20 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मैरे उल्टा पाओ भी रोज़ बोहत दर्द कर्ता हें

3 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर प्रेगनेंसी में पैरों तक पर्याप्त रक्त संचार न हो पाने के कारण उसमें ऑक्सीजन की कमी से पैर दर्द होने लगता है। यह घुटनों, और पैरों की उँगलियों में भी होता है। कभी कभी पैर सुन्न पड़ सकता है।बदलते हॉर्मोन्स लेवल से पैरों में दर्द होता है। जैसे गर्भाशय का आकार बढ़ता है उस प्रकार बदन की निचली मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इस कारण महिलाओं में पैर दर्द होता है। बढ़ते वज़न के कारण उसकी पैरों की हड्डी पर प्रभाव पड़ता है जिससे मांसपेशियों और पैरों में दर्द होता है। पैरों के दर्द से बचने के लिए पैर की उँगलियों को हलके हाथ से दबाएं। साथ ही गुनगुने तेल से मालिश करें! यह धीरे धीरे बेहतर परिणाम देगा। गर्भावस्था में ऊँची हील की सैंडल न पहनें। आरामदायम फ्लैट्स और ढीली चप्पलें पहनें। इनसे भी आपके पैरों और एड़ियों को आराम मिलेगा।
Answer: hello डियर """प्रेगनेंसी में दर्द होना कॉमन है आप कुछ घरेलू उपाय से पैर दर्द को दूर कर सकती हैं | 1) एक ही पोजीशन में लंबे समय तक खड़े या बैठे ना रहे पोजीशन चेंज करते रहे | 2)सरसों तेल में लहसुन को डालकर गर्म करें और इसी गर्म तेल से पैरों की हल्की हल्की मसाज kre.. 3)पैर को लटका कर ना बैठ | 4)पौष्टिक व संतुलित आहार लें | हल्की धूप, मैं बैठे ,धूप से seविटामिन डी मिलता है जो की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है | 5) दूध ,पनीर, दही, सोयाबीन, हरी पत्तेदार सब्जियां आदि का प्रयोग भोजन में करें कैल्शियम में वृद्धि होगी ,जिससे आपके हड्डियों में मजबूती आएगी वशारीरिक दर्द में कमी होगी| 6)रात को सोते समय पैर को खुली हवा में ना रखें | 7)गर्म पानी में नमक डालकर कुछ समय तक पैरों को डूबा कर रखें इससे भी पैर दर्द में कमी आ सकती है|
Answer: हेलो डियर , प्रेगनेंसी में पैरों में दर्द होना बहुत ही कॉमन है इसका कारण वजन बढ़ जाना है जिससे खून का प्रवाह कम हो जाता है और दूसरा कारण पोटेशियम कैल्शियम मैग्नीशियम जैसे खनिज की कमी भी हो सकती है पैर दर्द से बचने के लिए आप स्टेचिंग करें पैर के पंजों को हल्का-हल्का घुमाएं हर रोज हल्की फुल्की वॉक करें जिससे पैरों की मांसपेशियां मजबूत होंगी और दर्द कम होगा साथ ही खाने में हरी सब्जियां फल फ्रूट जूस यह सब ले जिससे आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी नहीं होगी अगर कभी पैर में दर्द ज्यादा हो तो आप गर्म पानी में नीम के पत्ते डालकर boil Kare , गर्म पानी को गुनगुना करें और पैर dubaa कर रखें पैर दर्द में आराम मिलेगा
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी पीठ मे बोहत दर्द होता है रोज़
उत्तर: हेलो डियर , प्रेगनेंसी में पीठ में दर्द होना बहुत ही नॉर्मल बात है ,ज्यादातर महिलाओं में प्रेगनेंसी में पीठ दर्द की शिकायत होती ही है पीठ में दर्द होने का कारण एक तो हारमोंस में बदलाव होता है दूसरा पेट में बढ़ रहे भार का हो सकता है जिसके कारण मांस पेशियों में खिंचाव होता है और पीठ में दर्द हो सकता है पीठ दर्द को कम करने के लिए आप कोशिश करें कि अपनी बाइ और सोए सीधे पीठ के बल ना सोए घुटनों के बीच में तकिया लगाकर सोने से भी आपको पीठ दर्द में आराम मिलेगा अगर आप हाई हील की सैंडल , शूज पहनते हैं तो ना पहने यह भी एक पीठ दर्द का कारण हो सकता है साथ ही प्रेगनेंसी में dheele सूती के कपड़े पहनने चाहिए जिससे शरीर में खून का प्रवाह आसानी से हो और हम अनेक तरह के दर्द से बचेगे
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मैरे बँटे का पेट में दर्द हें
उत्तर: हेलो डियर बच्चे को पेट में दर्द है तो हो सकता है कि गैस के कारण हो आप अपने बच्चे को हैंग को पानी में मिलाकर बच्चे की नाभि के आसपास लगाएं बच्चे के खाने में हमेशा हिंग और अजवाइन का इस्तेमाल करें इससे बच्चे को गैस की समस्या नहीं होती है, इसके अलावा बच्चे को ताजा खाना ही खिलाएं बाशा खाना बिल्कुल भी नहीं खिलाए, यदि बच्चा बहुत रो रहा है तो एक बार डॉक्टर से कंसल्ट कर के बच्चे को दवा दे सकते हैं हो सकता है कि कोई इंफेक्शन हो कभी कबार जब बच्चे के दांत निकल रहे होते हैं तो बच्चे कुछ भी अपने मुंह में लेने लगते हैं गंदे हाथ है गंदे खिलौने इस वजह से भी बच्चे को इंफेक्शन हो सकता है तो बेहतर होगा कि एक बार डॉक्टर से कंसल्ट करें और डियर अपने आप से या किसी के कहने पर कोई भी बच्चे को दवा बिल्कुल भी नहीं दे
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मैरे कलेजे में दर्द मारता हें
उत्तर: हेलों आपको चेस्ट के नीचे दर्द हो रहा है . सीने में दर्द आमतौर पर जलन या एसिड रिफलक्स के कारण होता है। गर्भावस्था के दौरान होने वाला तनाव मसल्स टेंशन का कारण बनता है जिससे सीने में दर्द हो सकता है.गर्भावस्था के दौरान ब्रेस्ट्स का साइज बढ़ने लगता है जिससे मसल्स और सीने में दर्द हो सकता है।गर्भावस्था से पहले अस्थमा की समस्या होने पर भी सीने में दर्द हो सकता है। आप लेफ्ट करवट ले कर आराम करे आपको राहत मिलेगी .सीधे बैठे या खड़े हो ताकि आपकी मुद्रा सही रहे है इससे फेफड़ों में ऑक्सीजन का प्रवाह सही रहता है।चिकनाई या मसालेदार भोजन के सेवन से बचें और शराब और कैफीन के सेवन को बंद कर दें।छोटे-छोटे अंतराल पर भोजन खाएं और तुरंत भोजन करने के बाद लेटे नहीं। थोड़ी देरल टहलें।अदरक की चाय पीये .बादाम खायें इस्से आपका पाचन सही रहेगा हेल्थी आहार ले प्रॉब्लम ज़्यादा लगें तो एक बार डॉक्टर से सलाह ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें