12 weeks pregnant mother

Question: क्या double marker test कराना ज़रूरी होता है

1 Answers
सवाल
Answer: हेलों नही ये टेस्ट कराना जरोरी नही होता है लेकिन अगर आपको ये टेस्ट डॉक्टर सजेस्ट कर रहें है तो आप जरूर ये टेस्ट कराये . डबल मार्कर टेस्ट स्क्रीनिंग टेस्ट है जो गर्भावस्था के पहले तिमाही में किया जाता ह इसका यूज़ गर्भ में बेबी के क्रोमोसोमल विषमता को पता लगाने के लिए किया जाता है यह इस बात का भी पता लगाने में मदद करता है कि आपके होने वाले बच्चे को डाउन सिंड्रोम या trisomy18 जैसी कोई बीमारी तो नही है जो मूल रूप से क्रोमोसोमल विकारों से होती हैं। यह विकार बच्चे में गंभीर मानसिक दोषों को जन्म दे सकता है ये टेस्ट कराने के बाद हम निशिन्त हो सकते है कि हमारा बेबी हेल्थी ग्रो हो रहा है इस टेस्ट के माध्यम से बेबी को डाउन सिंड्रोम तो नही है पता चलता है डाउन सिंड्रोम के साथ बच्‍चे को ये प्रॉब्लम हो सकती है जैसे असामान्य चेहरे की विशेषताएं, तिरछी आँखें और छोटे कान और बौद्धिक परेशानी का होना।सुनाइ ना देना दिखाई ना देना हार्ट प्रॉब्लम,फ़ेफ़डो का कम विकसित होना lमहिलाओं की adhik उम्र से उसके होने वाले बच्चे में डाउन सिंड्रोम के होने की संभावना रहती है। इसलिए 35 साल की उम्र से अधिक गर्भवती महिलाओं को निश्चित रूप से डूअल मार्कर टेस्ट ज़रूर करवाना चाहिए
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: 5 महीने मे अल्ट्रासाउन्ड कराना ज़रूरी होता है क्या
उत्तर: अगर डॉक्टर केहते है तो करना पडता है और पाचवे महिने मे बच्चा पुरा हो जाता है तो डॉक्टर लॉग भी अल्ट्रासाऊंड की सलाह देते ही है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे डॉक्टर ने dual marker test लिखा है! क्या ये test करवाना ज़रूरी होता है ?
उत्तर: haa jruri hota h blood test h ye baby ki growth thik h ya nhi isse pta chlta h
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या double मार्कर ऑर tipple marker करवाना ज़रूरी होता है क्या ...क्या 29 ऐज हो मदर की टी.बी. bhi
उत्तर: हेलो डियर आपके डॉक्टर न अभी आपको डबल मार्कर टेस्ट और ट्रिपल मार्कर टेस्ट करने को कहा है तो आप बिल्कुल करवाएं हर किसी की प्रेगनेंसी अलग होती है कि आप की डॉक्टर आप जैसा कहें आप बिल्कुल वैसा ही करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Double marker test
उत्तर: Hi dear Double marker test is a type of blood test  that in mainly given to pregnant women to determine any chromosomal malformation in the foetus. This test also plays a vital role in the detection of any kind of neurological conditions in the foetus, such as down's syndrome or Edward's Syndrome.
»सभी उत्तरों को पढ़ें