34 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: क्या हाइट काम होने से नोर्मैल डिलिवरी नही हो सकती है

1 Answers
सवाल
Answer: बिल्कुल हो सकती है उसमें कोई प्रॉब्लम नहीं होती आपके हस्बैंड की हाइट तो कहीं ज्यादा नहीं है अगर आपके हस्बैंड की हाइट ज्यादा है तो हो सकता है बच्चे का वजन और लंबाई चौड़ाई का असर पड़ता है बस और कुछ नहीं
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: हाइट 5" हो तो नॉर्मल डिलिवरी हो नही सकती क्या ??
उत्तर: नॉर्मल डिलीवरी खली सेल्फ हाइट पर्दे पर नहीं करती है इसके लिए और भी फैक्टर्स पोटेंट होते हैं इंपॉर्टेंट होते हैं किसी महिला को जैसे यह पता चले कि वह प्रेग्नेंट है उसे तुरंत किसी लेडी डॉक्टर से मिल कर जांच करवानी चाहिए और गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से डॉक्टर के संपर्क में रहना चाहिए लेबर पेन के समय शरीर में खून की कमी नहीं होनी चाहिए इसलिए नियमित रूप से ब्लड टेस्ट करवाएं और खानपान का ध्यान रखें नार्मल डिलीवरी के लिए शारीरिक रूप से हेल्दी रहना चाहिए प्रेग्नेंट लेडी की डाइट में विटामिन, कैल्शियम और प्रोटीन की मात्रा अधिक रखें इसके अलावा ताजा फल हरी सब्जियां खाना चाहिए साथी समय पर खाना बहुत जरूरी है गर्भावस्था के दौरान शरीर में पानी की कमी ना होने दें नॉर्मल प्रेगनेंसी के दौरान मेथी का सेवन करने से भी नार्मल प्रेगनेंसी में फायदा मिलता है नवे महीने में आपको ghee का सेवन भी करना चाहिए यह भी नॉर्मल डिलीवरी होने में मदद करता है नॉर्मल डिलीवरी के लिए एक्सरसाइज और योग करने से भी फायदा मिलता है इससे पेट और कमर की मांसपेशियां बहुत मजबूत होती हैं नार्मल डिलीवरी के लिए आयुर्वेदिक दवा अगर आप लेना चाहते हैं तो अर्जुन रसायन, तुलसी, दशमुल और अश्वगंधा लेने से शरीर में ताकत आएगी बच्चे की रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ेगी डिलीवरी में भी मदद मिलेगी पर कोई भी आयुर्वेदिक मेडिसिन लेने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लेकर दवा की मात्रा और सही तरीका जरूर जाने
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 9 month मे कोई भी काम नही करने से क्या नोरमल डिलिवरी हो सकती है
उत्तर: Yeh आपकी शारीरिक क्षमताओं प्रेगनेंसी पर भी डिपेंड करता है अगर आपको डॉक्टर ने बेड रेस्ट करने के लिए कहा है और कुछ भी काम नहीं करने के लिए कहा है फिर भी यह चांसेस हो सकते हैं कि आप नॉर्मल डिलीवरी हो नहीं तो किसी complication की वजह से ही आपको काम ना करने की सलाह दी गई होगी इसलिए आप डॉक्टर के निर्देशों का पालन कीजिए। आप एक्सरसाइज भी करें अपने डॉक्टर की सलाह से क्योंकि इस टाइम वजन के बढ़ जाने से थोड़ा दिक्कत होता है अगर आप डेली एक्सरसाइज करते रहेंगे तो उसे आपके शरीर के सारे मसल्स भी बहुत स्ट्रांग रहेंगे जिससे आपको नॉर्मल डिलीवरी के लिए हेल्प मिलेगी। अभी के समय में नार्मल डिलीवरी हो पाना बहुत मुश्किल हो गया है क्योंकि इतना बिजी लाइफ होने के कारण लोग समय नहीं दे पाते खुद को और मेंटली और शारीरिक रूप से stress लेने लगते है। सबसे पहली और इंपॉर्टेंट बात यह है कि आपको प्रेग्नेंसी से रिलेटेड सारी बातों के बारे में जानना बहुत जरूरी होता है ..क्योंकि ऐसे में अगर आप को पहले से पता होगा सब चीजों के बारे में तो आपको टेंशन थोड़ा कम होगा और उस चीज का उपचार भी आप खुद से कर सकते हैं। इसलिए हो सके तो प्रेगनेंसी में आम जानकारी इकट्ठी करें। दूसरी बात आपको खान-पान में बहुत ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है आप जितना ज्यादा स्वस्थ रहेंगे बच्चा उतना ही स्वस्थ रहेगा नॉर्मल डिलीवरी में भी आपको उतना ही आसान होगा इसलिए आपको हेल्दी खाना है और हेल्दी रहना है। समय se आप का खाना बहुत मायने रखता है आप अपने खाने में आयरन कैल्शियम फोलिक एसिड प्रोटीन विटामिंस यह सारे चीज शामिल करें ।आप को हेल्दी रखने में हेल्प करेगा आप हो सके तो बहुत ज्यादा पानी पिया क्योंकि प्रेग्नेंसी के समय आपके शरीर को पानी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है पानी का उपयोग आपके शरीर में सांस साथ आपके बच्चे के शरीर में bhi jaruri hai.. प्रेग्नेंसी के समय आप ज्यादा स्ट्रेस ना ले और हो सके तो आप खुश रहें और दूसरों से अपनी बात शेयर करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: सिंगल लूप कोर्ड बेबी के नेक मै होने से नॉर्मल डिलिवरी हो सकती है क्या ?
उत्तर: बिल्कुल डीयर सिंगल लूप कॉर्ड बेबी के नेक में होने से भी नार्मल डिलीवरी हो सकती है ... आप फीकर ना करें पॉजिटिव रहे... बच्चे मां के गर्भ में खुद ही घूमते घूमते इसे अपने गले में फंसा लेते हैं खुद ही इज से निकल भी आते हैं .. अगर डिलीवरी टाइम भी बच्चे के गले में नुचल चोर्द हुई , तू भी डिलीवरी आसानी से हो जाएगी
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या ब्रीच प्रेज़न्टेशन होने पर नॉर्मल डिलिवरी हो सकती है ???
उत्तर: गर्भ में बच्चा अपनी पोजीशन बदलता रहता है. समय पूरा होने पर सेफैलिक पोजीशन (cephalic position) में आ जाता है. यानी कि बच्चे का सिर नीचे और पैर ऊपर की तरफ. जन्म के समय बच्चे को सिर की तरफ से ही निकाला जाता है. तीन से पांच फीसदी मौकों पर बच्चे का सिर ऊपर की ओर होता है. इस पोजीशन को ब्रीच पोजीशन (breech position) कहते हैं.  यह प्रेगनेंसी के 37 से 40 सप्ताह के बीच हो सकता है. इस पोजीशन को प्रसव के लिए सुरक्षित नहीं माना जाता. इस पोजीशन में सिर अटकने का खतरा बना रहता है. इसमें बच्चे को ऑक्सीजन की कमी का खतरा भी होता है. इसके अलावा बच्चे की गर्भनाल पर भी दबाव पड़ता है, जिससे ऑक्सीजन बंद हो जाता है. ऐसी स्थिति में मरीज को सर्जरी की सलाह दी जाती है
»सभी उत्तरों को पढ़ें