2 महीने का बच्चा

Question: दस्त नही दस खा मतलब sas रुकना

1 Answers
सवाल
Answer: hello कुछ बच्चों में सांस चढाने की आदत होती है। रोते रोते बच्चे एक लंबी सांस खींच लेते हैं और थोड़ी देर के लिए बेहोश जैसे हो जाते हैं। बच्चे कई बार ऐसा हंसते हुए या खेलते हुए भी करते हैं बच्चा जब भी ऐसा करें तो आप उसके चेहरे पर तेजी से फूंक मारिए। फूंक मारने से बच्चा तुरंत ठीक हो जाता है। और अपना खींचा हुआ सांस छोड़ देता है।। कभी भी ऐसा हो तो आप घबराएं नहीं बस आप बच्चे के चेहरे पर फूक मारिए। यह कोई बीमारी नहीं है बच्चे अक्सर ऐसा करते हैं बड़े होने पर उनकी आदत ठीक हो जाती है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेबी दस महिने का हो गया ह ओर कुछ नही खा ता क्या करू
उत्तर: हेलो डियर छोटे बच्चों को भूख का एहसास नहीं होता है , छोटे बच्चे जब तक मां का दूध पीते हैं तब तक उन्हें बाहर का खाना खाने की इच्छा नहीं होती है , इसके लिए आप जब भी अपने बेबी को खाना देने जा रहे हो उसके थोड़ी देर पहले आप अपने बेबी को अपना दूध ना पिलाए , आप उन्हें अपना दूध पिलाएंगे तो उनको खाने की इच्छा बिल्कुल भी नहीं रहेगी , आप अपने बेबी को सबसे ज्यादा खेलने में क्या पसंद है वह चीजें कर सकते हो खाना देने के वर्क , हर मां को अपने बेबी के pasand. और मनपसंद के बारे में पता होता है तो आप इस बात का ख्याल रखते हुए अपने बेबी को खाना खिलाएं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी दस महीने का ह कुछ खा नही रहा उसे क्या खिलाये
उत्तर: हेलो डिअर बेबी छोटे होते है तो आपको ही चेक करना पड़ेगा की कोई प्रॉब्लम तो नही है बेबी को। बेबी क्यों खाना नही खा रही है। बेबी को कोल्ड और फीवर होगा तब भी नही खाएगी और रोने का रीज़न हो सकता है। बेबी के पेट् में दर्द तो नही है। बॉडी में कही और तो पीडा नही हो रहा है। टीथिंग के कारण भी ऐसा होता है। ऐसे में माँ को बेबी को खूब प्यार देना चाहिए उसके साथ ज्यादा टाइम स्पेंड करे। वो ख़ुशी से जो खाए सिर्फ वो खिलाइये। । फाॅर्स मत कीजिये वो बॉडी में भी नही लगेग। कभी कभी एक ही तरह के खाने से भी बोर हो जाते है बेबी कोअलग अलग प्रकार का भोजन दीजिए। मिल्क के लिए फोर्स न करिये सॉलिड पे ध्यान दीजिए इस उम्र में सॉलिड ज्यादा जरुरी है। 10 मंथ के बेबी को सन्तुलीत और पौस्तिक भोजन खिलाए । आप बेबी को खाने में बहुत तरह की चीज दे सकती है जैसे :- सूबह में उठने के बाद दूध के साथ बादाम का पेस्ट डालकर बेबी को पीला सकती है । सूबह के नास्ते में आप बेबी को फार्मूला मसूद डोसा , khichdi, दाल का पानी, दूध के साथ रोटी , बॉयल्ड एप्पल , मसूद बनाना , फ्रेश जूस , रागी दूध के साथ दे सकती हैं । दोपहर के खाने में - दाल रोटि, दाल चवाल, सूजी का हलवा , खिचड़ी दे सकती है । शाम में बेबी को मिल्क या ड्राई फ्रूट्स का हलवा बना के दे । रात में आप बेबी को सजी की खीर , दाल रोटी या दलिया दे सकती हैं और शाम्ं के टाइम दूध ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी दस महीने का है तो कुछ भी नही खा रहा है तो मै क्या करू प्लीज डॉक्टर बताये
उत्तर: हाय डियर छोटे छोटे बच्चे अक्सर खाने में बहुत ज्यादा आनाकानी करते हैं क्योंकि वह छोटे में बहुत ही नटखट होते हैं तो वह खाना अपने हाथ से नहीं खाना चाहते इसलिए हमको ही उनको बार-बार खाने के लिए कहना पड़ता है और खिलाना पड़ता है आप बच्चे को खेल खेल में खिलाया करें जैसे जैसे कोई कार्टून लगा दिया टीवी पर तो आप बच्चे को खिलाएं ऐसा करने से बचा धीरे धीरे खाने लगेगा|आप कोई भी चीज बना है उसमें कोई कार्टून का shape दे दिया करें यहां बेबी के लिए आप हमेशा डिस बदल कर ही बनाएं एक बार को डिस्को हमेशा चेंज करते रहे और बेबी जैसे कभी छत पर खेल रहा है तो आप पराठा रोल करके ले गए और बच्चे को खिलाने लगे इस प्रकार से खेल खेल में बच्चे खाने लगते हैं|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: सन्तरा खा सकते है दस्त मे
उत्तर: अगर आपके पेट में वायरस या फूड पाइज़निंग हो गयी है, तो हाइड्रेटेड रहने के लिए बहुत सारा पानी पिएं.. डेयरी खाद्य पदार्थों का सेवन न करें और केले, चावल, सूप या टोस्ट जैसे आसानी से पचने वाले खाद्य पदार्थों को खाएं..जब तक आपको दस्त में आराम महसूस न हो तब तक वसा युक्त खाद्य पदार्थ न खाएं.. इन सब बातों का पालन करने पर आपको 24 घंटों या उससे भी कम समय में बेहतर महसूस होगा.. जीरा चबाकर पानी पी लेने से दस्त बहुत जल्दी रुक जाते हैं. अगर आप बार-बार हो रहे मोशन से परेशान हो चुके हैं तो केले का इस्तेमाल आपको राहत देगा. इसमें मौजूद पेक्टिन पेट को बांधने का काम करता है. इसमें मौजूद पोटै‍शियम की उच्च मात्रा भी शरीर के लिए फायदेमंद होती है .khub pani piye....or nariyal pani ,dahi ,chach,or ors ka ghol bhi lete rahna chahiye...esse asp ko dehydration nahi hoga.or aap orange bhi le sakti hai...डॉक्टर को अपने लक्षणों के बारे में बताएं और पूछें कि ऐसे में कौन सी दवा लेना सुरक्षित होगा.. उसके अनुसार ही दवा लें...Ok take care dear
»सभी उत्तरों को पढ़ें