33 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: पैरो में सुजन क्यु है

1 Answers
सवाल
Answer: गर्भाशय के कारण नसों पर दबाव बनता है, जिस वजह से ब्‍लड सर्कुलेशन प्रभावित होता है। इस प्रकिया में खून के निचले अंगों से दिल तक पहुंचने में बाधा उत्पन्न होती है, जिस कारण पैरों में सूजन शुरु हो जाती है।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: पैरो में सुजन दिख रही hai ....क्यु कोई परेशानी वाली bat तो नही hai
उत्तर: Hello डियर , प्रेग्नेन्सी में पैरो पे सुजन आना आम बात है क्युकी बेबी का और आपका वेट पैरो पर भारी पडता है आपको जब भी संभव हो, अपने पैरों को थोड़ी ऊंची सतह पर रखकर बैठें। दफ्तर में अपनी डेस्क के नीचे स्टूल या बक्सा रखकर पैरों को उसपर रखें। बीच-बीच में उठें और थोड़ा चले-फिरें।घर में जब भी संभव हो अपने बाईं तरफ करवट लेकर लेटें क्योंकि इससे वीना कावा नस पर दबाव नहीं पड़ता।सुबह बिस्तर से निकलने से पहले सीवन या जोड़ रहित जुराबें पहन लें, ताकि खून को आपके टखनों के पास इक्ट्ठा होने काात करें। वे आपको कम्प्रेशन स्टॉकिंग पहनने के बारे में सलाह दे सकती हैं।खूब सारा पानी पीएं। हैरत की बात यह है कि आप जितना ज्यादा पानी पीएंगी, उतना ही कम पानी आपका शरीर प्रतिधारित करेगा।नियमित व्यायाम करें, खासकर कि चलना-फिरना, तैराकी, प्रसवपूर्व योग या एक्सरसाइज बाइक का इस्तेमाल। पौष्टिक व संतुलित आहार खाएं और ज्यादा नमक वाले खाद्य पदार्थ जैसे कि जैतून, नमकीन, चिप्स और नमक वाले मेवे न खाएं। ये पानी प्रतिधारण को बढ़ा सकते हैं।अगर आपकी त्वचा में ज्यादा कसाव और दर्द न लगे, तो किसी से अपने टखनों और पैरों की मालिश करवाएं। मालिश के दौरान नीचे से ऊपर की तरफ घुटनों तक जाएं। इससे पैरों से तरल पदार्थ को हटाने में मदद मिल सकेगी।कोशिश करें कि आप खुश और निश्चिंत रहें! ख्याल रखें डियर
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरे पैरो में सुजन रहती है
उत्तर: हेलो प्रेग्नेसी में होर्मोन चेंजेज और माँ और बच्चे के बढ़ते वेट के कारण गर्भाशय पर दबाव पड़ता है जिसके कारण आसपास के बॉडी पार्ट्स पर भी प्रेशर जैसे हाथ पैर पीठ कमर पर भी पड़ता है पेरो में सुजन होने पर आप प्रॉपर सपोर्ट लें के बैठे l सरसों के ऑयल शे मसाज करे ताकि ब्लड cerculation बना रहें .इसके लिए आप प्रॉपर सपोर्ट लें के बैठे lलंबे टाइम के लिए ना बैठे l रेस्ट करे , धीरे धीरे हलकी हलकी एक्सर्साइज करे l कमर और पैरों मे सरसों के ऑयल से हलकी मालिश भी लें सकती है .लंबे समय तक खड़ी या बैठी न रहें। यदि आप बहुत अधिक चल रही हैं तो बीच बीच में थोड़ा ब्रेक लें और बैठ लें। यदि आप बहुत देर से बैठी हैं, तो हर घंटे में कम से कम पांच मिनट के लिए टहलें।अपने पैरों को चलती रहें। यदि संभव हो तो, जब भी आप बैठें तब अपने पैरों को ऊपर उठती रहें।अधिक से अधिक पानी पिएं। यह तरल पदार्थों के रूप में अशुद्धियों को फ्लश करता है, लेकिन एक दिन में आठ से दस गिलास पानी पीने से आपके सिस्टम से अतिरिक्त सोडियम और अन्य अपशिष्ट उत्पादों को बाहर निकाल कर सूजन कम करने में मदद मिलेगी।कपडे़ कम्फर्टेबल पहनें और नमक का सेवन कम करे .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: प्रेग्नन्सी मै पैरो मै सुजन क्यु आती है
उत्तर: हेलो डियर पैरों ममे बहुत स्वेलिंग होना प्रेगनेंसी म नार्मल है।१/३ विमेंस को होती है। जब बॉडी को पूरी तरह से पानी नहीं मिलता तब स्वेलिंग की षिकायत ज़यादातर रेहटी है सो इस्सके लिए आप सबसे पहले पानी अच्छे से ले। बाबी की ग्रोथ की वजह से बढ़ता uterus aapke veins को प्रेशर देता है जो की ब्लड फ्लो के लिए प्रॉब्लम क्रिएट करता है। निचे दिए गए टिप्स फॉलो करें:- जयादा से ज़्यादा पानी पीजिये। वेइट चेक करवाते रहे वेट बढ़ने से भी स्वेलिंग की प्रॉब्लम होती ह एक्सेरसीसे करें-आराम से कुर्सी पर बैठकर अपने पैरों को उठाकर एड़ी को 10 मिनट राइट और 10 मिनट लेफ्ट घुमाए ऐसा दिन म ३बार करे। जयादा होने पर डॉक्टर से कंसल्ट ज़रूर करे।
»सभी उत्तरों को पढ़ें