20 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: डाउन syndrom क्या होता है plz btye

1 Answers
सवाल
Answer: 🙏 सामान्य बच्चों की तुलना में, डाउंस सिंड्रोम से पीड़ित बच्चो का मानसिक और शारीरिक विकास धीमा रहता है। डाउन सिंड्रोम से पीड़ित बच्चों की मांसपेशियां और जो ढीले होते हैं डाउन सिंड्रोम वाले बच्चे आंख नाक कान संबंधी समस्याओं के साथ पैदा होते हैं गर्भावस्था के 13 या 14 सप्ताह के भीतर एक टेस्ट से यह पता चलता है कि बच्चा डाउन सिंड्रोम की संभावना कितना है Take care💐
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: डाउन syndrom ka test kon se month me karwana hai
उत्तर: हेलों आप डूअल मार्कर टेस्ट के लिए डॉक्टर से सलाह ले सकती है डूअल मार्कर टेस्ट स्क्रीनिंग टेस्ट है जो गर्भावस्था के पहले तिमाही में किया जाता ह इसका यूज़ गर्भ में बेबी के क्रोमोसोमल विषमता को पता लगाने के लिए किया जाता है यह इस बात का भी पता लगाने में मदद करता है कि आपके होने वाले बच्चे को डाउन सिंड्रोम या trisomy18 जैसी कोई बीमारी तो नही है जो मूल रूप से क्रोमोसोमल विकारों से होती हैं। यह विकार बच्चे में गंभीर मानसिक दोषों को जन्म दे सकता है ये टेस्ट कराने के बाद हम निशिन्त हो सकते है कि हमारा बेबी हेल्थी ग्रो हो रहा है इस टेस्ट के माध्यम से बेबी को डाउन सिंड्रोम तो नही है पता चलता है डाउन सिंड्रोम के साथ बच्‍चे को ये प्रॉब्लम हो सकती है जैसे असामान्य चेहरे की विशेषताएं, तिरछी आँखें और छोटे कान और बौद्धिक परेशानी का होना।सुनाइ ना देना दिखाई ना देना हार्ट प्रॉब्लम,फ़ेफ़डो का कम विकसित होना lमहिलाओं की adhik उम्र से उसके होने वाले बच्चे में डाउन सिंड्रोम के होने की संभावना रहती है। इसलिए 35 साल की उम्र से अधिक गर्भवती महिलाओं को निश्चित रूप से डूअल मार्कर टेस्ट ज़रूर करवाना
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: डाउन सिंड्रोम टेस्ट क्या है क्यों होता hai
उत्तर: डाउन सेन्दरोमे टेस्ट बेबी मि कोई प्रॉब्लम टु नही इसलिए करवाया जता है जैसे कोई बीमारी या शरीर का शाब छीज बैन राही है ये nahi
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: डाउन सिन्दरोम होने पर क्या होता hai
उत्तर: डाउन सिंड्रोम एक जेनेटिक बीमारी है इस बीमारी की वजह से baby में शारीरिक और मानसिक विकास बहुत देर में hota hai डाउन सिंड्रोम से पीड़ित बच्चे की देखभाल बहुत ही आवश्यक होती है डाउन सिंड्रोम की बीमारी में ज्यादातर हैंडीकैप्ड होकर ही पूरी लाइफ स्पेंड करनी पड़ती है ऐसी स्थिति में बच्चे सहित पूरे फैमिली को इन चैलेंज इससे उबरने के लिए बहुत ही कॉर्पोरेशन की जरूरत होती है देखिए इस रोग से पीड़ित बच्चे का विकास बहुत देर से शुरू होता है वह बैठना भी देर से करता शुरू करता है देर से बोलना और चलना शुरू करता है इसलिए माता-पिता को इस बारे में जरूर जानकारी होनी चाहिए कि डाउन सिंड्रोम से बच्चे का विकास सामान्य बच्चे की अपेक्षा देर से होता है डाउन सिंड्रोम से पीड़ित बच्चे की देखभाल के लिए एक टीम होती है जिसमें फिजिकल थैरेपिस्ट और स्पीच थेरेपिस्ट होते हैं जो बच्चे की भाषा , सोशल स्केल बढ़ाने में हेल्प करते हैं जिन बच्चों को यह सिंड्रोम होता है उन्हें चेस्ट और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम कि प्रॉब्लम रहती है इसलिए प्लीज आप एक बहुत अच्छे child स्पेशलिस्ट से मिलकर अपने बच्चे को डेवलप करने के लिए एक अच्छे डॉक्टर से कंसल्ट करें जो आपके बच्चे के लिए अच्छा लाइफ प्लान कर सके आपको अपने बच्चे पर कंसंट्रेट करना पड़ेगा बहुत मेहनत करनी पड़ेगी आपका बच्चा भी आगे बढ़ सकता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें