18 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: कमर में दर्द रहता है

1 Answers
सवाल
Answer: हेलों आप 18 वीक प्रेगनेट है ..प्रेग्न्सी में होर्मोन चेंजेज और माँ और बच्चे के बढ़ते वेट के कारण गर्भाशय पर दबाव पड़ता है जिसके कारण आसपास के अंग पर भी प्रेशर पड़ता है जैसे कमर पीठ पैर हाथ पेट etc प्रेग्नेन्सी में back में दर्द होना तो समान्य है आप कोई ओइनमेन्त क्रीम जैसे मूव फ़ास्ट रिलीफ लगा सकती है आपको राहत मिलेगी इसके लिए आप प्रॉपर सपोर्ट लें के बैठे lलंबे टाइम के लिए ना बैठे l रेस्ट करे , धीरे धीरे हलकी हलकी एक्सर्साइज करे l कमर और पैरों मे सरसों के ऑयल से हलकी मालिश भी लें सकती है आपको आराम मिलेगाl आराम करे lआप गरम पानी की बॉटल से सीकाइ भी कर सकती है आपको आराम मिलेगा सोते समय सपोर्ट ले के सोएं और तकिया ना लगायें एक ही पोजिशन में ना सोएं करवट बदलते रहें हेवी सामान ना उठा ये ना सरकाये चप्पल शू कम्फर्टेबल पहनें रोज 15-20 मिनिट धूप में बैठे सूर्य के प्रकाश में पाये जाने वाला विटामिन डी बैक पेन कम करने और बेबी की ग्रोथ में मददगार है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: कमर में दर्द रहता है
उत्तर: हेलो, आपकी प्रोफाइल से आप अच्छे हफ्ते की प्रेग्नेंट दिख रहे हैं , प्रेगनेंसी के शुरुआती समय में कमर में दर्द होना बहुत ज्यादा का मन नहीं है लेकिन अगर कमर में दर्द हो तब भी कोई परेशानी की बात नहीं है ऐसा किसी किसी महिलाओं को होता है,प्रेगनेंसी में कमर, पीठ में दर्द होना बहुत ही नॉर्मल बात है ,ज्यादातर महिलाओं में प्रेगनेंसी में कमर दर्द की शिकायत होती ही है कमर में दर्द होने का कारण एक तो हारमोंस में बदलाव होता है दूसरा पेट में बढ़ रहे भार का हो सकता है जिसके कारण मांस पेशियों में खिंचाव होता है और कमर में दर्द हो सकता है कमर, पीठ दर्द को कम करने के लिए आप कोशिश करें कि अपनी बाइ और सोए सीधे पीठ के बल ना सोए घुटनों के बीच में तकिया लगाकर सोने से भी आपको कमर दर्द में आराम मिलेगा अगर आप हाई हील की सैंडल , शूज पहनते हैं तो ना पहने यह भी एक कमर दर्द का कारण हो सकता है साथ ही प्रेगनेंसी में dheele सूती के कपड़े पहनने चाहिए जिससे शरीर में खून का प्रवाह आसानी से हो और हम अनेक तरह के दर्द से बचेगे
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे पेट में दर्द और कमर में दर्द रहता है
उत्तर: पीठ प्रेगनेंसी में kmar दर्द होना एक सामान्य बात है प्रेग्नेंसी के समय दर्द के अनेक कारण हो सकते हैं इस समय बच्चे का आकार बढ़ते जाता है जिसके कारण पेट में तनाव की स्थिति या फैलाव बढ़ते जाता है जिससे kmar में दर्द होने लगता है इसके अलावा हमारी बॉडी ऐसे हारमोंस को रिलीज करती है जोकि डिलीवरी के समय हड्डी को लचीला बनाता है और किस हार्मोन से kmar पर प्रभाव पड़ता है जिसके कारण बैक पेन होता है जैसे-जैसे डिलीवरी का समय आता जाता है खुदा पेट की मांसपेशियां जो पसलियों की हड्डी तक होती है बीच से अलग होने लगती है जिसके कारण kmar में दर्द होने लगता है पेट दर्द को कम करने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय कर सकते हैं १: बहुत अधिक देर तक आप खड़े ना रहे या बहुत देरी तक एक ही अवस्था में बैठी ना रहे २: बैटरी के लिए ऐसी कुर्सियों का प्रयोग करें जो आपके पीठ को बिल्कुल सीधी रखती हो या आप तकिए गद्दे का भी प्रयोग पीठ को सीधी करने के लिए ३: घर में सावधानी बरतें अधिक भारीभरकम या ऐसे काम जिसने अधिक मेहनत की जरूरत हो उसे ना करें एक ही तरफ करवट लेकर सोए घुटनों को क्रॉस ना करें सोने के लिए नरम गद्दे का प्रयोग करें एकाएक बिस्तर से नहीं उठा पहले धीरे से उठा उसके बाद ही आप जमीन पर खड़े होइए अधिक टाइट कपड़े ना पहने क्योंकि इससे रक्त संचरण सही नहीं होगा और कमर में दर्द होगा इसी प्रकार हाई हील्स के का प्रयोग ना करें क्योंकि हाई हील से कमर दर्द बढ़ सकता है इस प्रकार के कुछ उपाय अपनाकर आप पीठ दर्द व कमर दर्द से आपको आराम मिलेगा इसके आलवा आप अपने पेरो की गर्म तेल से मलिस करे गुनगुने पानी में नमक डालकर पेरो को डुबोएं इससे पैर दर्द में राहत मिलेगी प्रेगनेंसी में पेट दर्द गैस अपच के कारण हो सकती है प्रेगनेंसी में पेट दर्द गैस अपच के कारण हो सकती है पेट दर्द को दूर करने के लिए फाइबर युक्त आहार लें जिससे कि पेट की समस्या कम होगी और पेट दर्द में भी कम हो जाएगी आप पुदीने की पत्तियों को पानी में मिलाकर इसका सेवन करें इससे भी पेट दर्द में कमी आएगी अत्यधिक टाइट कपड़े ना पहने हल्के और ढीले ढाले कपड़े पहने जिससे पेट दर्द की समस्या कम होगी
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी कमर में दर्द क्यो रहता है
उत्तर: महिला के अंदर हर समय हो रहे हार्मोन में बदलाव भी दर्द का कारण बनते हैं।  शिशु के जन्‍म के दौरान मां के पेट का भार लगातार नीचे की ओर होता है। इसलिए इस समय मांसपेशियों का पर दबाव ज्‍यादा होता है तभी गर्भवती महिला को अपना पोस्‍चर हमेशा बनाएं रखना चाहिये। टहलना, सीधे बैठना, पैरा खीचना और नीचे की ओर न झुकना आपकी कमर पर बिल्‍कुल भी दबाव नहीं डालेगें। दर्द को अगर कम करना है तो रात को सोते समय पीठ के बजाय करवट लेकर ही सोएं। कमर पर कम दबाव पडें, इसके लिए अपने घुटनों के नीचे तकिया लगाकर सोएं। अपने घुटनों के बीच तकिया लगाकर सोने से भी आप कमर दर्द से बच सकते हैं। इस समय हल्‍के तथा ढीले-ढाले कपड़े पहनने चाहिये। टाइट कपड़े पहनने से शरीर में खून का दौरा कम होने लगता है और इसी कारण मांसपेशियां दर्द होने लगती हैं। इसलिए सूती के आरामदायक कपड़े ही पहनने चाहिये। इसी के साथ हाई हील चप्‍पलें या जूते भी कमर की मांसपेशियों पर असर डालते हैं, जिस कारण दर्द होता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे मेरे पीठ में बहुत ज्यादा दर्द रहता है डॉक्टर! मेरा सी-सेक्शन हुआ था। प्लीज़ कुछ टिप्स बताइये जो मैं कर सकूँ?
उत्तर: ऐसे बहुत सारे कारण होते हैं, जिसकी वजह से सी-सेक्शन के बाद भी लम्बे समय तक पीठ का दर्द रहता है। कभी-कभी आपका वजन बहुत ज्यादा होता है , आप अपने ऊपर ध्यान नहीं दे पाते हो, हो सकता है की आपने कैल्शियम की टेबलेट बंद कर दिया हो। क्योंकि स्तनपान के समय आपके बच्चे को कैल्शियम की बहुत ही ज्यादा आवश्यकता होती है, अगर आप कैल्शियम कम लेंगी तो शरीर आपके हड्डियों से कैल्शियम ले लेता है। कभी-कभी ऐसा होता आप अपने बैठने -सोने -उठने का तरीका सही नहीं रखती है, जिस वजह से पीठ में दर्द बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। आप अपने खान-पान का ख्याल रखें, और साथ हीं थोड़ी बहुत एक्सरसाइज भी किया करें। इससे आप एक्टिव रहेंगी। योगा भी कर सकती हैं, इससे आपके बैठने के तरीके में सुधार होगा। अपने पीठ की सिंकाई किया करें। अगर बहुत ज्यादा प्रॉब्लम हो तो फ़िज़ियोथेरेपिस्ट से भी बात कर सकतीं हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें