12 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: क्या double मार्कर टेस्ट ज़रूरी hai

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो भ्रूण में क्रोमोजोम्स के डेवलपमेंट को देखने के लिए डबल मार्कर टेस्ट किया जाता है यह 8 में से 14 हफ्ते के बीच किया जाता है डबल मार्कर टेस्ट की आवश्यकता तब पड़ती है जब मां की उम्र 35 वर्ष से अधिक हो अल्ट्रासाउंड और ब्लड टेस्ट का कॉन्बिनेशन होता है इसमें क्रोमोजोम्स की असमानताए को देखी जाती है गर्भ में जुड़वा बच्चे होने पर भी यह टेस्ट किया जाता है इस टेस्ट में अल्ट्रासाउंड के साथ स्क्रीन पर तस्वीर बनती है जिससे पता चलता है कि खून किस तरफ प्रवाहित हो रहा है। इससे बच्चे की सेहत और तंदुरुस्ती का पता चलता है
Answer: हेलो जी हां बिलकुल डबल मार्कर टेस्ट बहुत जरूरी होता है डॉक्टर ने आपको अगर इसकी सलाह दी है करने के तब जरूर करवा ले.डबल मार्कर टेस्ट फर्स्ट ट्राइमेस्टर 9week se13 week में किया जाता है यह आपके fetal me होने वाले क्रोमोसोम की कमी की संभावनाओं को चेक करता है .यह इस बात का भी पता लगाता है कि आपके बच्चे को डाउन सिंड्रोम Aur Trisomy 18 जैसी कोई बीमारी तो नहीं होने वाली जो कि क्रोमोसोमl डिसऑर्डर के कारण होती है. यह प्रॉब्लम बच्चे में brain प्रॉब्लम्स को भी ला सकती है. डिलिवरी पहले होने की स्थिति का भि पाता चल जता है .
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: डबल मार्कर टेस्ट क्या हाइ क्या या ज़रूरी हाइ krwana
उत्तर: गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के गुणसूत्रों के विकास में कोई असामान्यताएं निर्धारित करने के लिए यह एक प्रकार का रक्त परीक्षण होता है। यह परीक्षण यह पता लगाने में मदद करता है कि क्या बच्चे को डाउन सिंड्रोम या एडवर्ड सिंड्रोम जैसे किसी भी प्रकार के तंत्रिका संबंधी विकारों का सामना करने का जोखिम है। गर्भ में क्रोमोसोमल असामान्यताएं गंभीर विकास संबंधी विकृतियां होती हैं और बच्चे के जन्म के बाद विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती हैं। लेकिन ऐसे दोषों का खतरा बहुत कम है। इस तरह के गुणसूत्र विकारों और डाउन सिंड्रोम (ट्राइसोमी 21), या एडवर्ड सिंड्रोम (ट्राइसोमी 18) जैसी पीड़ा की स्थिति की संभावना होने की संभावना बहुत दुर्लभ है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या त्रिपल मार्कर टेस्ट कराना जरुरी होता है
उत्तर: बेम अगर डबल मार्कर टेस्ट में डॉक्टर को कोई डाउट होता है तब डॉक्टर ट्रिपल मार्कर टेस्ट के लिए रेफेर करते हैं इसलिए करवाना जरूरी होता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: डूअल मार्कर टेस्ट कराना ज़रूरी है ?
उत्तर: यह टेस्ट यह पता लगाने में मदद करता है कि बच्चे को डाउन सिंड्रोम या एडवर्ड सिंड्रोम जैसे क्रोमोसोमल प्रॉब्लम तो नहीं है यह ज्यादातर 35 ईयर्स से ज्यादा जिन वूमेन की एज होती है उनका टेस्ट किया जाता है .. डॉक्टर से कंसल्ट करें और डॉक्टर के ड्राइवर को फॉलो करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Double marker test kab karwate hai.
उत्तर: Hi.. Dear 14 weeks ke baad kabhi bhi ho sakta hai.. Aapke gynaecologist par depend karta hai..
»सभी उत्तरों को पढ़ें