या एलोवेरा के जूस को भी धीरे-धीरे मसाज kre.खुजली में भी कमी आएगी| 4)विटामिन ई की टेबलेट को लगाएं इससे धीरे-धीरे खुजली से भी राहत मिलेगी| 5) हल्दी पाउडर ,चंदन पाउडर को दूध में मिलाकर लगाएं khujli में कमी आएगी| 6)जिन स्थानों पर khujli है फंगल इंफेक्शन हो सकते हैं इसलिए आप उसी स्थान पर तुलसी की पत्तियों का रस या लहसुन का रस मिलाकर लगाएं धीरे-धीरे वह इस फंगल इन्फेक्शन की कमी करेगा| 7) इसके अलावा आप अपने कपड़ों को स्वच्छ रखें अगर आप के अंदरूनी भागों में ऐसा इंफेक्शन है तो आप अपने पेन्टी को दिन में दो या तीन बार बदले ताकि इनफेकशन और ना हो अपनी स्वच्छता का विशेष ध्यान रखिए| टेक केयर
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या प्रेगनेंसी के दौरान थाइरॉइड होने से नॉर्मल डिलिवरी के चान्सेस कम हो जाते है ?
उत्तर: हेलो नही एसा कुछ भी नही है . प्रेग्नन्सी होने पे सब से पहले यही लगता है की नार्मल डेलिवेरी हो।asa lagna सही भी है। और आप इसके लिए कोशिश भी कर सकती है।।अपना पूरा dhyan रखे। समय पे दवाई ले।पौष्टिक आहार ले।पानी खूब पीए। डिलीवरी कैसी होगी ये पहले से कहना सम्भव नहीं है। आप आपने पूरा ध्यान रखे। सब अच्छा ही होगा। ड़ोक्टर की सलाह से आप एक्सरसाइज करे। थोड़ी वाक करे । नॉर्मल थाइरॉइड स्टिमुलतिनग हार्मोस TSH प्रेग्नेन्सी के समय low रहता है नॉर्मल नोनप्रेगननसी लेवल के . 1st ट्रिमेस्टेर में 2.5 से कम रहता है .रेंज है 0.1 से 2.5 . 2nd ट्रिमेस्टेर में 0.2 से 3.0 तक . अगर प्रेग्नेंसी में थायराइड हो गया है तो परेशानी की कोई बात नहीं है डॉक्टर द्वारा दी गई दवाइयां को समय पर ले. समय-समय पर अपना ब्लड टेस्ट कराएं और ध्यान रखें कि आप डॉक्टर से सलाह करके ही थायराइड में सहायक होने वाले व्यायाम या एक्सरसाइज या कोई प्राणायाम करें. आमतौर पर pregnancy के दौरान थायरॉयड के इलाज में दवाओं के डोज बढ़ा दिए जाते हैं लेकिन बच्चे के जन्म के बाद इसे जरूरत के हिसाब से कम कर दिया जाता है। थायराइड आजकल ऐसी प्रॉब्लम है जो बहुत सी लेडीस को होती है ।परेशान मत होइए। हमारे गले में थायराइड ग्लैंड से होती हैं। जो शरीर से आयोडीन लेकर थाराइड हॉर्मोन्स बनाते हैं। यह हारमोंस शरीर में मेटाबॉलिज्म को बनाए रखने में मदद करते हैं। जब इन हारमोंस की मात्रा बढ़ती है या कम होती है तब थायराइड की प्रॉब्लम हो जाती है। जिससे हमारे शरीर में अंदर बाहर बहुत से बदलाव होते हैं । यह दो प्रकार के होते हैं १।हाइपो थायराइड और २।हाइपर थायराइड। थायराइड होने पर आप इन्हें अपने खाने में जरूर शामिल करें। मशरूम -मशरूम में सेलेनियम होता है । थायराइड को कंट्रोल करता है। अंडा -अंडे में भी सेलेनियम होता है। जो थायराइड कम करने में मदद करता है। आप रोज एक अंडा खाए। नट्स खाने से भी थाराइड हारमोंस में मदद मिलती है। आप नट्स में बादाम और अखरोट खा सकती हैं अगर आपको कोई कैलेस्ट्रोल प्रॉब्लम है तो। दूध -दूध पीने से थायराइड हारमोंस को कंट्रोल करने में बहुत मदद मिलती है ।रोज एक गिलास दूध जरूर पीना चाहिए। साबुत अनाज -साबुत अनाज रोज में खाने से थायराइड के साइड इफेक्ट से आप बच सकते हैं। मेथी -मेथी में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो थायराइड हार्मोन कंट्रोल करते हैं । इन सभी चीजों को अपने रोज के आहार में शामिल करें आपके थायराइड समस्या में बहुत आराम मिलेगा। थायराइड होने पर क्या नहीं खाएं । आयोडीन नमक -ऐसा नमक नहीं है जिस में आयोडीन की मात्रा ज्यादा हो।ऐसा कोई आहार ना ले जिसमें आयोडीन बहुत हो। चाय व कॉफी कम से कम ले । अल्कोहल बिल्कुल भी ना लें। वनस्पति घी या डालडा का प्रयोग ना करें। कैपिंग अपना ध्यान रखें .
»सभी उत्तरों को पढ़ें