24 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: केसर वाला दूध किस महीने में पीना ज्यादा अच्छा होगा

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर प्रेग्नेंसी के पांचवे महीने से आप केसर वाला दूध ले सकते हैं , शुरुआती के महीनों में केसर वाला दूध पीना आपकी health के लिए ठीक नहीं होता है , आप इसे ज्यादा मात्रा में नाले 10- 20 एमजी ले सकते हैं , अपना ख्याल रखे और स्वस्थ रहें .
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: केसर वाला दूध किस महीने से पीना चाहिए ऑर किस समय रात को पी सकते है
उत्तर: जी हा आप केसर ले सकती है प्रेगनेन्सी मे केसर का इस्तेमाल हम 4 मंथ से डिलिवरी तक कर सकते है , ध्यान रहे कि केसर की एक या दो पंखुड़ीयों का सेवन करना चाहिए, अधिक मात्रा में केसर की पंखुड़ियों का सेवन नहीं करना चाहिए. केसर दूध मे डाल कर दूध को अच्छी तरह उबाल ले , दूध का कलर बदल जाएगा , इज दूध को ठण्डा कर के सुबह या रात को आप पीये
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: प्रेग्नेन्सी में केसर वाला दूध किस महीने से लेना चाहिए
उत्तर: हेलो डियर आप केसर दूध प्रेग्नेन्सी के दूसरे तिमाही से पी सकती है इसके काई फ़ायदे होते है प्रेग्नेन्सी में जैस की इसके उपयोग से बेबी गोरा होता है ऑर प्रेगनेट लेडीज का बॉडी स्वस्थ रह्ता है आँखों की प्रॉब्लम भि दूर होती है जैस की नीन्द पुरी ना होने के वज्ह से आँखों में जो तनाव दिखता है लाल ऑर सुजन आ जाती है वो सब प्रॉब्लम नही होती केसर के उपयोग से प्रेग्नेन्सी में पाचन क्रिया की बहुत प्रॉब्लम होती है जैसे की पेट में दर्द होना खाना ना पचना गेस की प्रॉब्लम इन सब में आराम मिलता है इसके सेवन से बी.पी. भि नॉर्मल रहता है आप एक दिन में दूध के साथ 4 केसर के रेसे ले सकती है इस्से जादा दिन भर में उपयोग ना करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: केसर वाला दूध किस महीने में पी सकते हैं
उत्तर: हेलो डियर प्रेग्नेन्सी मे 5 month से ही केसर वाला दूध पीना चाहिए | प्रेगनेन्सी मे गर्म तासीर की चीज़ों से परहेज किया जाता है पर केसर आप ले सकते है पर 4 रेसे से ज़्यादा ना हो |1) केसर दूध के साथ लेने से गर्भवस्था मे होने वाली घबराहट नही होती | 2)नॉर्मल डिलेवरी के चान्सेस बढ़ जाते है | 3) गर्भावस्था मे हड्डियों मे होने वाले दर्द से निजात मिल जाती है | 4) आँखों की रोशनी कमज़ोर नही होगी | 5) पाचन तंत्र को मजबूत करता है | प्रति दिन 4 रेसे से अधिक दूध मे नही डालना चाहिए इसकी तासीर गर्म होती है जिसका अधिक सेवन से गर्भपात होने का खतरा होता है |
»सभी उत्तरों को पढ़ें