8 महीने का बच्चा

Question: दाँत निकलते समय क्या क्या प्रॉब्लम्स होती है बेबी ko

1 Answers
सवाल
Answer: teething शिशुओं में चरण होती हैं जो आमतौर पर मसूड़ों को तैयार और कठिन होने के बाद शुरू होती हैं .. teething हर बच्चे के लिए एक अलग अनुभव है। कुछ बच्चों के लिए teething प्रक्रिया चिकनी हो सकती है, लेकिन कुछ के लिए यह थोड़ा मुश्किल हो सकता है .. Teething के कुछ संकेत हैं: 1. लार तपकना । 2. स्क्वोलन मसूड़ों 3. भोजन अस्वीकार कर रहा है 4.Irritation 5. सोने में परेशानी .. इसलिए बच्चों को इस प्रक्रिया के माध्यम से जाने में मदद करने के लिए अच्छा आहार de agar bacha kuch nahi kha raha to use semi solid de jaise daliya, khichdi, daal ka paani, cerelac और यदि बच्चा अंगूठे या उंगली चूस रहा है तो आप पानी wala teether देने का प्रयास कर सकते हैं ... इसे ठीक से निर्जलित करना सुनिश्चित करें ..
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: क्या दाँत निकलते समय कान मे इचिंग होती है
उत्तर: hello dear नही इसा नही होता .दाँत आँतें समय मसूड़ों में तकलीफ़ हो सकती है .आप घर पर कोई भी घरेलू उपाय ना करें. कान में किसी भी प्रकार का तेल या दवा ya ईयरbud ना डालें. आपका बच्चा अगर 7 महीने का है तो यह बहुत ही छोटा है . कोई भी सप्लीमेंट ya कोई भी दवाइयां देने से पहले आप बच्चों के डॉक्टर से जरूर सलाह करें . अगर आपको लग रहा है कि ऐसी कोई समस्या है उसके मसूड़ों में तो आप अपनी साफ होंगी से उसकी मसूड़ों में मसाज करें. आमतौर पर 6 महीने के बाद बच्चों में दांत निकलने शुरू हो जाते हैं, लेकिन बच्चे को एक साल के बाद ही ब्रश karana chahiye क्योंकि, इससे पहले ब्रश कराना सही नहीं होता है। क्योंकि इस समय बच्चे के मसूढ़े काफी मुलायम होते हैं जिसमें चोट लगने का डर रहता है।  जैसे ही बच्चों में दांत आने शुरू हो जाते हैं, और वह सारे ठोस अनाज खाने लगते हैं तब आप उन्हें दो बार ब्रश कराएं। एक सुबह के समय और दूसरा रात में सोने से पहले। क्योंकि, रात में जब बच्चे दूध पीते हैं और ब्रश नहीं करते हैं तब उनके दांतों में सबसे अधिक सड़न की समस्या पैदा होती है। ब्रश कराते समय एक बात का विशेष तौर पर ध्यान दें कि बच्चों में ब्रश हल्के हाथों से पूरे दांतों में घुमा-घूमा कर करें और इसे रगड-रगड कर साफ न करें इसे बच्चों के कोमल मसूड़ों को तकलीफ पहुँच सकती है। इसके लिए आप एक नरम नायलॉन ब्रिकेट और एक छोटे मुंह वाला ब्रश का इस्तेमाल करें। टूथपेस्ट के लिए फ्लोराइड free टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि छह साल से कम उम्र के बच्चों को फ्लोराइड वाला टूथपेस्ट न दें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: दाँत निकालते समय बच्ची को क्या क्या दिक्कत होती है
उत्तर: आपका बच्चा अगर 6 महीने का है तो यह बहुत ही छोटा है . कोई भी सप्लीमेंट ya कोई भी दवाइयां देने से पहले आप बच्चों के डॉक्टर से जरूर सलाह करें . अगर आपको लग रहा है कि ऐसी कोई समस्या है उसके मसूड़ों में तो आप अपनी साफ होंगी से उसकी मसूड़ों में मसाज करें. घर की सफ़ाई रखें . बच्चों के जब दांत निकलने का समय होता है तो उनकी मसूड़ों में अलग प्रकार की खुजली होती है जिस वजह से वह हर चीज में अपने मुंह में डालते हैं. वह अपने खिलौने हाथ जो भी सामने है वह सब चीजें मुंह में डालते हैं और उस गंदगी की वजह से उनका पेट खराब हो जाता है. इसलिए आप कोशिश करेंगे घर में सफाई रहे. उनके खिलौनों की भी आप सफाई का ध्यान रखें .हाथों को साफ रखें और कोशिश करें कि उनके मुंह में हाथ ज्यादा को गंदा ना डालें जिससे कि woh दस्त से बचेंगे.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: बेबी को दाँत निकलते समय हाॅन वाली परेशानी से कैसे बचाये
उत्तर: हेलो डिअर, आपके बेबी के दांत निकलने पर आप अपने बेबी को कुछ इस प्रकार से करे ताकि आपके बेबी के दांत निकलने में कोई भी परेशानी ना हो बेबी को चबाने के लिए कुछ ठंडी चीज दें। इससे उसे आराम मिलेगा। आप फ्रिज में रखकर ठंडी की गई टीदिंग रिंग उसे दे सकती हैं। बेबी को तरल लिक्विड भरे हुए टीदर की बजाय सिलिकोन के ठोस टीदिंग रिंग देने की सलाह दी जाती है। लिक्विड से भरे टीदर में से उसका पानी निकल सकता है जिससे आपके बेबी को नुकसान कर सकता है   बेबी के मसूड़े अगर दर्द करे तो आप अपने उंगली से बेबी के मसूड़े को हल्के हाथों से रगड़े आपके बेबी के मसूडो में आराम मिलेगा आप अपने बेबी निप्पल को चबाने के लिए दे आपके बेबी को आराम मिल जाएगा !
»सभी उत्तरों को पढ़ें