11 महीने का बच्चा

Question: उसक vighat बहुत काम हे प्लेस खान पान बँटायें

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए खानपान साथ साथ बहुत सारी चीजों का ध्यान देना पड़ता है जिसकी वजह से बच्चे का वजन नहीं बढ़ता हैअगर आपके बेबी का वजन सही से नहीं बढ़ रहा है तोआप उसके खान पान में बदलाव करेंआप उसको ज्यादा से ज्यादा पौष्टिक भोजन देऔर कुछ ऐसी बातों का ध्यान दें जिससे बच्चों का वजन बढ़ता है 1सबसे पहले आपको इस बात का नाम देना चाहिए कि आपका बच्चा सही से खाना खा रहा है की नहीं बच्चे की नींद अगर सही से पूरी न हो तो भी बच्चों का वजन नहीं बढ़ता है 2दूसरी बात आपको इस बात का ध्यान देना चाहिए किआपको साफ सफाई के मामले में भी बच्चे की पूरी देखभाल करनी चाहिए बच्चे की अगर साफ सफाई सही से ना हो तो भी बच्चे का वजन सही से नहीं बढ़ पाता 3तीसरा आपको इस बात का ध्यान देना चाहिए किआपका बच्चा ज्यादा न रोएज्यादा रोने की वजह से भी बच्चे के बनने पर रोकथाम हो जाती हैइसलिए आप अपने बच्चे को ज्यादा न होने दें 4आप को इस बात का ध्यान देना होगा कि आप अपने बच्चे को ज्यादा से ज्यादा पौष्टिक भोजन दे जैसे दूध और दूध से बनी सभी चीजदलिया की मक्खन जी इस पनीर आदिका सेवन करेंवजन बढ़ाने के लिए अब बच्चे के खाने मेंउबले हुए अंडे एप्पल उबालकर मैश करके आटे का शीरा बेसन का शीरा सूजी का शीरा यह सब चीजें दे सकती है जिससे आपके बेबी का वजन सही हों पायेगा
Answer: ११ महीने का बच्चा अभी घर में बनने वाला सब खाना खा सकता है. आप उसे दो बार का खाना और दिन में दो से तीन बार नाश्ता दे सकते हो. खाने में दाल चावल रोटी सब्जी खिचड़ी दलीय चिल्ला पराठा ढोकला वडा फिश चिकन अंडे आप जो कहते हो दे सकते हो. नाश्ते में आप उसे पोहा मुरमुरा मखाना इडली डोसा उपमा अंडा और सभी फ्रूट्स दे सकते हो. उसे सिर्फ घर का बना पौष्टिक खाना दे. पैकेट वाला या जंक फ़ूड की आदत ना डाले.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: garbhavstha मेंं खान पान
उत्तर: जब आप प्रेगनेंट होती हैं तब यह बहुत जरूरी है कि आप अपना आहार पौष्टिक है. इससे आपको और आपके होने वाले बच्चे को पौष्टिक तत्व मिलेंगे. प्रेग्नेंसी में कुछ अधिक कैलोरी की जरूरत होती है. प्रेगनेंसी में सही आहार का मतलब है -आप क्या खा रही हैं ?ना कि कितना खा रही हैं? जंक फूड का सेवन ज्यादा ना करें. isme कैलोरी ज्यादा है पोष्टिक तत्व कम या ना के बराबर होते हैं. फोलिक एसिड आपको 1 ट्रिमस्टर में ही चालू करदेना चहिये। फ़ोलिक एसिड का होने वाले बच्चे की ग्रोथ में बहुत बड़ा योगदान रहता है। फ़ोलिक एसिड विटामिन है ।विटमिन B 9। ये आपको खाने पिने में फॉलेट नाम से मिलेगा । बाबी के इस्पीनलकार्ड के चारो और पॉलिब पेरत को सही तरीके से बंद करता है।वाहा गप नहीं आने देता। मा के लिए भी बहुत जरुरी है ।विटमिन B 12 के साथ मिलकर हेअल्थी रेड सेल्स बाँटा है। 1) दूध और डेयरी के ले सकती हैं. मलाई वाला दूध दही छाछ घर का पनीर इन सब में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन बी12 बहुत होता है. 2) सभी अनाज ,दालें . इन सब में प्रोटीन बहुत अच्छा होता है. 3) पेय पदार्थों में आप पानी bahut piyen.खास करके आप साफ पानी joki फ़िल्टर किया हुआ. ताजे फलों का रस ले. डिब्बाबंद juis nahi le. इसमें शक्कर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. 4) वसा और तेल . वेजिटेबल ऑयल का वसा एक अच्छा स्रोत है क्योंकि इसमें संतृप्त वसा अधिक होता है. इन सभी चीजों के साथ आप डॉक्टर की सलाह मानें .जो भी टेस्ट किए हैं दिए गए हैं उन्हें करवाएं समय पर. दवाइयां समय पर ले और नींद पूरी. खाना जो भी खाएं अच्छे से चबाकर खाएं. प्रेगनेंसी के समय मिल्क प्रोडक्ट calcium और प्रोटीन बहुत जरुरी होता है। डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन की मात्रा काम होने से बच्चे की ग्रोथ में बहुत अंतर आता है। प्रोटीन जरूरी पौशाक तत्वों में से है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की kaam मात्रा बच्चे के sahi विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।  बस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है।  इनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना. ओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी बहुत खासी कर रहा हे प्लेस कोई दवा बँटायें
उत्तर: हेलो डियर,,,aapka baby 11month ka ho gaya hai..मौसम में परिवर्तन के कारण बेबी को खासी हो सकती hai... खासी को ठीक करने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय अपना सकते हैं....अदरक का रस, शहद के साथ मिलाकर ya तुलसी के रस के साथ मिला कर दें ,|शहद को काली मिर्च के साथ मिलाकर बेबी को दिन में दो-तीन बार de...बेबी को हल्का गुनगुना पानी पिलाएं गुनगुने पानी से ही नहलाए लाए| मौसम के अनुसार बेबी को कपड़े पहना है सीधे पंखे के नीचे ना सुलाएं,, | बेबी को मशीन के द्वारा भाप दिलवा सकते हैं इसके लिए आप नीलगिरी का तेल या विक्स का उपयोग कर सकते हैं|बेबी को गर्म व ताजा खाना दे ,ठंडी चीजें दही ,नींबू आदि ना दे | फ्राइड फूड बेबी को भी ना खिलाए इससे खांसी की को ठीक होने में समय लग सकता है| बेबी को संतुलित आहार व पर्याप्त नींद देने का प्रयास करें जिससे की बेबी का स्वास्थ्य जल्दी कवर होगा|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: सर मेरा थ्री मंथ चल रहा हे कुछ खान पान के बारे बताये मई क्या खाऊँ ऍसिडिटी बहुत होती हे
उत्तर: प्रेगनेंसी के दरमियान हेल्दी खाना बहुत जरूरी है| जैसे कि फाइबर वाले फूड ताजे फल और ताजे फलों के जूस नारियल पानी काजू बादाम किशमिश| फाइबर वाला खाना यानी सारी हरी सब्जियां ब्रोकली बीट गाजर टमाटर इत्यादि| दिन में ज्यादा से ज्यादा पानी पिए और अपने आप को हाइड्रेटेड रखें| दो से तीन गिलास दूध पिए| हो सके उतना घर का बनाया ताजा खाना ही खाएं| बाहर का खाना ना खाएं| जंक फूड ना खाएं| प्रेगनेंसी में कुछ भी खाने से एसिडिटी जल्दी हो जाती है. इसके लिए आप खाना एक बार में बहोत सारा न खाये. थोड़ा थोड़ा करके ज्यादा बार खाइये. अगर आपको कोई कॉम्प्लीकेशन्स नहीं है तो आपसे हो सके उतना वाकिंग करे. ज्यादा पानी पिए. ये सब से आपको रहत मिलेगी. आप खाने के बाद आधा चम्मच अजवाइन पानी के साथ ले इससे भी आपको रहत होगी.
»सभी उत्तरों को पढ़ें