स्तनपान के दौरान महिला को होने वाली समस्याएं और उपचार के घरेलू नुस्खे (Breastfeeding problems and solutions in hindi)

स्तनपान के दौरान महिला को होने वाली समस्याएं और उपचार के घरेलू नुस्खे (Breastfeeding problems and solutions in hindi)
माँ और बच्चे का रिश्ता इस दुनिया में सबसे ख़ास और अनोखा होता है। शिशु को स्तनपान करवाते समय एक माँ को मिलने वाली खुशी का एहसास बहुत प्यारा होता है। पहली बार माँ बनने वाली महिलाओं के लिए अपने शिशु को स्तनपान (stanpan) या ब्रेस्ट फीडिंग कराना थोड़ा मुश्किल हो सकता है और नवजात शिशु को भी कभी कभी दूध पीने में कुछ समस्याओं (breastfeeding problems in hindi) का सामना करना पड़ता है। ऐसे में नई माँ अपने शिशु के लिए चिंतित हो जाती हैं, अगर आप भी अपनी स्तनपान से जुड़ी समस्याओं से परेशान हैं, तो बेफिक्र हो जाइए, क्योंकि आज के ब्लॉग में हम आपको स्तनपान के दौरान माँ को होने वाली कुछ आम समस्याओं और उनके उपचार ले लिए घरेलू नुस्खे बता रहे हैं। स्तनों में दर्द, सूजन, आकार में बदलाव (Breastfeeding problems in hindi) रूखे या फटे निप्पल्स (Breastfeeding problems in hindi) स्तनों में दूध ना होना (Breastfeeding problems in hindi) स्तनों में दूध ज़्यादा होना (Breastfeeding problems in hindi) निप्पल उल्टे होना (Breastfeeding problems in hindi) शिशु के स्तनपान का समय मालूम ना होना (Breastfeeding problems in hindi) बच्चे का ठीक से दूध न पीना (Breastfeeding problems in hindi) शिशु का स्तन को काटना (Breastfeeding problems in hindi) घर से बाहर शिशु को दूध पिलाना (Breastfeeding problems in hindi) माँ के बुखार होने पर स्तनपान (Breastfeeding problems in hindi) शिशु का स्तनपान बंद करवाना (Weaning in hindi)
समस्या कारण समाधान
स्तनों में दर्द या सूजन, आकार में बदलाव (Breastfeeding problems in hindi)
  • शरीर में हार्मोनल बदलाव (hormones in hindi)
  • शिशु को स्तनपान (stanpan) करवाना
  • स्तनों में ज़्यादा दूध होना
  • निप्पल्स ज्यादा संवेदनशील होना
  • स्तनों को रुखा ना रहने दें, गर्म पानी का सेंक लें।
  • हल्के हाथों से नारियल तेल/ब्रेस्ट क्रीम से मालिश करें।
  • सही आकार (साइज) की ब्रा पहनें।
  • स्तनों का दर्द (breast pain in hindi) ना ठीक हो तो डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें।
रूखे या फटे निप्पल्स (Breastfeeding problems in hindi)
  • साबुन का ज्यादा इस्तेमाल
  • हार्मोनल बदलाव
  • मौसम में बदलाव
  • हल्के हाथों से मसाज कर सकती हैं।
  • एक बार इस बारे में डॉक्टर से बात कर लें।
स्तनों में दूध ना होना (Breastfeeding problems in hindi)
  • रात में ज़्यादा स्तनपान
  • थायरॉइड की समस्या (thyroid in pregnancy in hindi)
  • संतुलित व पौष्टिक खाना ना खाना
  • शरीर में कमजोरी
  • तनाव
  • सौंफ, जीरा, दाल, सूखे मेवे, तुलसी ,हरी सब्ज़ियाँ, लहसुन, मेथी आदि चीजों के सेवन से दूध बढ़ सकता है। (how to increase breast milk in hindi)
  • स्तनों में दूध ना होने की परेशानी होने पर डॉक्टर आमतौर पर शिशु को फॉर्मूला दूध (formula milk in hindi) पिलाने की सलाह देते हैं।
स्तनों में दूध ज़्यादा होना (Breastfeeding problems in hindi)
  • शिशु का कम दूध पीना (breastfeeding problems in hindi)
  • शिशु का दूध ना खींच पाना
  • माँ का ज्यादा सेहतमंद होना
  • अतिरिक्त दूध अंगुली और अंगूठे से हल्के हाथों से दबाकर निकाल दें।
  • आप ठंडे पत्तागोभी के पत्ते स्तनों पर लगाएं - इसमें दूध को सुखाने के तत्व होते हैं।
निप्पल उल्टे होना (Breastfeeding problems in hindi)
  • जन्म से निप्पल उल्टे होना
  • निप्पल्स को हल्के हाथों से पकड़ कर बाहर निकालने की कोशिश करें।
  • स्तनों को मुलायम रखें - स्तनों की क्रीम लगा सकती हैं।
  • ज़्यादा परेशानी होने पर डॉक्टर की सलाह लें।
शिशु के स्तनपान का समय मालूम ना होना (Breastfeeding problems in hindi)
  • बच्चा पालने का अनुभव ना होना
  • शिशु का स्तनपान (stanpan) करने का समय एक डायरी में लिखकर पता लगा सकती हैं, कि वह दूध किस समय पीता है।
  • आप उसके व्यवहार से पता कर सकती हैं कि उसका पेट भरा है या नहीं।
बच्चे का ठीक से दूध न पीना (Breastfeeding problems in hindi)
  • आपके स्तन का निप्पल छोटा होने की वजह से ठीक से शिशु के मुंह में ना आना
  • शुरुआत में शिशु को दूध पीना ना आना
  • स्तनों से ठीक से दूध ना आना
  • नियमित रूप से स्तन की मालिश करें और निप्पल को हल्के हाथों से बाहर खींचें।
  • डॉक्टर से संपर्क करें कि कहीं शिशु को या आपको कोई शारीरिक परेशानी तो नहीं है (breastfeeding problems in hindi)।
शिशु का स्तन को काटना (Breastfeeding problems in hindi)
  • स्तन में दूध ना बनना
  • शिशु के दांत निकलने की संभावना
  • कटे हुए स्तन से दूध ना पिलाएं, अगर सम्भव हो तो कुछ समय तक दूसरे स्तन से दूध पिलायें।
  • गुनगुने पानी का सेंक करें।
  • स्तनों के दर्द (breast pain in hindi) को कम करने के लिए बर्फ भी लगा सकती हैं
  • दर्द ज़्यादा बढ़े तो एक बार अपने डॉक्टर से ज़रूर सलाह लें।
घर से बाहर शिशु को दूध पिलाना (Breastfeeding problems in hindi)
  • घर से बाहर शिशु को भूख लगना
  • बाहर जाने से पहले एक बार स्तनपान (stanpan) करवायें, ताकि शिशु का पेट भरा हो।
  • आरामदायक व ढीले कपड़े पहनें ताकि बाहर भी शिशु को आसानी से स्तनपान (breastfeeding in hindi) करा सके।
  • किसी जानकार या अन्य किसी महिला से स्तनपान (stanpan) कराने के लिए सही जगह के बारे में पूछें।
माँ के बुखार होने पर स्तनपान (Breastfeeding problems in hindi)
  • आमतौर पर माँ शिशु को दूध पिला सकती है।
  • संक्रामक रोग होने पर डॉक्टर की सलाह लें और अगर डॉक्टर कोई दवाई दे तो उससे पूछ लें, कि इस दवाई को खाने से आपके दूध के जरिये शिशु पर कोई गलत असर तो नहीं पड़ेगा।
शिशु का स्तनपान बंद करवाना (Weaning in hindi)
  • निप्पल में शिशु के बड़े दाँत चुभना
  • स्तनपान (stanpan) कराने वाली माँ के गर्भ में दूसरा बच्चा होना
  • माँ को स्तन संबंधी समस्या होना
  • अगर शिशु एक वर्ष से कम आयु का है, तो उसे डॉक्टर की सलाह से फॉर्मूला दूध (formula milk in hindi) पिलायें।
  • धीरे धीरे शिशु को दूध पिलाना कम कर दें।
  • एक वर्ष या अधिक आयु के बच्चे को हल्का ठोस आहार, फलों का जूस, दाल का पानी, सब्जियों का सूप, आदि चीजें देना शुरू करें।
अपने बच्चे को स्तनपान (breastfeeding in hindi) कराना हर माँ के लिए एक बेहद ख़ास अहसास होता है। नई माँओं के लिए इस रिश्ते की शुरुआत करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, लेकिन एक बार माँ व शिशु के बीच स्तनपान का अनोखा रिश्ता बन जाने के बाद सब बहुत आसान हो जाता है। शिशु को स्तनपान करवाने के दौरान कभी कभी माँ या शिशु को कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है (breastfeeding problems in hindi), मगर ऊपर बताए गए घरेलू नुस्खों से आपकी स्तनपान (stanpan) से जुड़ी ज्यादातर समस्याएं आसानी से हल हो सकती हैं।
इस ब्लॉग के विषय - स्तनों में दर्द, सूजन, आकार में बदलाव (Breastfeeding problems in hindi), रूखे या फटे निप्पल्स (Breastfeeding problems in hindi),स्तनों में दूध ना होना (Breastfeeding problems in hindi), स्तनों में दूध ज़्यादा होना (Breastfeeding problems in hindi), निप्पल उल्टे होना (Breastfeeding problems in hindi), शिशु के स्तनपान का समय मालूम ना होना (Breastfeeding problems in hindi), बच्चे का ठीक से दूध न पीना (Breastfeeding problems in hindi), शिशु का स्तन को काटना (Breastfeeding problems in hindi), घर से बाहर शिशु को दूध पिलाना (Breastfeeding problems in hindi), माँ के बुखार होने पर स्तनपान (Breastfeeding problems in hindi), शिशु का स्तनपान बंद करवाना (Weaning in hindi)
नए ब्लॉग पढ़ें