12 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: डॉक्टर मुझे पाइल्ज़ की प्रॉब्लम है ऑर प्रेग्नेन्सी है इसे मेरी बेबी को कोई प्रॉब्लम टु नही होगा ना

6 Answers
सवाल
Answer: Hello dear.. Piles hone par babby ko koi nuksan nahi hai. फाइबर से भरपूर आहार लें, जिनमें भूरे/लाल चावल (ब्राउन राइस), संपूर्ण अनाज की ब्रेड, सीरियल और गेहूं की रोटी या पास्ता शामिल हों। साथ ही पर्याप्त मात्रा में फल और सब्जियां खाएं। हर रोज आठ से 12 गिलास पानी पीएं। बेहतर है आप कैफीन का सेवन न करें, ताकि आपको निर्जलीकरण (डिहाइड्रेशन) न हो। नियमित व्यायाम करने का प्रयास करें, फिर चाहे आप थोड़ी ही देर तेज चहल-कदमी करें। जब भी आपको मलत्याग की इच्छा हो, तो तुरंत शौचालय जाएं। इंतजार करने से आपका मल और कठोर और शुष्क हो सकता है। शौच करते समय जोर न डालें। यदि मल आसानी से नहीं निकल रहा है तो थोड़ा इंतजार करें। या फिर आप थोड़ी देर बाद पानी पीकर, कुछ फाइबरयुक्त आहार खाकर या थोड़ा व्यायाम करके दोबारा प्रयास कर सकती हैं। मलत्याग करते समय आप अपनी योनि और गुदा के बीच के मांसल स्थान (पेरिनियम) को अपनी उंगलियों से दबा सकती है। इससे उत्तेजित होकर एक स्वाभाविक क्रिया होती है, जो कि गुदा में मसल टोन को बढ़ाती है और मलत्याग को आसान बना सकती है। व्यायाम रोजाना करें। यह मलत्याग करना आसान बना सकता है और नितंबों में रक्त संचरण बढ़ाकर बवासीर होने से बचा सकता है। यह योनि, पेरिनियम और गुदा की मांसपेशियों को मजबूती देता है। यह आपके प्रसव में भी मदद करेगा और प्रसव से जल्दी उबरने में भी सहायता देगा। यदि इन उपायों को आजमाने के बाद भी आपको कब्ज रहती है, तो आप अपनी डॉक्टर से रेचक (लैग्जेटिव) लेने के बारे में बात कर सकती हैं. potty karne के बाद उस jagah को हल्के से अच्छी तरह साफ करें। टॉयलेट टिश्यू से पौंछने की बजाय पानी से धो लेना या फिर गीले टिश्यू (वाइप्स) से पौंछना ज्यादा आरामदेह रहेगा। रगड़कर पौंछने की बजाय थपथपाकर पौछें।
Answer: नहीं ,आपके बेबी को इसे कोई प्रॉब्लम नहीं होगी पाइल्स को कम करने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय अपना सकती हैं जैसे फाइबर से भरपूर आहार लें, जिनमें भूरे/लाल चावल (ब्राउन राइस), संपूर्ण अनाज की ब्रेड, सीरियल और गेहूं की रोटी या पास्ता शामिल हों। साथ ही पर्याप्त मात्रा में फल और सब्जियां खाएं। हर रोज आठ से 12 गिलास पानी पीएं। बेहतर है आप कैफीन का सेवन न करें, ताकि आपको निर्जलीकरण (डिहाइड्रेशन) न हो। नियमित व्यायाम करने का प्रयास करें, फिर चाहे आप थोड़ी ही देर तेज चहल-कदमी करें। जब भी आपको मलत्याग की इच्छा हो, तो तुरंत शौचालय जाएं। इंतजार करने से आपका मल और कठोर और शुष्क हो सकता है।
Answer: गर्भाशय से नीचे की नसों में सूजन और खिंचाव होने की संभावना अधिक रहती है, क्योंकि गर्भ में बढ़ते बच्चे के वजन से उन पर दबाव पड़ता है। यही कारण है कि गर्भवती होने पर आपको बवासीर होने का खतरा अधिक रहता है। गर्भावस्था का एक अन्य दुष्प्रभाव कब्ज भी है।जो बवासीर का कारण हो सकता है। आपकी डॉक्टर ही बता सकती हैं कि आपकी स्थिति के अनुसार कौन सा उपचार सबसे बेहतर रहेगा। अधिकांश मामलों में, जब आपका शरीर बच्चे को जन्म देता है, तो बवासीर स्वयं गायब हो जाती है या सिकुड़ जाती है। 
Answer: अगर आपको ये बीमारी हैं तो आपको आप को ध्यान देने कि जरुरत है आप पानी खूब पिए और आप एक जगह पर लम्बे समय तक कभी न बैठे ये परेशानी आगे चल कर बढ़ सकती हैं अगर आप इसे ध्यान नहीं दिए तो इसके लिए आप या तो होम रेमेडीज अपनाये या फिर डॉक्टर्स को दिखये इसके लिए आपको सबसे ज्यादा पानी पीना है किसमिस खा सकते है फीबेर वाली चीजे कहानी होगि ओर आपको लिक्विड डाइट ज्यादा लेना होगा आप ठढा एक्सरसाइज करे
Answer: हेलो डियर , प्रेग्नेन्सी में अगर आपको पाइल्ज़ की प्रॉब्लम है तो इससे आपके बेबी को तो कोई प्रॉब्लम नही होगी लेकिन हो सकता है आपको परेशानियों का सामना करना पड़ें आप ऐसे में कोई भी मसाले वाली चीज़ें ना खायें , फल , जूस ज़्यादा से ज़्याद ले , आप बिल्कुल भी कब्ज़ ना रहने दे और डॉक्टर के ऍड्वाइज से आप ऐसा करे
Answer: thanks
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मुझे पाइल्ज़ की प्रोबल हे ? मुझे निर्मल बेबी पैड़ा करने मि कोई प्रॉब्लम टोह नही होगी ? मुझे पाइल्ज़ के लिए क्या करना चाहिये ? ऑर इसे मेरी बेबी को कोई प्रॉब्लम टोह नही होगी ?
उत्तर: हेलो डियर प्रेगनेंसी में पाइल्स होना नॉर्मल बात है , ऐसे में बेबी पर कोई भी बुरा प्रभाव नही पड़ता है ऐसा होना नॉर्मल बात है , गर्भावस्था में बवासीर होना सामान्य है और शिशु के जन्म के बाद तो बवासीर होना और भी आम है। इनसे बचा नहीं जा सकता। इसके लिए सबसे अच्छा उपाय यह है कि आप कब्ज से बचें, ताकि आपको पोट्टी करने में आसानी रहे। फाइबर से भरपूर आहार लें, जिनमें भूरे/लाल चावल , पूरे अनाज की ब्रेड, मो मिक्स अनाज और गेहूं की रोटी या पास्ता शामिल हों। साथ ही अधिक मात्रा में फल और सब्जियां खाएं। हर रोज आठ से 12 गिलास पानी पीएं। अच्छा है आप कैफीन का सेवन न करें, ताकि आपको पानी की कमी न हो। रोज व्यायाम करने का प्रयास करें, फिर चाहे आप थोड़ी ही देर तेज चहल-कदमी करें, जब भी आपको पोट्टी हो, तो तुरंत बात शौच जाएं। इंतजार करने से आपकी पोट्टी कठोर और शुष्क हो सकती है। शौच करते समय जोर न डालें। अगर पोट्टी आसानी से नहीं निकल रही है तो थोड़ा इंतजार करें। या फिर आप थोड़ी देर बाद पानी पीकर, कुछ फाइबरयुक्त आहार खाकर या थोड़ा व्यायाम करके दोबारा प्रयास कर सकती हैं ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे जुखाम और खासी हो रखी है इसे बेबी को कोई प्रॉब्लम तो नही होगा ना
उत्तर: hello dear अगर आप खासी और जुखाम से परेशान है तो आप निम्न घरेलू उपाय अपना सकती हैं ठंड और खांसी का घरेलू उपचार: - 1) अदरक चाय सिंपल और असरदार उपाय है। 2) शहद का आधा चम्मच लें, नींबू की कुछ बूंदें और दालचीनी का एक चुटकी मिलाए और रोजाना दो बार लें। 3) गर्म पानी पीने से आराम मिलता है। 4) नमक के पानी मिक्स करके पिएँ । 5) शहद, नींबू का रस और गर्म पानी लें। 6) मसालेदार चाय - अपनी चाय तैयार करते समय तुलसी अदरक और काली पेपर पाउडर डाले। 7) आमला भी खा सकती हैं। इसमे विटामिन c होता है जो जुखाम के लिये बहुत लाभकारी होता है। 8) आप अदरक तुलसी मिश्रण खा सकती हैं। 9) आप शहद और अदरक ले सकती हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो मुझे कभी कभी रात को बुखार हो राहा है इसे बेबी कोई प्रॉब्लम टु नही होगा ना
उत्तर: हेलो डियर अगर आपको बुखार आता है तो आप ढेर सारा पानी पीजिए, और आराम कीजिए अगर आपको बार बार बुखार आता है तो आप इसे इग्नोर ना करें आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें | प्रेगनेंसी में बार बार बुखार आना ठीक नहीं होता| आपको जब रात को बुखार आता है तो आप पानी की भीगी पटिया अपने माथे पर रख सकती है इससे आपको आराम मिलेगा | लेकिन डॉक्टर को दिखाना जरूरी है |
»सभी उत्तरों को पढ़ें