16 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: क्या प्र्ग्न्सी के समय शुगर kha सक्ते hen

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: गाय दूध दे सक्ते है क्या 5 महिने के बचे को और उसका प्रमाण क्या होगा
उत्तर: 5 महीने के बच्चे के लिए सबसे ज्यादा सुरक्षित स्तनपान ही है मां का दूध बच्चे के लिए अमृत होता है मां के दूध से बच्चे की इमेज लीटर सिस्टम मजबूत होती है और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है लेकिन अगर किसी कारणवश आप को अपना दूध कम देना पड़ रहा है या आपके दूध से बच्चे का पेट नहीं भर रहा है तो आप अपने खान-पान को अच्छा करें और खाने में जीरे का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा करें ताकि आपका दूध सही हो जाए लेकिन अगर फिर भी आपकी कोई और मजबूरी है अपना दूध ना दे पाने की आप गलती से भी अपने बच्चे को गाय का दूध या कोई और खोला दूध देने की गलती ना करें खुले दूध में बैक्टीरिया होते हैं किसी बच्चे को बीमारी और इंफेक्शन का खतरा होता है खुशी बच्ची को डायरिया और है बेबी को डायरिया आदि की समस्या हो सकती है इसलिए आप ऐसी लापरवाही ना करें आप अपनी बीवी को सिर्फ फॉर्मूला मिल्क की दें वह बच्चे का संपूर्ण विकास करता है और रोगों से लड़ने में भी सहायक होता है फॉर्मूला मिल के बच्चे के लिए को रूप से सुरक्षित होगा इसके अलावा कोई और दूध नहीं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या मै प्र्ग्न्सी में husbend से रेलेसोन बना सकती hu
उत्तर: प्रेगनेंसी में सेक्स करना सेफ है। शुरु के तीन महीनों के बाद आप सातवें या आठवें महीने तक आराम से सेक्स कर सकते हैं। जब गर्भ में पल रहे बच्चे में किसी प्रकार के कॉम्प्लीकेशंस हों तो सेक्स करने से बचना चाहिए। इससे बच्चे के विकास पर असर पड़ सकता है। लेकिन यदि बच्चे का विकास सही प्रकार हो रहा हो तो गर्भावस्था के तीन महीने पूरे होने पर सेक्स किया जा सकता है। सेक्स करने के लिए पति-पत्नी को डाक्टर से सलाह लेकर सही सेक्स पोजीशन अपनानी चाहिए, इससे प्रेगनेंट औरत को और बच्चे को भी परेशानी नहीं होगी।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: क्या प्र्ग्न्सी के 1 मॉथ मैं पेट मे पेन क्यू होते h
उत्तर: हेलो डियर प्रेग्नेन्सी में हल्का फुल्का पेट में दर्द होना नॉर्मल है प्रेग्नेन्सी में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन की वजह से ऐसा होता है ।आप परेशान ना हो।कभी कभी पेट दर्द गैस और कब्ज की वाजह से भी होने लगता है इसलिए आप सन्तुलित और पौष्टिक फ़ूड खाइए ज़्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी पीजीए ।तनाव मुक्त रहिए।कोई भी भारी समान ना उठाये ।ज्यादा देर तक एक ही जगह पर खडे ना रहे और ना ही बैठे।रात मे एक ही करवट लेकर ना सोए।अगर ज्यादा तेज पेट मे दर्द होता है तो डॉक्टर से सलाह लीजिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें