22 weeks pregnant mother

Question: आबल नीचे होने से कोई प्रोबल्म हो सकती हें

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर आप अपना सवाल स्पष्ट रूप से करें क्योंकि अभी हम आपकी सहायता करने में असमर्थ हैं क्योंकि हम आपका सवाल समझ नहीं पा रहे है और हम आपको गलत सुझाव नहीं देना चाहते हैं इसलिए आप हमें अपना सही सवाल लिख कर भेजें
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरे 24 वीक complete हो चुकें हें मेरा plecenta नीचे बताया हें क्या ये उपर आ सकता हें placenta के नीचे होने से कोई प्रॉब्लम तो नही हें
उत्तर: जी हां यह ऊपर आ सकता है..लो प्लेसेंटा ज्यादातर स्कैन के द्वारा शुरुआती महीनों में ही पता चल जाता है यह प्रेगनेंसी के अंत अंत तक ठीक भी हो जाता है। क्योंकि हमारी यूटरस का साइज़ बढ़ता है और प्लेसेंटा नीचे से साइड की तरफ शिफ्ट हो जाता है।इसमें घबराने की कोई बात नहीं है बस आपको अपना ज्यादा ध्यान रखना चाहिए। ज्यादा आराम करना चाहिए और झुक कर काम नहीं करना चाहिए.. इसमें बस यह प्रॉब्लम आ सकती है कि आप की डिलीवरी सी सेक्शन से हो और आपको प्रेगनेंसी के दौरान कभी भी ब्लीडिंग की शिकायत हो सकती है इसके लिए डॉक्टर के निगरानी में बने रहिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mara बेबी or aabal नीचे हे मे अभी नारियल खा सकती हु क्या कोई प्रोबल्म तो नही होगी मुझे
उत्तर: hello dear,,aap nariyal kha skti hai..नारियल में विटामिन सी ,विटामिन b1 ,विटामिन ई, कैलशियम मैग्निशियम फास्फोरस ,आयरन, होता है जोकि बेबी के ब्रेन एंड बॉडी डेवलपमेंट एचडी को बढ़ाने व स्किन रिपेयरिंग के काम मेंबहुत ही यूजफुल होते हैं | Coconut कोकोनट में फाइबर होता है जो की पाचन संबंधी क्रिया को तेज करता है | अत्यधिक मात्रा में कोकोनट का सेवन करने से खट्टी डकार या अपच हो सकती है क्योंकि इसमें ऑयल बहुत अधिक मात्रा में होता है जो की अधिक मात्रा में खाने से पचाना मुश्किल हो सकता है इसलिए नारियल सीमित मात्रा में ही खाएं|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: pite की पथरी होने से प्रेगनेट होने मै क्या कोई दीकत हो सकती है ?
उत्तर: Hello dear.. यूरिन में यूरिक एसिड, फॉसफोरस, कैल्शियम और oxyzing एसिड की मात्रा ज्यादा हो जाती है. जो मिलकर गोल चपटी चिकनी खुजली मटर के दानों जैसी Akaar ले लेती हैं. साथ ही और भी कई वजह होती है जिनसे की पथरी हो जाती है. Khane me aap प्रोटीन की मात्रा कम ले और फाइबर ज्यादा ले. पथरी में हरी सब्जियों में सहिजन, करेला, पथरी में हरी सब्जियों में सहिजन, करेला, ताजी मटर की फलियां, शलगम, पुराना कद्दू , अदरक, ककड़ी, खीरा, चुकंदर,धनिया हल्दी, हरी मिर्च, हींग, अजवाइन, दालचीनी, छोटी इलायची, पत्ते वाली गोभी आदि को खाना चाहिए. पथरी में फलों में आम, खरबूजा, तरबूज, अंगूर, पपीता, खीरा, नारियल, नाशपाती, अनन्नास, सेब, ककड़ी, गाजर khaye . पथरी में आलू, इलायची तथा गन्ना चूसना भी फायदेमंद है।पथरी में गेहूं के आटे से चोकर निकाल कर बनी चपाती खाएं।पथरी के रोगी के आहार में जौ से बनी चीजें जैसे-चपाती, धानी, सत्तू को शामिल करें. गर्म पानी थोड़ी-थोड़ी मात्रा में दिन में कई बार piye.  गाजर में विटामिन बी-6 और विटामिन सी होते हैं, जो किडनी के लिए achaa hota हैं। गाजर रक्त को भी साफ करती है। इसमें विटामिन ए होने से यह किडनी को बैक्टीरियिल इन्फेक्शन से भी बचाती है। तरबूज शरीर में जाकर पेशाब के निर्माण को बढ़ा देता है। इसी के साथ इसमें पोटेशियम भी होता है, जो किडनी स्टोन को घुलने में मदद करता है। इसलिए पथरी में तरबूज भी खाना चाहिए . हर्बल टी किडनी में बनने वाले यूरिक एसिड की मात्रा को कम करती है, जिससे पथरी बनने का खतरा कम होता है।  अनानास khaye.क्योंकि इसमें सबसे अलग एंजाइम होता है, जिसे ब्रोमेलिन कहते हैं। ब्रोमेलिन प्रोटीन को तोड़ने में मदद करता है। जितना ज्यादा पानी पीएंगे, उतना ही फायदा होगा। खूब पानी पीएं। 10 से 12 गिलास पानी पथरी की समस्या में जरूर पीना चाहिए। रात को सोने से पहले भी पानी जरूरी पीएं। इससे काफी लाभ होता है। take care
»सभी उत्तरों को पढ़ें