24 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: क्या मेल फिमेल का पत्ता lg सकता हे

1 Answers
सवाल
Answer: Dear, लड़का या लड़की होना क्रोमोसोम्स के फ्यूजन पर डिपेंड करता है यदि स्त्री के XX क्रोमोसोम्स पुरुष के XY क्रोमोसोम से फ्यूज होते हैं तो लड़का होता है और यदि स्त्री के XX क्रोमोसोम्स पुरुष के XX क्रोमोसोम से फ्यूज होते हैं तो लड़की होती है यह लॉजिक है लड़का और लड़की होने का बच्चे के लिंग का पता तो जन्म के बाद ही चल सकता है। भारत में बच्चे का लिंग जानने की अनुमति नहीं है अतः आप किसी और विधि से से भी इसका पता नहीं लगा सकती हैं। आपको किसी भी प्रकार का तनाव नहीं लेना चाहिए और खुश रहें साथ में आप को अधिक से अधिक आराम करना चाहिए। तरल पदार्थों का सेवन करें ।10 से 12 गिलास पानी प्रतिदिन पिए। साथ ही नारियल पानी भी पिएं और पौष्टिक आहार का सेवन करें, खुश रहें जिससे स्वस्थ बच्चे का जन्म हो । कुछ किवदंतियां हैं की यदि गर्भवती स्त्री को मीठा अच्छा लगता है तो बेटा जन्म लेता है और यदि नमकीन अच्छा लगता है तो बेटी जन्म लेती है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरे बच्चे के गर्दन में गर्भनाल(umblical cord) का एक लूप बन गया है। क्या मेरा अब नार्मल डिलीवरी नहीं हो सकता?
उत्तर: Hello dear! आपको उतनी घबराने की जरूरत नहीं है। यह लूप आपके बच्चे की हरकतों से अपने आप निकल जाएगी। सिंगल लूप की वजह से कोई प्रॉब्लम नहीं होती है। आपका नार्मल डिलीवरी भी होना संभव है। चिंता मत कीजिए। लेकिन अगर कॉर्ड बहुत ज्यादा कस कर लपेटा हुआ है तो बच्चे के सिर निचे की ओर नहीं आ पाएंगे और प्रसव की पीड़ा के समय बच्चे की हृदय की धड़कन भी धीमी पड़ सकती हैं, जोकि CTG से पता चल जाएगा। डॉक्टर आपके तब की स्तिथि को देखते हुए बता देंगे की नार्मल या सीज़ेरियन करना उचित रहेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: सेक्स के टाइम पर अगर फिमेल मेल के ऊपर हो टोह क्या स्पेर्म अन्दर नही जा pata .
उत्तर: अगर आप अनप्रोटेक्ट सेक्स करेंगे तो किसी भी पोजीशन में मेल sperm अंदर जा सकता है अगर आपको baby चाहिए तो आप किसी भी पोजीशन में कोशिश कर सकते हैं। लेकिन अगर आपको बेबी नहीं चाहिए तो आप सेक्स करने के लिए हमेशा प्रिकॉशन का इस्तेमाल कीजिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेडम क्या पी सी ओ एस ओर पी सी ओ डी का पत्ता अल्ट्रसाउंड से पत्ता चल सकता हें
उत्तर: hello पीसीओएस और पीसीओडी का पता अल्ट्रासाउंड से ही लगाया जाता है। अल्ट्रासाउंड कराने से ही पता चलता है कि ओवरी में कितने सिस्ट हैं और फिर इनका ट्रीटमेंट किया जाता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें