1 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: क्या pegnecy में ब्रेस्ट में दर्द कर्ता ह

5 Answers
सवाल
Answer: हेलो डिअर, प्रेगनेंसी में शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का स्तर बढ़ जाता है। जिस वजह आपके स्‍तनों में में बदलाव नज़र आते हैं। ऐसा होना नार्मल है ऐसे में स्तनों में दर्द और सूजन भी होने लगता है स्‍तनों का दर्द कम करने के लिए हल्‍के गर्म और ठंडे पैक का प्रयोग कीजिए। आइस पैक स्‍तनों पर रखने से राहत मिलती है और थोड़ी देर वो जगह सुन्‍न हो जाती है, जिसके कारण सूजन भी कम हो जाती है। यदि आप गर्म पैक का प्रयोग कर रहे हैं तो उससे रक्‍त का संचार बढ़ जाता है इसकी वजह से भी आपको आराम मिलेगा। लेकिन ज्‍यादा गर्म पैक का इस्‍तेमाल भी न करें। 
Answer: हेलो डिअर, प्रेगनेंसी में शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का स्तर बढ़ जाता है। जिस वजह आपके स्‍तनों में में बदलाव नज़र आते हैं। ऐसा होना नार्मल है ऐसे में स्तनों में दर्द और सूजन भी होने लगता है स्‍तनों का दर्द कम करने के लिए हल्‍के गर्म और ठंडे पैक का प्रयोग कीजिए। आइस पैक स्‍तनों पर रखने से राहत मिलती है और थोड़ी देर वो जगह सुन्‍न हो जाती है, जिसके कारण सूजन भी कम हो जाती है। यदि आप गर्म पैक का प्रयोग कर रहे हैं तो उससे रक्‍त का संचार बढ़ जाता है इसकी वजह से भी आपको आराम मिलेगा। लेकिन ज्‍यादा गर्म पैक का इस्‍तेमाल भी न करें। 
Answer: जी बिल्कुल प्रेग्नेंसी के समय ब्रेस्ट में दर्द रहता है यह भी प्रेगनेंसी का एक लक्षण है क्योंकि हारमोंस चेंज होते हैं जिसकी वजह से ब्रेस्ट में कभी-कभी स्वेलिंग भी आ जाती है और जैसे-जैसे प्रेगनेंसी पड़ती है तो कभी-कभी ब्रेस्ट से पानी भी निकलने लगता है तो ऐसी समस्याएं प्रेगनेंसी के दौरान आती हैं। यदि आपको ब्रेस्ट पेन ज्यादा रहता है तो आप गर्म पानी में नमक डालकर टॉवल को भिगोकर उससे आप सिकाई कर सकते हैं से आपको आराम मिलेगा।
Answer: प्रेग्नेंसी के दौरान, हार्मोन में बदलाव के कारण ब्रेस्‍ट में दर्द होना एक सामान्य है प्रेग्नेंट होने के बाद, ब्रैस्ट में दूध बनाने वाले ऊतकों का निर्माण शुरू हो जाता है,इस दौरान आपको ब्रैस्ट में सूजन, दर्द जैसी समस्या होती है  अच्छी क्वॉलिटी के ब्रा का इस्तेमाल करें. अंडरवायर ब्रा का इस्तेमाल बिलकुल न करें. कॉटन के ब्रा का ही इस्तेमाल करें.  
Answer: प्रेग्नेंसी के दौरान, हार्मोन में बदलाव के कारण ब्रेस्‍ट में दर्द होना सामान्य है प्रेग्नेंट होने के बाद, ब्रैस्ट में दूध बनाने वाले ऊतकों का निर्माण शुरू हो जाता है,इस दौरान आपको ब्रैस्ट में सूजन, दर्द जैसी समस्या होती है  अच्छी क्वॉलिटी के ब्रा का इस्तेमाल करें. अंडरवायर ब्रा का इस्तेमाल बिलकुल न करें. कॉटन के ब्रा का ही इस्तेमाल करें.  
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मुझे नीन्द नही आती ह सर दर्द कर्ता ह में क्या करो
उत्तर: डियर भरपूर नींद लेना बहुत जरूरी है Delivery के दौरान शरीर में बहुत से हारमोनल चेंज हो जाते हैं इसी के साथ ऐसी स्थिति में बहुत तनाव होता है जिस वजह से नींद ना आना स्वाभाविक है नींद आने के का बहुत से कारण हो सकते हैं नींद ना आने पर आप कुछ उपाय कर सकते हैं जैसे कि खाने में तरल तरल पदार्थ लें जैसे पानी और जूस पिए ध्यान दें रात में सोने से पहले तरल पदार्थ ना लें इसे रात को बार-बार urine आ सकती है और नींद खराब होगी मॉर्निंग वॉक करें हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करें इससे ब्लड सरकुलेशन होता रहेगा रात के समय पैरों में ऐंठन कम होगी तनाव बिल्कुल ना ले इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने आपको हर वक्त खुश रखें लैवेंडर ऑयल से अपने सर की मालिश करें लैवेंडर ऑयल नींद लाने में भी काफी सहायक होता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: दूध पिलाते टाइम ब्रेस्ट निप्पल में दर्द होता ह क्या करु
उत्तर: अगर आपको फीडिंग अच्छे से आ रही है और बच्चा दूध नहीं पी रहा है इसके कारण आपको ब्रेस्ट में स्वेलिंग पेन और गठान की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। आप अपने बच्चे को हर 2 घंटे में दूध पिलाने की कोशिश कीजिए अगर आपका बच्चा दूध नहीं पी रहा है तो दूध को दबाकर निकाल दीजिए इससे आपके ब्रेस्ट में आराम मिलेगा।आप अपनी निप्पल में कोई भी एंटीसेप्टिक क्रीम लगा सकते हैं लेकिन बच्चे को pilane से पहले इसे ध्यान से साफ कर लीजिए आप अपने brest में कोल्ड कंप्रेस भी कर सकती है मतलब barf से sekai भी कर सकती है इससे भी आपको आराम मिलेगा अगर आराम नहीं मिलता है तो डॉक्टर के जरूर सलाह लीजिए ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेम क्या प्रेगनेट में ब्रेस्ट में दर्द होता ह क्या
उत्तर: हेलो डियर प्रेग्नेंट होने के बाद, शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का स्तर बढ़ जाता है। जिस वजह आपके स्‍तनों में में बदलाव नज़र आते हैं।इसी वजह से ब्रेस्ट में थोड़ा बहुत पेन रहने लगता है, यदि आपने थर्मामीटर से चेक किया है और आप को बुखार है तो आप अपने डॉक्टर से कंसल्ट कर के दवा ले याद रखें कि बिना पूछे डॉक्टर से दवा नहीं ली.
»सभी उत्तरों को पढ़ें