20 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: क्या double मार्कर ऑर tipple marker करवाना ज़रूरी होता है क्या ...क्या 29 ऐज हो मदर की टी.बी. bhi

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर आपके डॉक्टर न अभी आपको डबल मार्कर टेस्ट और ट्रिपल मार्कर टेस्ट करने को कहा है तो आप बिल्कुल करवाएं हर किसी की प्रेगनेंसी अलग होती है कि आप की डॉक्टर आप जैसा कहें आप बिल्कुल वैसा ही करें
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: ये डबल मार्कर टेस्ट करवाना ज़रूरी होता है
उत्तर: Double Marker टेस्ट प्रसव पूर्व किया जाने वाला स्क्रीनिंग टेस्ट है जो गर्भावस्था के पहले तिमाही में किया जाता है। यह आपके भ्रूण में होने वाले क्रोमोसोमल विषमता की संभावना का आकलन करने के लिए किया जाता है। यह इस बात का भी पता लगाने में मदद करता है कि आपके होने वाले बच्चे को डाउन सिंड्रोम या trisomy18 जैसी कोई बीमारी तो नही है जो मूल रूप से क्रोमोसोमल विकारों से होती हैं। यह विकार बच्चे में गंभीर मानसिक दोषों को जन्म दे सकता है और कभी कभी मृत प्रसव भी हो सकता है। यह टेस्ट करवाना आपके ऊपर निर्भर करता है यदि डॉक्टर से पूछने के बाद डॉक्टर बोलते हैं जरूरी है तो आपको करवाना चाहिए ज्यादा बेहतर होगा कि आप एक बार डॉक्टर से पूछ ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या double marker test कराना ज़रूरी होता है
उत्तर: हेलों नही ये टेस्ट कराना जरोरी नही होता है लेकिन अगर आपको ये टेस्ट डॉक्टर सजेस्ट कर रहें है तो आप जरूर ये टेस्ट कराये . डबल मार्कर टेस्ट स्क्रीनिंग टेस्ट है जो गर्भावस्था के पहले तिमाही में किया जाता ह इसका यूज़ गर्भ में बेबी के क्रोमोसोमल विषमता को पता लगाने के लिए किया जाता है यह इस बात का भी पता लगाने में मदद करता है कि आपके होने वाले बच्चे को डाउन सिंड्रोम या trisomy18 जैसी कोई बीमारी तो नही है जो मूल रूप से क्रोमोसोमल विकारों से होती हैं। यह विकार बच्चे में गंभीर मानसिक दोषों को जन्म दे सकता है ये टेस्ट कराने के बाद हम निशिन्त हो सकते है कि हमारा बेबी हेल्थी ग्रो हो रहा है इस टेस्ट के माध्यम से बेबी को डाउन सिंड्रोम तो नही है पता चलता है डाउन सिंड्रोम के साथ बच्‍चे को ये प्रॉब्लम हो सकती है जैसे असामान्य चेहरे की विशेषताएं, तिरछी आँखें और छोटे कान और बौद्धिक परेशानी का होना।सुनाइ ना देना दिखाई ना देना हार्ट प्रॉब्लम,फ़ेफ़डो का कम विकसित होना lमहिलाओं की adhik उम्र से उसके होने वाले बच्चे में डाउन सिंड्रोम के होने की संभावना रहती है। इसलिए 35 साल की उम्र से अधिक गर्भवती महिलाओं को निश्चित रूप से डूअल मार्कर टेस्ट ज़रूर करवाना चाहिए
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या डबल मार्कर टेस्ट ज़रूरी होता है
उत्तर: हाँ ये टेस्ट फीटल की कार्डियक एक्टिविटी मेंटल हेल्थ के लिए होता ह मुझे भी डॉक्टर ने आज रिकमंड किया ह
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या double मार्कर टेस्ट ज़रूरी hai
उत्तर: हेलो भ्रूण में क्रोमोजोम्स के डेवलपमेंट को देखने के लिए डबल मार्कर टेस्ट किया जाता है यह 8 में से 14 हफ्ते के बीच किया जाता है डबल मार्कर टेस्ट की आवश्यकता तब पड़ती है जब मां की उम्र 35 वर्ष से अधिक हो अल्ट्रासाउंड और ब्लड टेस्ट का कॉन्बिनेशन होता है इसमें क्रोमोजोम्स की असमानताए को देखी जाती है गर्भ में जुड़वा बच्चे होने पर भी यह टेस्ट किया जाता है इस टेस्ट में अल्ट्रासाउंड के साथ स्क्रीन पर तस्वीर बनती है जिससे पता चलता है कि खून किस तरफ प्रवाहित हो रहा है। इससे बच्चे की सेहत और तंदुरुस्ती का पता चलता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें