32 weeks pregnant mother

Question: क्या मे khajur aur shahad खा सकती हु

1 Answers
सवाल
Answer: हेलों हाँ आप खजूर और शहद दोनों का ही सेवन कर सकती है .खजूर हाई फाइबर से भरा होता है। इसलिए ये पेट को साफ रखने में बहुत कारगर hai.मां के साथ बच्चे के लिए प्रेग्‍नेंसी में प्रोटीन की जरूर बहुत होती है। और खजूर में प्रोटीन की मात्रा इतनी होती है कि वह जरूरत को पूरा करने में सक्षम होता है।ये बॉडी ग्रोथ के लिए बहुत जरूरी है।खजूर में पाया जाने वाला फोलेट बहुत महत्वपूर्ण होता है। ये बच्चे में इनबॉर्न डि‍फेक्‍ट को रोकने में बहुत कारगर है।इसमें फोलिक एसिड भरपूर होता है। एनीमिया में कई बार आयरन से ज्यादा फोलिक एसिड की जरूरत होती है और ये उसी जरूरत को पूरा करता है।  शहद का सेवन सिमित मात्रा में करे.शहद शुद्घ और प्रमाणित हो। ।रात को सोने से पहले दूध में शहद डालकर पीने से आपको अनिंद्रा में राहत मिल सकती है। शहद शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं, इसलिए गर्भावस्था में यह सर्दी-खांसी से बचा सकता है।नींबू या अदरक की चाय में शहद डालकर धीरे-धीरे पीने से गले के दर्द में राहत मिलती है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: क्या मे अनार खा सकती हु क्या
उत्तर: माय wifes बैक इज pपेनिंग महिला की स्पेलिंग क्या करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या मे maggi खा सकती हु क्या ?
उत्तर: हेलो डियर मैग्गी जंग फूड में आती है मैगी आप ज्यादा नहीं खा सकती है अगर खाए भी तो सिर्फ आटे वाली खाएं क्योंकि गर्भावस्था में मैदा नुकसान करता है आप आटे वाली मैगी कभी-कभी खा सकती है वह आपके लिए सुरक्षित होगी
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या मे fish खा सकती हु ?
उत्तर: हेलो डियर,, प्रेगनेंसी के दौरान आप फिश ले सकते हैं यह baby के vikasमें यह बहुत ही अच्छा है |इससे बेबी का शारीरिक व मानसिक विकास बढ़ता है मछली में ओमेगा-3 पाया जाता है जो कि बेबी के मानसिक विकास को बढ़ाने के साथ-साथ प्रेगनेंसी में होने वाले उदासी ,मानसिक तनाव ,मानसिक रूप से परेशानी ,थकावट आदि समस्याओं को दूर करने में बहुत ही महत्वपूर्ण है प्रेग्नेंसी में मछली के प्रयोग से baby में विकार की स्थिति कम होतीhai.. फिश में विटामिन की प्रचुर मात्रा में होता है जो कि बेबी के स्किन के निर्माण में बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या अबी मे सिताफल खा सकती हु
उत्तर: हेलो हा आप सीताफ़ल खा सकती है सर्दी होने पर आप इसे ना खाएं प्रेग्नेंसी में सीताफल खाना अत्यधिक लाभदायक होता है। इससे कमजोरी दूर होती है , उल्टी व जी घबराना ठीक होता है , सुबह की थकान में आराम मिलता है सीताफल तांबा और फाइबर का प्रचुर स्रोत होता है, जो पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। इससे कब्ज और आँतों की परेशानी कम हो जाती है।,स्वस्थ गर्भावस्था k लिए फोलेट आवश्यक होता है, क्योंकि यह तंत्रिका ट्यूब दोषों की संभावनाओं को रोकता है। सीताफल में फोलेट की उच्च मात्रा होती है, गर्भावस्था के दौरान सीताफल का सेवन गर्भस्राव की संभावना को कम करता है।Sitafal में दूसरे फलों की अपेक्षा आयरन अधिक मात्रा में होता है । इसमें विटामिन सी और आयरन दोनों होने के कारण यह हिमोग्लोबीन बढ़ाने तथा खून की कमी को दूर करने में प्रभावी रहता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें