8 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: अभी मेरा chautha वीक है मज़े आपने डायट मि क्या लेना chahiye

1 Answers
सवाल
Answer: महिला को गर्भावस्‍था के शुरुआती हफ्तों में अतिरिक्‍त फॉलिक एसिड की जरूरत होती है। जो न्‍यूरल ट्यूब बनाने के काम आती है। जो बाद में चलकर दिमाग और रीढ़ की हड्डी बनती है प्रोटीन और मिनरल्स से भरपूर कच्चाी दूध सेहत के लिए फायदेमंद है लेकिन गर्भवती महिलाएं, गर्भावस्थाक के शुरूआती दिनों में भूल से भी कच्चे दूध का सेवन न करें। ऐसे समय में उबला हुआ दूध का ही सेवन करना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को सब्जी और फल खाने की सलाह दी जाती है। लेकिन ऐसे मौके पर गर्भवती महिलाएं पपीता और अनानास खाने से बचें। गर्भवती महिला को इन सभी विटामिन और खनिजों का सेवन करना बहुत आवश्यक है| विटामिन C कैल्शियम फाइबर विटामिन D जिंक आयोडीन फोलेट विटामिन आयरन प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट फोलिक एसिड etc… दूध, अंडा, गाजर, पालक, हरी सब्जियां, ब्रोकोली, आलू, कद्दू, पीले फल, खरबूजा संतरे, संतरे का रस, स्ट्रॉबेरी, हरी पत्तेदार सब्जियां, पालक, बीट्स, ब्रोकोली, फूलगोभी, गढ़वाले अनाज, मटर,सेम, नट्स दही, दूध, चेडर पनीर, कैल्शियम-गढ़वाले खाद्य पदार्थ, सोया दूध, रस, रोटी, अनाज, गहरे हरे पत्तेदार सब्जियां.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मि 6 वीक प्रेग्नेन्ट हु मज़े अभी क्या खाना chahiye
उत्तर: apko shi quantity मि folic acid लेने ki jarurat he aap iske liye palak khaye anar khaye or इज time khoob pani piye jisse आप or apka baby dono healthy rhege
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मज़े अभी 5 वीक प्रेगैन्सी है टु मज़े क्या डायट लेना चाहिए ... और एक्सर्साइज क्या करनी चाहिए
उत्तर: अनाज, गेहूं का आटा, जई, कॉर्न फ्लैक्‍स, ब्रेड और पास्ता लें।  सूखे फल खासकर अंजीर, खुबानी और किशमिश, अखरोट और बादाम लें।राजमा, सोयाबीन, पनीर, पनीर, टोफू, दही आपकी कैल्शियम की जरूरतों को पूरा करेगा।टोन्‍ड दूध ।हरी सब्जियां जैसे पालक, ब्रोकोली, मेथी, सहजन की पत्तियां, गोभी, शिमला मिर्च, टमाटर, आंवला और मटर।विटामिन सी के लिए संतरे, स्ट्रॉबेरी, चुकंदर, अंगूर, नींबू, टमाटर, आम और नींबू पानी का सेवन बढ़ाएं।स्‍नैक्‍स में - भुना बंगाली चना, उपमा, सब्जी इडली या पोहा ले सकती हैं। गर्भावस्था में योगा------ योगावैसे तो गर्भवती महीलाओ को शुरु से नही करना चाहीये पहले तीन महीने बहुत आराम से रहना चाहीयेक योगा आसन का अभ्यास  प्रेगनेंसी के चौथे महीने से ले कर नवे महीने तक करने की सलाह दी जाती है। योगा के जरिये ना केवल तनाव दूर होता है, बल्कि प्रसव के दौरान होने वाले दर्द से भी राहत मिलती है| (1)तितली आसन--- तितली आसन को गर्भावस्था के तीसरे महीने से कर सकते है| शरीर के लचीलेपन को बढ़ाने के लिए यह आसन किया जाता है| इसे करने से शरीर के निचले हिस्से का तनाव खुलता है| इससे प्रजनन के दौरान गर्भवती महिला को दिक्कत कम होती है। तितली आसन करने के लिए दोनों पैरों को सामने की ओर मोड़कर, तलवे मिला लें, यानी पैरों से नमस्ते की मुद्रा बननी चाहिए। इसके पश्चात दोनों हाथों की उंगलियों को क्रॉस करते हुए पैर के पंजे को पकड़ें और पैरों को ऊपर-नीचे करें। आपकी पीठ और बाजू बिल्कुल सीधी होनी चाहिए। इस क्रिया को 15 से अधिक बार ना करे| (यदि इस क्रिया को करते वक्त आपको कमर के निचले हिस्से में दर्द महसूस होता हो तो इसे बिल्कुल भी न करे (2)अनुलोम विलोम--- गर्भावस्था में अनुलोम विलोम आसन करने से शरीर में रक्त का संचार बढ़ता है। इसे करने से रक्तचाप नियंत्रित होता है| प्रेगनेंसी में तनावरहित रहने के लिए इस आसन को जरूर करना चाहिए| इस आसन को करने के लिए सबसे पहले आराम से बैठे इसके बाद दाएं हाथ के अंगूठे से नाक का दाया छिद्र बंद करें और अपनी सांस अंदर की ओर खींचे। फिर उसी हाथ की दो उंगलियों से बाईं ओर का छिद्र बंद कर दें और अंघूटे को हटाकर दाईं ओर से सांस छोड़ें। इस प्रक्रिया को फिर नाक के दूसरे छिद्र से दोहराएँ। (3)---पर्वतासन गर्भावस्था में पर्वतासन करने से कमर के दर्द से निजाद मिलती है| इसे करने से आगे चलकर शरीर बेडौल नहीं होता है| इस आसन को करने के लिए सर्व प्रथम आरामआराम से बैठे। इस वक्त आपकी पीठ सीधी होनी चाहिए| अब सांस को भीतर लेते हुए दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं और हथेलियों को नमस्ते की मुद्रा में जोड़ लें। कोहनी सीधी रखें। कुछ समय के लिए इसी मुद्रा में रहें और तत्पश्चात सामान्य अवस्था में आ जाएं। इस आसन को दो या तीन से ज्यादा ना करे| योग आसन करने से पहले अपने डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: अभी मेरा अर्ली प्रेग्नेन्सी है इशके अनुसरण मुझे क्या डायट लेना चाहिए
उत्तर: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय में आप को प्रोटीन एवं कैल्शियम की सबसे ज़्यादा आवश्यकता होती है क्योंकि बच्चे की हड्डियों के विकास के लिए यह काफी आवश्यकता हैं दालें :-  प्रेग्नेंसीय में आप आपने डाइट चार्ट में हर प्रकार की साबुत या दली हुई दालें  जैसे -अरहर ,चना ,मशूर ,उरद ,मटर की दाल आदि को जरूर शामिल करें।   फाइबर युक्त्त आटा :-    प्रेग्नेंसीय में फाइबर युक्त डाइट अवशय होना चाहिए। अपने आहार में आसानी से शामिल कर सकती हैं।  मछली :-  आपको को मछली अवश्य खाना चाहिए। मछली खाने से बच्चे के मस्तिष्क और आँखों के लिए काफी अच्छी होती हैं। यह आपको प्रोटीन एवं विटामिन भी मिलती है दही :-प्रेग्नेंसीय में डाइट चार्ट में दही को अवश्य शामिल करना चाहिए। ये ध्यान रखे कि दही में कम फैट वाली हो। फल :-  प्रेग्नेंसीय में आप को ताज़ा फल अवश्य खाना चाहिए इसमे आप केला , संतरा ,सेब , अंगूर, आम, चीकू, अनार, मुस्समी, साथ ही विटामिन सी युक्त  फल भी जरूर शमिल करे। दूध :-  प्रेग्नेंसीय में दूध जरूर पीना चाहिए। जिससे आपको बेबी हो जाने के फीडिंग कराने में काफी आसानी हो जायेगी। जिसके लिए अपने आहार में दूध,पनीर और दूध से बनी चीजें ले सकती है ड्राई फ्रूट्स :- प्रेग्नेंसीय में सूखे हुए मेवों का सेवन जरूर करना चाहिए। अगर आप चाहे तो नारियल को छोटे -छोटे टुकड़ों को दिन में कई बार खाती हैं। हरे -पत्तेदार सब्जियां :-  प्रेग्नेंसीय में ताज़ा और हरे -पत्तेदार सब्जी को अपने आहार में अवश्य शामिल करें। जिनसे उनके पेट में रहे बच्चे को प्रोटीन एवं विटामिन सम्पूर्ण मात्रा में मिले नारियल पानी :- आपको रोज नारियल पानी पीना चाहिए , इससे आपको पानी की कमी नही होगी और आपके लिए भी बहुत अच्छा है और फायदे मंद होता है नारियल पानी ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें