9 months old baby

Question: क्या मेरा 9 महीने का बेच hare अंगूर खा सकता हैं ऑर एक ek din me कितने

1 Answers
सवाल
Answer: hello डियर,,, प्रेगनेंसी में green अंगूर खा सकते हैं अंगूर में विटामिन ए, विटामिन b1, विटामिन सी ,आयरन, फास्फोरस होता है जोकि बेबी के बॉडी और ब्रेन डेवलपमेंट ने बहुत ही ज्यादा मदद करता है | अंगूर खाने से मॉर्निंग वीकनेस में कमी आती है इसके फाइबर कब्ज की समस्या व पेट से संबंधित अन्य समस्या को दूर करने व बेबी के न्यूरॉन्स को मजबूती देने , खून की कमी को पूरा करने में में बहुत ही ज्यादा useful होते एक दिन में पावर खा सकती है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: क्या हम सूखे मेवे खा सकते हैं ऑर कितने
उत्तर: हेलो डियर हा आप सुखे मेवे खा सकती है लेकिन इनका सेवन सिमित मात्रा में करे अलग अलग ड्राइ फ्रूट्स एक mutti एक din में सेवन के लिए parpyapt है आप काजु बादाम किशमिश अखरोट chuhara खा सकती है बादाम आप भिनो के खायें प्रेगनेंसी में होने वाली समस्या जैसे अपच दस्ट खुन की कमी ड्राइ फ्रूट के सेवन से दूर की जा सकती है . इनमे bahut adhik पौष्टिकता होती है जैसे फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, पोटैशियम, फ़ास्फ़रोस, विटामिन ए , बी6 , vitamin सी, vitamin Dlभूरे रंग के कवर वाले ड्राई फ्रूट जैसे बादाम , अखरोट आदि पाचन तंत्र को मजबूत बनाते हैं .ड्राई फ्रूट  में प्रोटीन होता है जो शरीर के विकास के लिए बहुत जरुरी होता है साथ ही बच्चे के मानसिक विकास के लिए भी ये जरुरी होता hai.ड्राई फ्रूट आसानी से खा सकते हैंये पचने में भी आसान hote hai.ड्राई फ्रूट  में में हर वो खनिज पदार्थ आदि होते हैं जिसकी जरूरत एक गर्भवती महिला को होती है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: एक महीने ऑर 2 दीन का मेरा बेटा है वो फीडिंग कितने टाइम करना चाहिए
उत्तर: आप अपने बच्चे को हर 2 से 3 घंटे में फीडिंग कराते रहना चाहिए 10...15 मिनट फीड करा सकती है उसके बाद बच्चे को अच्छे से डकार दिलाए जिससे उनकी पेट में गैस नहीं बनेगी... बच्चे को जन्म के बाद माँ का दूध जरूर पिलाना चाहिए उसमें बच्चे के लिए रोगप्रतिरोधक छमता होती है, जो बच्चे के लिए जनम के बाद बेहद आवश्यक होती है। इसमें बहरपुर मात्रा में पोशक तत्व और विटामिन्स होते है जो बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत जरुरी होते हैं। इसमे सही मात्रा में फेट प्रोटीन और काबोहैड्रेट होते हैं जो बच्चे को आसानी से पचने में सहायक होते है। इसमे कैल्शियम और आयरन होते हैं जो बच्चे के विकास के लिए बेहद जरुरी तत्व है। मा के दूध से बच्चे का पाचन तंत्र का तंत्रिका तंत्र का और मानसिक विकास अच्छा होता है। माँ को अपने खाने में काळा अंगूर की किशमिश का सेवन करना चाहिए इससे आपका दूध आयेगा। माँ को ड्राई फ्रूट्स और दूध लेना चहिय।। पानी भरपूर पीजिए । माँ के दूध में ज्यादा हिस्सा पानी का होता है इसलिए तरल पदार्थ जूस इत्यादि लेते रहिय। आप खाने में दाल चावल रोटी सब्जी हरी पत्तेदार सब्जियां दूध अंडा मछली प्रोटीन युक्त आहार ले सकती हैं आप सही मात्रा में कार्बोहाइड्रेट और वसा भी लीजिए। आप फल फलों के रस ज्यादा मात्रा में लीजिए और तरल मात्रा लेते रहिए इससे आपको हाइड्रेशन रहेगी। और दूध अच्छा आयेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा 1 साल 2 महीने का हैं ऑर वो ऊपर का दूध पीता हैं ऑर थोड़ा कुछ खा लेता हैं उसकी pottyi
उत्तर: आपका बच्चा 1year se jayda hai to वह अभी फल सब्जियां दूध यह सब कुछ खा सकता है लेकिन आप सबसे पहले ध्यान रखे कि खाना बहुत ज्यादा मात्रा में ना हो और बहुत बड़े टुकड़े ना हो. वह अच्छी तरह पका हो ध्यान रखें .खाना बच्चों को ताजा ही खिलाएं. मार्केट का कोशिश करें की अच्छी जगह ka हो साफ ho. आप बच्चे को दूध दे सकते हैं .दिन में तीन बार आप गाय का दूध जरूर दें .इसे कि उसे कैल्शियम अच्छी तरह मिलेगा. आप हरी सब्जियां और फल जिनमें हाई कैलोरी होती हैं वह जरूर दें जिससे कि उसे एनर्जी मिलेगी ज्यादा फैक्ट्री खाना ना दे नहीं तो उससे उनकी आदत बिगड़ सकती है जिससे कि वह आगे जाकर बहुत मोटे तो रहेंगे लेकिन उनमें ताकत नहीं रहेगी. Banana (kela )जरूर दें इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन B6 ,फाइबर, पोटेशियम ,विटामिन सी होता है और फलों में आप नाशपाती दे सकते हैं आलू देख सकते हैं मटर दे सकते हैं शकरकंद दे सकते हैं. अगर आप नॉन वेजिटेरियन है मांसाहारी है तो आप रोज एक अंडा दे. चिकन भी दे .चिकन ya egg देने से पहले आप यह ध्यान दें कि सब ताजा हो अच्छी तरह पका हो .बाहर का बिल्कुल भी बना हुआ ना दें. Ghee जरूर den. उसकी रोटी में घी लगाकर ya उसे दाल चावल में ghee डाल कर दें .जो भी उसके लिए अलग से बना रहे हैं उसमें तेल की जगह घी का प्रयोग करें. सूखे मेवे दे सकती हैं .चीज दे सकते हैं. आप सभी प्रकार के अनाज भी दे सकती हैं अगर बच्चा रोटी खाए तो आप मल्टीग्रेन आटे की रोटियां बनाएं जिसे आप दूध से सामने ज्ञानाराम तो बनेगी बनेगी साथ में कैल्शियम भी जाएगा छोटे-छोटे टुकड़े करके उन्हें खिलाएं. बच्चों को भी आप oats दे सकते हैं . इससे उनको फाइबर भी मिलेगा . avocado दे सकते हैं . Raagi दे सकते हैं घर में ही सभी प्रकार की दालों को पीसकर मल्टीग्रेन पाउडर बना सकते हैं . जिसे आप दूध में उबालकर भी दे सकती है . उसकी रोटी भी बना कर खिला सकती हैं . उससे डोसा बना सकती हैं इडली बना सकती हैं. बच्चे को अगर आप मोटा करना चाहते हैं उसे तंदुरुस्त बनाना चाहते हैं तो आप उसके खाने में हरी पत्तेदार सब्जियों कुछ ज्यादा ही प्रयोग करें. इसमें प्रोटीन मिनरल्स होते हैं जो कि बच्चों के शरीर के विकास के लिए बहुत जरूरी होता है बच्चों को ऊर्जा मिलती है और उसके अलावा hari सब्जियों को खाने में dhyaan भी बढ़ता है. जिंक वाला आहार दें जिससे कि बच्चों को भूख ज्यादा लगेगी और शरीर की ग्रोथ अच्छी होगी .जो बच्चे देखने में कमजोर होते हैं उन्हें भूख भी कम लगती हैं. उन्हें आप zink वाला और देने से उनकी बुक खुल जाती है और वह अच्छी तरह खाना खाने लगते हैं. Zink वाले आहार के लिए तरबूज के बीज, मूंगफली ,बींस ,पालक ,मशरूम और dudh den. इन सब चीजों से बच्चों का वजन भी पढ़ने में मदद मिलती है. डेयरी उत्पाद में मछली का सेवन भी आप बच्चों को करा सकते हैं. बच्चों को भरपूर मात्रा में दूध दही पनीर इन सब का सेवन करना चाहिए. जिससे बच्चा अपनी ग्रोथ कर सकें .यदि आप नॉनवेज है तो आप अपने बच्चे को मछली और एक अंडा daily दे सकते हैं. बच्चों को ताजे फल भी दे उनसे उनका पेट भरेगा और पोषक तत्व मिलेंगे .उससे उन्हें energy मिलेगी. अंगूर, सेब, केला ,संतरा ,तरबूज, खिलाने से बच्चे तंदुरुस्त होते हैं. बच्चों को ड्राई फ्रूट्स भी हमें रोज देना चाहिए. पिस्ता ,मूंगफली ,काजू खाने से कोलेस्ट्रॉल और खूब सारी कैलोरी मिलती है .जिसको खाने से बच्चे बढ़ेंगे और मोटे भी होंगे .आपको इन्हें रोजाना की डाइट में शामिल करना चाहिए. bachho ke खाने में आप बहुत ज्यादा नमक या बहुत ज्यादा मीठा बिल्कुल भी ना दें .दोनों ही चीजें लिमिट में होनी चाहिए. मात्रा उनकी आप सही रखें. बच्चों को कोल्ड्रिंग fastfood ya बाहर का खाना. होटल का खाना .बहुत ज्यादा पसंद होता है. लेकिन आप कुछ ऐसा करें जिससे कि आप उन्हें इन सब से बचा सके. पानी पीना बहुत जरूरी होता है और यह सही मात्रा में पिया जाए बहुत जरूरी है आप बचपन से ही बच्चों में यह आदत डालें कि वह पानी अच्छी मात्रा में लें ताकि वही आदत पड़ी तक रहे. bachho me थोड़ी एक्सरसाइज करने की ya योगा करने की भी आप आदत डालें इन सभी का प्रभाव आप उनके अच्छे स्वास्थ्य में देखेंगे. take care
»सभी उत्तरों को पढ़ें