गर्भावस्था की तैयारी

Question: निपल डिस्चार्ज के क्या करण हों sakte है जब आंप प्रेग्नेन्ट नही है क्या येह ब्ररस्ट कैन्सर का स्य्म्तोम hai

1 Answers
सवाल
Answer: hello डियर आप पहले ही अनुमान लगा कर ना डरे हो सकता है आपके स्तनों में आने वाला लिक्विड हारमोंस के बदलाव के कारण होै अगर आपको दरद या किसी प्रकार की परेशानी महसूस हो रही है तो आप डॉक्टर से कंफर्म करवालें की आखिर ब्रेस्ट से निकलने हेय
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: प्रेग्नेंट हाॅन के लाइए क्या कारण चाहिए
उत्तर: हेलों प्रेग्ना ा ेंसी के 3 मही ने पहले से प्रेग्नेंसी की तैया री शुरू कर देनी चाहिए . तीन महीने पहले सभी जरूरी टेस्ट थायरॉयड, सिस्ट आदि का टेस्ट जरूरी है . इस के अलावा हर महिला को प्रेग्नेंसी के 3 महीने पहले से ही फॉल‍िक एसिड का सेवन शुरू कर देना चाहिए. ताकि बच्चे और मां में खून की कमी न हो और इसकी वजह से कोई कॉम्प‍िल‍िकेशन्स न आएं.आप फॉलिक ऍसिड टेबलेट ले और अपने हसबैंड को जिन्क सप्लीमेंट्स लेने के लिए कहे और स्ट्रेस मेंटली और फीजिकली किसी भी प्रकार का ना ले दोनों में से कोई भी अलकोहल या कीग्रते ना पीये सेक्स के समय स्ट्रेस फ्री रहे .प्रेग्नेंसी प्लान करने के लिए आपको अपने ओवुलेशन का समय पता होना चाहिए इसके लिए आपको अपने मासिक धर्म का इदेआ होना चाहिए मासिक धर्म की साइकिल 24 से 40 दिन के बीच की होती है यदि आपको पता है कि आपका नेक्स्ट डेट कब आएगा तो उस डेट से 12 से 15 दिन पहले की डेट पता करनी है यही आप का ओवुलेशन टाइम है इस दौरान सेक्स करने से आपके प्रेग्नेंट होने की संभावना रहती है.इस ओवुलेशन शुरू होने के समय 4 से 5 दिन सेक्स जरूर करें ं ं इस समय सेक्स करने से प्रेग्नसी के चान्सेस ज्यादा होते है और आप प्रेग्न्सी प्लान करने के समय आप दोनों ही एक हेल्थी रूटिन फॉलो करे और अपने खाने में हेल्दी और संतुलित चीजें खाएं baahari खान-पान को अवॉइड करें फास्ट फूड ना खाएं हरी सब्जियां एग मिल्क और मिल्क प्रॉडक्ट अखरोट अनार बादाम पालक केला ऑरेंज फिश चना टमाटर दालें लहसुन खाएं और समय से सोएं उठे एक्सक्सरसीसे करे खाना खाएं स्ट्रेस ना ले आदि यही सभी चीजें आगे चलकर बॉडी में हार्मोन को नियंत्रित करती है जो आपको जल्दी प्रेग्नेंट होने में हेल्प करता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere बेबी के हिड मे बुखार हों जता हे इस का क्या करण है
उत्तर: हेलो डियर, अगर आपके बच्चे को तीन चार महीने में एक बार फीवर राय तो वह नॉर्मल कहा जाता पर हर महीने फीवर आ रहा है तो उसका याद ओं इम्यूनिटी सिस्टम भी है या फिर उसकी ब्लड केमिस्ट्री सही नहीं है अभी तो आप उसे पहले फीवर का ट्रीटमेंट दी जिससे उसका फीवर सही हो जाए उसके बाद डॉक्टर से कंसल्ट करके एक बार उसका ब्लड टेस्ट करवाएं और उसके खाने पीने की डाइट में वह शामिल करें जिससे उसका इम्यूनिटी सिस्टम स्ट्रांग ho. अभी आपका बच्चा छोटा है केवल दूध पीता है इसलिए जब वह 6 महीने का कंपलीट हो जाए उसे इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फूड ज्यादा से ज्यादा खिलाएं और अभी बच्चे को ज्यादा से ज्यादा आराम करने दें और धूप में ना ले जाए उसे ठंडी जगह पर नार्मल टेंपरेचर पर रूम में ही रखेंl * बच्चे के सर पर ठंडे पानी की पट्टियां रखिए काफी हद तक बच्चे की फीवर को कम करने में हेल्पफुल होता हैl * बच्चे को स्पंजी बात दे सकती है मींस दिन में आप दो बार उसका शरीर गर्म पानी में कपड़े को निचोड़ कर क्लीन करके उसे साफ सुथरे कपड़े पहनाईएl *पानी बॉईल करके ठंडा करके ज्यादा से ज्यादा दे l *ओ आर एस का घोल ज्यादा से ज्यादा देl
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: नीन्द नही आने के क्या करण है
उत्तर: अच्छी नींद आने के क्या कारण हो सकते हैं जैसे यदि आप बहुत अधिक टेंशन लेती हैं तो उसकी वजह से भी अच्छी नींद नहीं आती है । गर्भावस्था के दौरान जैसे-जैसे गर्भ का आकार बढ़ता जाता है तब भी नींद ठीक प्रकार से नहीं आती है। pregnancy ke dauran Bar Bar peshab Aane Se bhi achchi नीन्द नही आती है । प्रेगनेंसी के दौरान बाई करवट लेकर सोना चाहिए इससे आपकी पाचन क्रिया ठीक रहेगी और बच्चे को सभी प्रकार के पोषण मिलते रहेंगे अच्छी नींद के लिए आप गुनगुने पानी से स्नान भी कर सकती हैं तथा कमर और पैरों के बीच में तकिया लगाकर रखने से भी आराम मिलता है और अच्छी नींद आती है। प्रेग्नेंसी के दौरान खाना खाने के एक से दो घंटे तक बिस्तर में जाने से बचना चाहिए। अगर ऎसी परेशानी होती है तो सोने के दौरान सिर ऊंचा रखने के लिए तकिए का प्रयोग कर सकती हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें