37 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: क्या हम गुलकोसे का पानि पीना chahiye

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर प्रेगनेंसी में आफ ग्लूकोस का पानी पी सकती हैं लेकिन आप ध्यान रखें कि आप बहुत ज्यादा ना प्लीज शरीर में ग्लूकोज की मात्रा का होना भी एक सीमित मात्रा में होना अच्छा होता है अगर आप बहुत ज्यादा पीते हैं तो आपको शुगर की प्रॉब्लम भी हो सकती है इसलिए आप कोशिश करें अगर आपको थकान लग रही है या बिजनेस के कारण पीना चाहती हैं तो थोड़े से ठंडे पानी में एक बार या दो बार पी ले
Answer: हेलो डियर ,,,,,,ग्लूकोस का पानी पी सकते हैं पर ध्यान रहे कि रु अधिक मात्रा में लेने से बॉडी में शुगर लेवल बढ़ सकता है और साथ ही साथ प्रेगनेंसी में शुगर की प्रॉब्लम भी हो सकती है इसलिए दिन में दो बार से अधिक ग्लूकोस का सेवन ना करें Jab अत्यधिक थकावट महसूस कर रहे हो ya आपको चक्कर, उल्टी आदि की स्थिति बनी हो तभी आप ग्लूकोस का सेवन करें |
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेटा 5 मंथ का है क्या उसको दांल का पानि दे सक्ते है
उत्तर: हेलों आपका बेबी 5 महीने का है आप बच्‍चे को दाल का पानी देने के लिए कुछ दिन वेट करे और 6 मंथ कम्पलीट होने के बाद ही दे अभी बेबी को माँ का ढूध या फॉरम्यूला मिल्क ही पिलाये . बच्चे का डाइजेस्न सिस्टम धीरे धीरे इम्प्रुव होता है आप इसके लिए समय दे
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा आतहव महीना चल रहा है क्या बेल का रास पीना chahiye
उत्तर: हेलो डियर जी हां आप बेल का रस पी सकते हो .प्रेग्नेंसी के दौरान सब कुछ खा और पी सकती हो आप अभी बेल का जूस पी पी सकते हो क्योंकि बेल का जूस ठंडा होता है . बेल का जूस पीने से आपको गैस और कब ्ज की समस्या से राहत मिलती है . और बिल का जूस पीने से आपके शरीर में कब पानी कभी भी कम नही ं होता है और डायरिया भी नहीं होता है . बेल के जूस में फाइबर होता है जो कि आपको प्रेग्नेंसी में अच्छा रहता है . अगर ए बेल का जूस आप घर पर बना हुआ ले तो बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होगा डियर ख्याल रखें .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या आवले का सुखा मुरब्बा खा सकते है ऑर मिल्क कितना पीना chahiye
उत्तर: हेलो हा आप आवले का मुरब्बा खा सकती है आवले में विटामिन सी होता है और यह आयरन का स्‍तर शरीर में सही बनाता है। अगर गर्भावस्था में आंवले का सेवन किया जाए तो इस दौरान शरीर को जरूरत के मुताबिक आयरन कंज्यूम करने को मिलता है। इससे हिमोग्लोबिन का लेवल भी मेंटेन रहता है।  गर्भावस्था के आखिरी तीन महिनों में हाथों और पैरों में आने वाली सूजन में आंवले में पाए जाने वाले गुणों के कारण बहुत हद तक राहत मिलती है। इसके सेवन से खून साफ होता है और साथ ही बच्‍चे तक खून और ऑक्‍स‍िजन आराम से पहुंचता है। आंवला शरीर की इम्‍यूनिटी दुरुस्‍त करता है। आंवले में विटामिन सी से बेहतर सुरक्षा मिलती है। द‍िन में एक कच्‍चा आंवला ही शरीर को सुरक्षा देने के लिए पर्याप्‍त है।  फाइबर्स से भरपूर होने की वजह से आंवला कब्ज में आराम देता पहुंचाता है।इसके अलावा प्रेगनेंसी की पहले तीन महीनों में मॉर्निंग सिकनेस में भी आंवला आराम देता है। आप मिल्क एक दिन में दो बार,ek ek glass पी सकती है और आप khane में मिल्क प्रॉडक्ट जैसे दही पनीर का सेवन कर सकती है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: केसर का दूध कब से कब तक पीना chahiye
उत्तर: hello dear आप दूसरी तिमाही के बाद केसर लेना शुरु कर सकती है। गर्भावस्था केसर के सेवन का उपयुक्त समय है  इसको सुबह शाम गर्म दूध के साथ लिया जाना चाहिये। एक ग्लास दूध में एक चुटकी केसर काफ़ी होती है। गर्भवती महिलाओं के लिए बनने वाले खाने में भी थोड़ी सी केसर डाली जानी चाहिये।
»सभी उत्तरों को पढ़ें