12 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: केसर किस महीने से लेना होगा

3 Answers
सवाल
Answer: प्रेगनेंसी के टाइम पर केसर वाला दूध पांचवे महीने से ही लेना चाहिए एक गिलास में केसर के चार रेशे ही काफी 1 दिन में इससे गर्भावस्था में होने वाली घबराहट कम हो जाती है केसर का दूध पीने से बच्चे का रंग साफ होता है इससे फायदा होता है आपकी नजर कभी भी कमजोर नहीं होगी डाइजेशन को मजबूत बनाते हैं नार्मल डिलीवरी के चांस बढ़ जाते हैं ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है और मसल्स भी स्ट्रांग रेट बनती है लेकिन इसको संतुलित मात्रा में ही लेना चाहिए यह ध्यान रखने वाली बात है इसका अधिक सेवन करने से गर्भवती महिला और उसके बच्चे को नुकसान भी हो सकता है
Answer: हेलो डियर """केसर का प्रयोग आप प्रेगनेंसी के दूसरी तिमाही के बाद कर सकते हैं | सुबह ,शाम दूध के साथ कर सकते हैं | केसर से पाचन तंत्र ठीक रहता है | रक्तचाप की समस्या durहोती है | केसर को खरीदते समय बहुत ही ध्यान रखना चाहिए बाजार में एक प्रकार उपलब्ध नकली केसर उपलब्ध है नकली केसर के प्रयोग से हानि हो सकती है इसलिए असली केसर खरीदें| प्रेगनेंसी मे अत्यधिक मात्रा नुकसान पहुंचा सकती है इसलिए केवल एक चुटकी का ही प्रयोग करें |
Answer: प्रेगनेन्सी मे केसर का इस्तेमाल हम 4 मंथ से डिलिवरी तक कर सकते है , ध्यान रहे कि केसर की एक या दो पंखुड़ीयों का सेवन करना चाहिए, अधिक मात्रा में केसर की पंखुड़ियों का सेवन नहीं करना चाहिए. केसर दूध मे डाल कर दूध को अच्छी तरह उबाल ले , दूध का कलर बदल जाएगा , इज दूध को ठण्डा कर के सुबह या रात को आप पीये
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेन केसर किस महीने से लेना स्टार्ट करु ?
उत्तर: हेलो डियर ,कई महिलाओं के मन में यह सवाल भी बार-बार आता है कि आखिर किस महीने से केसर खाना शुरू किया जा सकता है? क्या इसे शुरुआती समय से ही खा सकते हैं या इसे किसी विशेष महीने से लेना शुरू करना चाहिए? यहां हम बता दें कि गर्भावस्था में केसर लेने की जल्दबाज़ी आप बिल्कुल न करें। अगर शुरुआत में ही केसर खाना शुरू कर दिया तो गर्भाशय में संकुचन शुरू होने की आशंका रहती है, जिससे गर्भपात का खतरा हो सकता है। आयुर्वेद के स्वास्थ विशेषज्ञों के मुताबिक, गर्भावस्था की दूसरी तिमाही से केसर का इस्तेमाल किया जा सकता है। आप गर्भावस्था के पांचवें महीने से केसर का सेवन शुरू कर सकती हैं लेकिन खुद से केसर का सेवन न करें पहले डॉक्टर से इस बारे में सलाह लेना जरूरी वैसे  गर्भवस्था में केसर खाने के फ़ायदे बस इसे सही मात्र में खाना चाहिए जैसे दिनमे 20-30 एमजी केसर का इस्तेमाल किया जा सकता है| गर्भावस्था के दौरान कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं जिस कारण गर्भवती को कई तरह के मूड स्विंग होते हैं। कभी गुस्सा आना, चिड़चिड़ाहट होना, बिना किसी बात के रोने जैसा महसूस होना सामान्य है। ऐसे में केसर का सेवन करने से आराम मिलता है जिससे व्यक्ति को अच्छा महसूस होता है। अपना अच्छे से ख्याल रखना डियर ..
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: प्रेग्नेन्सी में केसर वाला दूध किस महीने से लेना चाहिए
उत्तर: हेलो डियर आप केसर दूध प्रेग्नेन्सी के दूसरे तिमाही से पी सकती है इसके काई फ़ायदे होते है प्रेग्नेन्सी में जैस की इसके उपयोग से बेबी गोरा होता है ऑर प्रेगनेट लेडीज का बॉडी स्वस्थ रह्ता है आँखों की प्रॉब्लम भि दूर होती है जैस की नीन्द पुरी ना होने के वज्ह से आँखों में जो तनाव दिखता है लाल ऑर सुजन आ जाती है वो सब प्रॉब्लम नही होती केसर के उपयोग से प्रेग्नेन्सी में पाचन क्रिया की बहुत प्रॉब्लम होती है जैसे की पेट में दर्द होना खाना ना पचना गेस की प्रॉब्लम इन सब में आराम मिलता है इसके सेवन से बी.पी. भि नॉर्मल रहता है आप एक दिन में दूध के साथ 4 केसर के रेसे ले सकती है इस्से जादा दिन भर में उपयोग ना करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मैं केसर लेना किस महीने से स्टार्ट करु
उत्तर: aap kesar 5th month se start kr skti hai,but kesar ki aap 2-3 pankhuri ka sevan kare,qki kesar bahut garam hota hai
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: केसर किस महीना से लेना चाहिये और कितना
उत्तर: केसर का सेवन आप अपनी प्रेगनेंसी के दूसरी तिमाही मतलब के चौथे महीने से स्टार्ट कर सकते हैं केसर और दूध का सेवन प्रेगनेंसी में बहुत ही फायदेमंद होता है मैंने सुना है कि केसर दूध का सेवन करने से पेट में पल रहा देवी गोरा होता है उसकी रंगत निखरती है इसके अलावा प्रेगनेट लेडीज का बॉडी स्वस्थ रह्ता है आँखों की प्रॉब्लम भि दूर होती है जैस की नीन्द पुरी ना होने के वज्ह से आँखों में जो तनाव दिखता है लाल ऑर सुजन आ जाती है वो सब प्रॉब्लम नही होती केसर के उपयोग से प्रेग्नेन्सी में पाचन क्रिया की बहुत प्रॉब्लम होती है जैसे की पेट में दर्द होना खाना ना पचना गेस की प्रॉब्लम इन सब में आराम मिलता है इसके सेवन से बी.पी. भि नॉर्मल रहता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें