प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए? (Pregnancy me kya nahi khana chahiye)

प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए? (Pregnancy me kya nahi khana chahiye)

कई खाने की चीजें आमतौर पर हमारी सेहत के लिए अच्छी होती हैं, लेकिन गर्भावस्था के दौरान इन्हें खाने से आपकी सेहत खराब हो सकती है। इसलिए ऐसी चीजें ना खाना ही आपके लिए बेहतर है, लेकिन आपको कैसे पता चलेगा कि गर्भावस्था में क्या नहीं खाना चाहिए (pregnancy me kya nahi khana chahiye)? आज के ब्लॉग में आप जानेंगे कि गर्भावस्था के दौरान आपको क्या नहीं खाना चाहिए, किन चीजों का सेवन कम कर देना चाहिए और गर्भावस्था में भोजन से जुड़ी कुछ ज़रूरी बातें।

पढ़िए - प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए (pregnancy me kya khana chahiye)

क्या गर्भावस्था में पपीता खाना सेफ है? (Kya pregnancy me papita safe hai)

क्या गर्भावस्था में कच्चा दूध पीना सेफ है? (Kya pregnancy me kaccha dudh safe hai)

क्या गर्भावस्था में अनानास (पाइनएप्पल) खाना सेफ है? (Kya pregnancy me pineapple safe hai)

क्या गर्भावस्था में ज्यादा मर्करी (पारा) युक्त मछलियाँ खाना सेफ है? (Kya pregnancy me fish kha sakte hai)

क्या गर्भावस्था में माँस खाना सेफ है? (Kya pregnancy me meat khana safe hai)

क्या गर्भावस्था में शराब पीना सेफ है? (Kya pregnancy me sharab pi sakte hai)

क्या गर्भावस्था में धूम्रपान करना सेफ है? (Kya pregnancy me smoking kar sakte hai)

गर्भावस्था के दौरान किन चीजों का सीमित मात्रा में सेवन करें? (Limit these things from your pregnancy diet in hindi)

क्या गर्भावस्था में अदरक खाना सेफ है? (Kya pregnancy me adrak khana safe hai)

क्या गर्भावस्था में कॉफी पीना सेफ है? (Kya garbhavastha me coffee pina safe hai)

क्या गर्भावस्था में कटहल खाना सेफ है? (Kya pregnancy me kathal khana safe hai)

क्या गर्भावस्था में बैंगन खाना सेफ है? (Kya garbhavastha me bengan khana safe hai)

क्या गर्भावस्था में तिल खाना सेफ है? (Kya pregnancy me til kha sakte hai)

क्या प्रेगनेंसी में व्रत या उपवास करना सेफ है? (Kya pregnancy me fasting ya vrat kar sakte hai)
पढ़िए - प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए (pregnancy me kya khana chahiye)

गर्भावस्था के दौरान कुछ चीजों का सेवन माँ और बच्चे के स्वास्थ्य के लिये ठीक नहीं होता है। इसलिए गर्भवती महिला का भोजन (Pregnancy diet in hindi) ऐसा होना चाहिए, जिसमें ये चीजें ना हों (Pregnancy me kya nahi khana chahiye):

1.क्या गर्भावस्था में पपीता खाना सेफ है? (Kya pregnancy me papita safe hai) :

गर्भावस्था के दौरान पपीता खाने को लेकर ज्यादातर गर्भवती महिलाएं असमंजस में रहती हैं, क्योंकि उन्हें पपीता खाने से मना किया जाता है। कच्चा या अधपका पपीता नहीं खाना चाहिए, क्योंकि कच्चे पपीते में लेटेक्स (latex in hindi) नामक एक पदार्थ होता है जो गर्भाशय में संकुचन (uterine contraction in hindi) पैदा करता है। इससे समय पूर्व प्रसव (premature delivery in hindi) और गर्भपात (miscarriage in hindi) का खतरा होता है। असल में अच्छी तरह से पका हुआ पपीता खाने से आपकी सेहत को कोई नुकसान नहीं होता।

2.क्या गर्भावस्था में कच्चा दूध पीना सेफ है? (Kya pregnancy me kaccha dudh safe hai)

गर्भवती महिला के लिए भोजन में दूध होना ज़रूरी है, लेकिन गर्भवती को कच्चा यानी बिना उबला दूध पीने के लिए ना दें (pregnancy me kya nahi khana chahiye), इस दूध में डायरिया (diarrhea in hindi) व टीबी (TB in hindi) आदि रोगों के कीटाणु (वायरस) हो सकते हैं। इसलिए गर्भवती को दूध पिलाने से पहले दूध को अच्छी तरह उबाल लें।

3.क्या गर्भावस्था में अनानास (पाइनएप्पल) खाना सेफ है? (Kya pregnancy me pineapple safe hai)

गर्भावस्था के शुरुआती तीन माह में अनानास का बिल्कुल सेवन ना करें (pregnancy me kya nahi khana chahiye), क्योंकि यह शरीर में ब्रोमेलैन (bromelain in hindi) नामक पदार्थ की मात्रा बढ़ा देता है, जिससे आपका गर्भपात (miscarriage in hindi)हो सकता है। गर्भावस्था के तीन माह बाद भी अनानास बहुत कम मात्रा में खाएं, क्योंकि इससे समय से पहले प्रसव होने का खतरा होता है। aगर्भावस्था के दौरान आप चाहे तो सावधानी के तौर पर अनानास का बिल्कुल सेवन ना करें (pregnancy me kya nahi khana chahiye)।

4.क्या गर्भावस्था में ज्यादा मर्करी (पारा) युक्त मछलियाँ खाना सेफ है? (Kya pregnancy me fish kha sakte hai)

मिथाइल मर्करी एक हानिकारक पदार्थ है, जो प्लेसेंटा (placenta in hindi) के ज़रिए गर्भ में पल रहे शिशु के शरीर में जाकर उसके दिमाग, तंत्रिका तंत्र और किडनी (kidney in hindi) के विकास में बाधा पैदा करता है। ज्यादातर माँसाहारी मछलियों में मर्करी (mercury in hindi) अधिक मात्रा में होता है, इनमें शार्क, टूना , किंग मैकरेल आदि शामिल हैं। इसलिए गर्भावस्था के दौरान इन्हें ना खायें (pregnancy me kya nahi khana chahiye) हालांकि गर्भवती महिला का भोजन ऐसी पौष्टिक मछलियों से भरपूर होना चाहिये जिनमें मर्करी की मात्रा कम हो।
पढ़िए - प्रेगनेंसी में तैलीय मछली के फायदे (Pregnancy me machli ke fayde)
5. क्या गर्भावस्था में माँस खाना सेफ है? (Kya pregnancy me meat khana safe hai)

कच्चा या अधपका माँस खाना गर्भवती के साथ ही शिशु की सेहत के लिये भी नुकसानदायक है (pregnancy me kya nahi khana chahiye) इससे माँ को टॉक्सोप्लाज़्मा (toxoplazma in hindi) संक्रमण (एक प्रकार का संक्रमण जिससे बाद में अंधापन व मानसिक परेशानियां हो सकती हैं) हो सकता है और यह संक्रमण माँ से शिशु में भी जा सकता है। इसलिए गर्भवती महिला के लिए भोजन (pregnancy diet in hindi) में कच्चा माँस नहीं होना चाहिए।
जानिये - गर्भावस्था में कम वसा वाला माँस (लीन मीट) क्यों खाना चाहिए (pregnancy me lean meat)
6. क्या गर्भावस्था में शराब पीना सेफ है? (Kya pregnancy me sharab pi sakte hai)

जब भी आप शराब पीती हैं, तो उसमें उपस्थित एल्कोहल (alcohol in hindi) नामक पदार्थ आपके ख़ून में घुल जाता है। गर्भावस्था में आपका शिशु गर्भनाल के ज़रिए आपके खून से पोषण पाता है, इसलिए आपके खून से यह एल्कोहल शिशु के शरीर में पहुंच सकता है। इससे शिशु की सीखने व समझने की क्षमता घट सकती है। इसलिए गर्भावस्था के दौरान शराब ना पीयें (pregnancy me kya nahi khana chahiye)।
पढ़िए - गर्भावस्था में दूध पीने के फायदे (pregnancy me doodh peene ke fayde)
7. क्या गर्भावस्था में धूम्रपान करना सेफ है? (Kya pregnancy me smoking kar sakte hai)

गर्भावस्था में धूम्रपान बिल्कुल ना करें (pregnancy me kya nahi khana chahiye), क्योंकि इसमें मौजूद निकोटिन (nicotine in hindi) और कार्बन मोनोऑक्साइड (carban mono oxide in hindi) नामक बुरे रसायन शिशु के शरीर में ऑक्सीजन (oxigen in hindi) की आपूर्ति में बाधा पैदा करते हैं। इसकी वजह से शिशु सही तरह से विकसित नहीं हो पाता है और उसे दिमाग संबंधी बीमारियां होने का खतरा भी पैदा हो जाता है। इसके अलावा गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान से समय पूर्व प्रसव (premature delivery in hindi) की आशंका बढ़ जाती है।

गर्भवती को कभी कभी कुछ खास चीजें जैसे आइसक्रीम, चॉकलेट, इमली आदि खाने का मन करता है (food cravings in pregnancy in hindi), लेकिन ज्यादा मीठा खाने से आपको गर्भावस्था में शुगर (गर्भकालीन मधुमेह) हो सकती है। इसलिए गर्भवती महिला का भोजन ज्यादा मीठा नहीं होना चाहिए (pregnancy me kya nahi khana chahiye) इसके अलावा कुछ महिलाएं मिट्टी, कोयला आदि खाती हैं, इसे पिका सिन्ड्रोम (Pica Syndrome in hindi) कहते हैं, यह पोषक तत्वों की कमी से होता है। इसलिए मिट्टी, कोयला आदि ना खायें (pregnancy me kya nahi khana chahiye) इससे माँ व शिशु के स्वास्थ्य पर गलत असर पड़ता है।

गर्भावस्था के दौरान किन चीजों का सीमित मात्रा में सेवन करें? (Limit these things from your pregnancy diet in hindi)

पढ़िए - प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए (pregnancy me kya khana chahiye)

1.क्या गर्भावस्था में अदरक खाना सेफ है? (Kya pregnancy me adrak khana safe hai)

जी हाँ, प्रेगनेंसी में सीमित मात्रा में (रोज़ाना एक ग्राम) ताज़ा अदरक खाना आपके लिए बिल्कुल सुरक्षित है, लेकिन गर्भावस्था की पहली तिमाही में इसका उपयोग बेहद कम मात्रा में करें। आप अदरक को सूप, सब्जी या चटनी में डालकर खा सकती हैं। इसकी तासीर गर्म होने की वजह से इसे ज्यादा मात्रा में खाने से पहली तिमाही में गर्भपात होने का खतरा हो सकता है।

इसके साथ ही, सूखा अदरक (सौंठ) आपको नुकसान पहुंचा सकता है, इसलिए गर्भावस्था में इसे ना खाएं। इसलिए गर्भावस्था में अदरक का उपयोग संभलकर, डॉक्टर की सलाह से ही करें।

2.क्या गर्भावस्था में कॉफी पीना सेफ है? (Kya garbhavastha me coffee pina safe hai)

कॉफी में कैफ़ीन (caffeine in hindi) नामक एक तत्व होता है, जो आपके गर्भ में पल रहे शिशु के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए गर्भावस्था के दौरान कॉफी का सीमित मात्रा में सेवन करें (pregnancy me kya nahi khana chahiye)। आप रोज एक कप कॉफी पी सकती हैं। ज्यादा कॉफी पीने से गर्भपात (miscarriage in hindi) या कमज़ोर बच्चा पैदा होने जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

पढ़िए - गर्भावस्था में अंडा खाने के फायदे (pregnancy me anda khane ke fayde)

3.क्या गर्भावस्था में कटहल खाना सेफ है? (Kya pregnancy me kathal khana safe hai)

हालांकि गर्भावस्था के दौरान कटहल (kathal) खाना सुरक्षित है, लेकिन फिर भी इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करें। अगर आपको इससे किसी प्रकार की परेशानी (allergy in hindi) या रक्त सम्बंधी समस्या है तो कटहल ना खाएं (pregnancy me kya nahi khana chahiye) इसके अलावा ज्यादा कटहल (kathal in hindi) खाने से आपको कब्ज़ की समस्या भी होती है, क्योंकि इसमें फाइबर (fibre in hindi) की मात्रा काफी ज्यादा होती है। कटहल (kathal in hindi) खून में शुगर (sugar in hindi) बढ़ा सकता है, इसलिए अगर आपको शुगर है तो गर्भावस्था में कटहल ना खाएं।
पढ़िए - क्या प्रेगनेंसी में गुड़ खा सकते हैं (pregnancy me gud kha sakte hai)

4.क्या गर्भावस्था में बैंगन खाना सेफ है? (Kya garbhavastha me bengan khana safe hai)

गर्भावस्था के दौरान बैंगन का सेवन बहुत कम मात्रा में करना चाहिये, क्योंकि ज्यादा मात्रा में बैंगन खाने से गर्भपात (miscarriage in hindi) का खतरा होता है। आप हफ़्ते में एक बार थोड़ी बैंगन की सब्जी खा सकती हैं, लेकिन अगर चाहें तो सावधानी के तौर पर गर्भावस्था के दौरान बैंगन ना खायें।

5. क्या गर्भावस्था में तिल खाना सेफ है? (Kya pregnancy me til kha sakte hai)

आमतौर पर सभी गर्भवती को तिल की गर्म तासीर की वजह से इसका सेवन ना करने की सलाह देते हैं। गर्भावस्था के पहले तीन माह में तिल का सेवन ना करें, इससे गर्भपात (miscarriage in hindi) हो सकता है। लेकिन तीन माह के बाद आयरन (iron in hindi), कैल्शियम (calcium in hindi), प्रोटीन (protein in hindi), और विटामिन बी, सी व ई से भरपूर तिल का कम मात्रा में सेवन करना सुरक्षित है।

क्या प्रेगनेंसी में व्रत या उपवास करना सेफ है? (Kya pregnancy me fasting ya vrat kar sakte hai)

हमारी संस्कृति में त्यौहार और उत्सवों का बहुत महत्व है। आमतौर पर उपवास यानी व्रत भारतीय घरों में काफी प्रचलित हैं, विशेष धार्मिक अवसरों, पूजा आदि के दौरान महिलाएं व पुरुष व्रत करते हैं। मगर गर्भवती महिला को उपवास नहीं करना चाहिए। गर्भवती महिला का भोजन ना खाना उसकी सेहत खराब कर सकता है। गर्भवती के भूखे रहने से महिला के शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो सकती है, जिससे शिशु की सेहत भी खराब हो सकती है।

गर्भावस्था के दौरान बढ़ते वजन को कम करने के लिए कुछ लोग गर्भवती महिला का भोजन घटाने की सलाह देते हैं। ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से गर्भवती के शरीर में आयरन (iron in hindi), फोलिक एसिड (folic acid in hindi), विटामिन (vitamin in hindi) और अन्य पोषक तत्वों की बहुत ज्यादा कमी हो सकती है, जिससे गर्भपात (miscarriage in hindi)), समयपूर्व प्रसव, शिशु के विकास में बाधा, या शिशु के दिमागी रूप से कमज़ोर होने का ख़तरा रहता है। इसलिए गर्भावस्था में भोजन (pregnancy diet in hindi) संतुलित मात्रा में खाएं। इस दौरान उपवास ना करें और वज़न कम करने के लिए खाने में कटौती भी ना करें।

गर्भवती महिला का भोजन उसके बेहतर स्वास्थ्य और शिशु के सही विकास के लिए बहुत ज़रूरी है। ब्लॉग को पढ़कर आप जान ही गए होंगे कि गर्भावस्था के समय गर्भवती को क्या नहीं खाना चाहिए (pregnancy me kya nahi khana chahiye), तो अपने खाने पीने का खास ख़याल रखें और स्वस्थ रहें। गर्भावस्था में आपका स्वस्थ रहना और अच्छा खाना ही शिशु के अच्छे स्वास्थ्य का उपाय है।

इस ब्लॉग के विषय - क्या गर्भावस्था में पपीता खाना सेफ है? (Kya pregnancy me papita safe hai), क्या गर्भावस्था में कच्चा दूध पीना सेफ है? (Kya pregnancy me kaccha dudh safe hai), क्या गर्भावस्था में अनानास (पाइनएप्पल) खाना सेफ है? (Kya pregnancy me pineapple safe hai), क्या गर्भावस्था में ज्यादा मर्करी (पारा) युक्त मछलियाँ खाना सेफ है? (Kya pregnancy me fish kha sakte hai), क्या गर्भावस्था में माँस खाना सेफ है? (Kya pregnancy me meat khana safe hai), क्या गर्भावस्था में शराब पीना सेफ है? (Kya pregnancy me sharab pi sakte hai), क्या गर्भावस्था में धूम्रपान करना सेफ है? (Kya pregnancy me smoking kar sakte hai), गर्भावस्था के दौरान किन चीजों का सीमित मात्रा में सेवन करें? (Limit these things from your pregnancy diet in hindi), क्या गर्भावस्था में अदरक खाना सेफ है? (Kya pregnancy me adrak khana safe hai), क्या गर्भावस्था में कॉफी पीना सेफ है? (Kya garbhavastha me coffee pina safe hai), क्या गर्भावस्था में कटहल खाना सेफ है? (Kya pregnancy me kathal khana safe hai), क्या गर्भावस्था में बैंगन खाना सेफ है? (Kya garbhavastha me bengan khana safe hai), क्या गर्भावस्था में तिल खाना सेफ है? (Kya pregnancy me til kha sakte hai), क्या प्रेगनेंसी में व्रत या उपवास करना सेफ है? (Kya pregnancy me fasting ya vrat kar sakte hai)
नए ब्लॉग पढ़ें
Healofy Proud Daughter